जुम्मा गांव आपदा में मृतकों की संख्या 5 हुयी, धामी गांव में पहुंचे

Spread the love

देहरादून/ पिथौरागढ़, 31 अगस्त

पिथौरागढ़ जिले की धारचुला तहसील के जुम्मा गांव में 2 और शवों के बरामद होने से वहां 29 अगस्त अतिवृष्टि के कारण हुये भूस्खलन में मरने वालों की संख्या 5 हो गयी है। दो व्यक्ति अभी भी लापता हैं जिनकी तलाश जारी है। इस त्रासदी में दो लोग गंभीर रूप से घायल हुये हैं। मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मंगलवार को जुम्मा गांव पहुंच कर स्थिति का जायजा लिया और प्रभावित परिवारों को सान्त्वना दी।

 

राज्य आपदा प्रबंधन विभाग की ओर से जारी विज्ञप्ति के अनुसार जिन मृतकों के शव बरामद हुये हैं उनमें योगा सिंह की पुत्रियां संजना, शिवानी और रेनू, भ्मती सुनीता देवी और लालसिंह की 75 वर्षीय पत्नी पार्वती शामिल हैं। लापता व्यक्तियों में चन्दर सिंह और उनकी पत्नी हजारी देवी शामिल है। घायलों में एक एक व्यक्ति को पिथौरागढ़ जिला अस्पताल रेफर किया गया है। लापता लोगों की तलाश में 13 सदस्यीय टीम लगी हुयी है।
मंगलवार को प्रदेश के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पिथौरागढ़ जनपद के सीमांत तहसील धारचूला के आपदा प्रभावित क्षेत्र ग्राम जुम्मा पंहुचकर विगत दिनों क्षेत्र में हुई भारी वर्षा से हुई क्षति का जायजा लिया गया, तथा आपदा प्रभावितों से मिले व उनका हाल जाना। इस दौरान उन्होंने जुम्मा के जामुनी तोक में आपदा से लापता व्यक्तियों की खोजबीन हेतु चलाए जा रहे रेस्क्यू कार्य का भी जायजा लिया गया। इस दौरान उन्होंने आपदा प्रभावित क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण कर नुकसान का जायजा भी लिया गया। उन्होंने जुम्मा के एलागाड़ स्थितएसएसबी कैम्प में जुम्मा के जामुनी एवं सिरौउयार तोक के आपदा प्रभावितों से मिलकर शोक संवेदना व्यक्त करते हुए दुःख व्यक्त किया गया।

इस दौरान प्रभावित परिवारों को प्रति मृतक 4 लाख रुपए की आर्थिक सहायता का चेक प्रदान किया गया। मुख्यमंत्री ने कहा कि 1 लाख रुपये की अतिरिक्त धनराशि प्रति मृतक मुख्यमंत्री आर्थिक सहायता कोष से भी परिवार को सहायता के रूप में उपलब्ध कराई जाएगी।  उन्होंने कहा कि क्षेत्र का भू गर्भीय परीक्षण कराते हुए सुरक्षा के कार्य कराए जाएंगे। इस दौरान उन्होंने क्षेत्रीय जनता की समस्याएं भी सुनी। उन्होंने बरम के गोगोई में भू कटाव को रोके जाने हेतु सुरक्षा दीवार का निर्माण करने की घोषणा भी की। मुख्यमंत्री ने कहा कि आगामी एक माह हेतु क्षेत्र में हैलीसेवा को बढ़ा दिया गया है। आवश्यकता पड़ने पर इसे आगे भी बढ़ाया जाएगा। उन्होंने कहा कि धारचूला काली नदी किनारे तटबन्ध निर्माण हेतु सिंचाई विभाग द्वारा तैयार 42 करोड़ की धनराशि के प्रस्ताव को स्वीकृति प्रदान हेतु शासन से कार्यवाही की जाएगी।मुख्यमंत्री ने कहा कि धारचूला के ग्वाल गांव में सुरक्षा के कार्य किए जाएंगे। व्यास खोतिला के भू कटाव की सुरक्षा हेतु धनराशि दी जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार जो भी घोषणा कर रही है उसे धरातल पर अवश्य ही साकार कर रही है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!