मुनस्यारी में पकड़ी गई अवैध इमारती लकड़ी . प्राथमिकी दर्ज नहीं हुई

Spread the love
मुनस्यारी, 27 अगस्त।
जीआईसी मुनस्यारी में पकड़ी गई अवैध इमारती लकड़ी के मामले में एक हफ्ते से प्राथमिकी दर्ज नहीं होने पर जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने वन विभाग तथा पुलिस के खिलाफ़ मौर्चा खोल दिया है। कहा कि चार दिन के भीतर वैधानिक कार्यवाही नहीं हुई तो वह पुलिस थाने में धरना प्रदर्शन करेंगे। जिले के एक कैबिनेट मंत्री पर मामले को दबाने का आरोप लगाया।इस आशय का पत्र जिलाधिकारी को भेज दिया है।
कुछ दिनो पूर्व जीआईसी के एक कक्ष से भारी मात्रा में लाखो रुपये की लागत की इमारती लकड़ी पुलिस ने पकड़ी थी।
थानाध्यक्ष ने मय पुलिस बल अवैध इमारती लकड़ी पकड़ी। पुलिस ने ही वन विभाग को मौके पर बुलाया। अवैध इमारती लकड़ी भाजपा नेता का होने के कारण नाटकीय ढंग से पुलिस पिक्चर से गायब हो गई। वन विभाग को बिना फर्द बनाए लकड़ी सौपकर पुलिस गायब हो गई।
जिला पंचायत सदस्य जगत मर्तोलिया ने आज इस ठंडे बस्ते में डाल दिए गए मामले को उठाकर फिर इस मामले को हवा दे दी है। मर्तोलिया ने कहा कि  पुलिस ने मुखबिरी के आधार पर छापा मारा। उसके बाद सरकार के एक कबीना मंत्री के फोन करने पर पुलिस अधीक्षक के फोन आने पर थानाध्यक्ष खुद ब खुद मामले से हट गये। मर्तोलिया ने कहा कि छापामारी के बाद सरकार के कबीना मंत्री, पुलिस अधीक्षक, थानाध्यक्ष मुनस्यारी का काँल डिटेल निकाला जाय, तो दूध का दूध तथा पानी का पानी हो जाएगा।
जिपं सदस्य मर्तोलिया ने कहा कि मुनस्यारी के जंगलो को तस्करो ने साँफ कर दिया है। लाखो रुपये की अवैध इमारती लकड़ी पकड़ने के बाद कोई कार्यवाही का न होना समाज को अच्छा संदेश नहीं दे रहा है।
मर्तोलिया ने कहा कि पुलिस की भूमिका संदेहजनक रही है। अब वन विभाग चुप बैठकर नये संदेहो को जन्म दे रहा है।
कहा कि पूरे मामले की उच्च स्तरीय जांच होनी चाहिए। जांच समिति के सामने वह लिखित में काबीना मंत्री का नाम सार्वजनिक करेंगे। पुलिस इससे पहले काँल डिटेल निकालकर सुरक्षित रख ले।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!