तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी मुरादाबाद के एफओईसीएस में 36 दिनी ऑनलाइन प्रौद्योगिकी आधारित उद्यमिता विकास कार्यक्रम-टीईडीपी का शंखनाद

Spread the love

 

  • ख़ास बातें
    दुनिया के नामचीन शिक्षाविदों और उद्यमियों ने दिया उद्यमिता प्रशिक्षण
    छह सप्ताह की टीईडीपी में देशभर के 200 से अधिक फैकल्टी होंगे प्रशिक्षित
    टीएमयू के रजिस्ट्रार बोले, टीईडीपी उद्यमियों के लिए श्रेष्ठ मंच
    प्रौद्योगिकी आधारित उद्यमिता से भारत बनेगा आत्मनिर्भर: प्रो. द्विवेदी
    टीएमयू की एसोसिएट डीन बोलीं, उद्यमी लक्ष्य प्राप्ति को रिस्क उठाते हैं

–प्रो. श्याम सुंदर भाटिया

इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ रिमोट सेंसिंग, देहरादून के निदेशक डॉ. प्रकाश चौहान ने कहा, भारत में उद्यमिता विकास के और अधिक अवसर पैदा करने और उनके रास्ते में आने वाली बाधाओं को दूर करने के लिए यह टीईडीपी कार्यशाला अति महत्वपूर्ण है। हाल के वर्षों में उद्यमियों को कारोबारी माहौल में अनगिनत बाधाओं का सामना करना पड़ा है। हमारी पीढ़ी और हमसे पहले की हर पीढ़ी का सबसे बड़ा धन निर्माता प्रौद्योगिकी रहा है। आज अत्याधुनिक प्रौद्योगिकी को नैनो प्रौद्योगिकी, जैव प्रौद्योगिकी और वेब प्रौद्योगिकी के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। पिछली पीढ़ियों में इसे टेलीविजन और आंतरिक दहन इंजन के रूप में परिभाषित किया गया। डॉ. चौहान तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के फ़ैकल्टी ऑफ इंजीनियरिंग एंड कम्प्यूटिंग साइंसेज़- एफओईसीएस में राष्ट्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी उद्यमिता विकास बोर्ड- एनएसटीईडीबी, विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग-डीएसटी, विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय की ओर से आर्थिक रूप से प्रायोजित 36 दिनी ऑनलाइन प्रौद्योगिकी आधारित उद्यमिता विकास कार्यक्रम-टीईडीपी में बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। जेटी, अटॉर्नी, ग्रेटर नोएडा के संस्थापक और पार्टनर एंटरप्रेन्योर श्री तुषार श्रीवास्तव ने बतौर विशिष्ट अतिथि कहा, यह ऑनलाइन एफडीपी आत्म निर्भर भारत की दिशा में मील का पत्थर साबित होगा। वह इस एफडीपी के माध्यम से विश्वास जताया कि विश्वविद्यालय छात्रों और शिक्षकों को नौकरी चाहने वाले के बजाए उद्यमी बनाने में मदद करेगा। उन्होंने एक उद्यमी के रूप में अपनी यात्रा के बारे में बताया। उन्होंने नए स्टार्ट-अप में मार्केटिंग रणनीतियों, जोखिम कारक, चुनौतियों और मांगों के बारे में चर्चा की। उन्होंने सफल उद्यमियों के उदाहरण भी दिए। उदाहरण के जरिए बताया कि उद्यमी उद्यम का संस्थापक होता है, जो उद्यम के संचालन के लिए अवसरों की पहचान करता है।

टीएमयू के रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा ने कहा, टीईडीपी उद्यमियों को उत्पादों और प्रौद्योगिकियों के बारे में तकनीकी ज्ञान का श्रेष्ठ मंच है। टीएमयू की एसोसिएट डीन प्रो. मंजुला जैन ने कहा, उद्यमी कार्य-उन्मुख और अत्याधिक प्रेरित व्यक्ति होते हैं, जो लक्ष्यों को प्राप्त करने के लिए जोखिम उठाते हैं। उद्घाटन सत्र के दौरान टीईडीपी जनरल चेयर एवं एफओईसीएस के निदेशक एवं प्राचार्य प्रो. राकेश कुमार द्विवेदी ने अपने उद्घाटन भाषण में कहा, इस प्रौद्योगिकी आधारित उद्यमिता विकास कार्यक्रम-टीईडीपी का आयोजन उद्यमिता क्षेत्र में पेशेवरों को प्रशिक्षित और विकसित करने के उद्देश्य से किया गया है ताकि वे युवा छात्र-छात्राओं को शिक्षण-प्रशिक्षण, मार्गदर्शन और प्रेरित करने में रिसोर्स पर्सन्स के रूप में कार्य कर सकें और वे उद्यमिता को करियर विकल्प के रूप में अपना सकें। टीईडीपी के कन्वीनर डॉ. पंकज कुमार गोस्वामी ने टीईडीपी की थीम प्रस्तुत की। छह सप्ताह तक चलने वाले इस प्रोग्राम टीईडीपी के संचालन में टीईडीपी को-कन्वीनर डॉ. गरिमा गोस्वामी के संग-संग डॉ. गुलिस्ता खान और टीईडीपी कोऑर्डिनेटर श्री प्रदीप कुमार वर्मा की महत्वपूर्ण भूमिका रही। प्रशिक्षण लेने वाले सभी प्रतिभागियों को ई-प्रमाण पत्र दिया जाएगा।
टीईडीपी के दौरान आईआईटी कानपुर के यांत्रिक इंजीनियरिंग विभाग के प्रो. जे रामकुमार, आईआईआरएस, इसरो, देहरादून के डॉ. अनिल कुमार, एमएचओ, दुबई के हैल्थ वेलनेस एक्स्पर्ट डॉ. दीपिका जैन, आई नर्चर इंक्यूबेशन सेंटर, गाज़ियाबाद के श्री महेंद्र गुप्ता, आनंद यूनिवर्सिटी, आनंद, गुजरात के डॉ. चेतन, आईईईई के सीनियर मेम्बर और थापर यूनिवर्सिटी, पटियाला के प्रो. नीरज कुमार, एनवीडिया, बंगलुरु के हेड डेवलपर श्री उन्नीकृष्णन, एनवीडिया, बंगलुरु की सोल्यूशंस इंजीनियर डॉ. मधुलिका वसवराज और एसबीआई, मुरादाबाद के डिप्टी मैनेजर श्री विकास यादव समेत राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के कुल 30 से अधिक प्रतिष्ठित अतिथि वक्ता, शिक्षाविदों, उद्यमियों और उद्योग जगत की विभिन्न हस्तियां शिरकत कर रही हैं। इस प्रशिक्षण में उत्तर प्रदेश, आंध्र प्रदेश, उत्तराखंड, जम्मू-कश्मीर, गुजरात, नयी दिल्ली समेत देशभर के जाने माने शिक्षण संस्थानों और उद्योगों के 200 से अधिक प्रतिभागियों को उद्यमिता का प्रशिक्षण दिया जा रहा है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!