तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के कॉलेज ऑफ फार्मेसी-टीएमसीओपी की ओर से विश्व फार्मासिस्ट दिवस पर हुनर के रंग

Spread the love
ख़ास बातें
  • स्टुडेंट्स और फैकल्टी ने ली फार्मासिस्ट की सामूहिक शपथ
  • पोस्टर प्रतियोगिता में मिथुल,तुबा ,शिवा के ग्रुप्स रहे अव्वल
  • अमित,मानव,जगत पाल के ग्रुप्स प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में फर्स्ट
  • स्टाल प्रतियोगिता में जसप्रीत, शीतल, मोनिश ग्रुप्स रहे प्रथम
   -प्रो.श्याम सुंदर भाटिया
 तीर्थंकर महावीर कॉलेज ऑफ फार्मेसी-टीएमसीओपी की ओर से विश्व फार्मासिस्ट दिवस  के उद्घाटन समारोह में तीर्थंकर महावीर विश्वविद्यालय  की एसोसिएट डीन प्रो. मंजुला जैन बतौर मुख्य अतिथि, जबकि टिमिट के निदेशक प्रो. विपिन जैन बतौर विशिष्ट अतिथि ने टीएमसीओपी के सेमिनार हॉल में माँ सरस्वती के समक्ष  दीप प्रज्ज्वलन करके प्रोग्राम शंखनाद किया। फार्मेसी और स्वास्थ्य देखभाल के मुद्दों के विभिन्न पहलुओं को चित्रित करने वाले बैनर्स और पोस्टर्स परिसर में प्रदर्शित किए गए। विश्व फार्मासिस्ट दिवस पर प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, पोस्टर प्रस्तुति, भोजन बूथ और स्वास्थ्य जांच शिविर जैसे कार्यक्रमों का आयोजन किया। इन सभी आयोजनों में छात्रों, अतिथियों और संकाय सदस्यों ने उत्साहपूर्वक भाग लिया, जिससे विश्व फार्मासिस्ट दिवस एक यादगार अवसर बन गया। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता, पोस्टर प्रस्तुति और स्टॉल में भाग लेने वाले विद्यार्थियों को पुरस्कृत किया गया। छात्रों और फैकल्टी के सदस्यों को प्रोफेसर पीयूष मित्तल ने फार्मासिस्ट की शपथ दिलाई।
पोस्टर प्रतियोगिता में फार्मा डी का मिथुल ग्रुप, बी फार्मा  का तुबा ग्रुप, डी फार्मा का शिवा ग्रुप अव्वल, जबकि फार्मा डी का चेतन ग्रुप, बी फार्मा का उत्कर्ष ग्रुप, डी फार्मा का अभिषेक ग्रुप सेकंड रहा। प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता में फार्मा डी का अमित कुमार ग्रुप, बी फार्मा का मानव ग्रुप,डी फार्मा का जगतपाल ग्रुप फर्स्ट रहा तो फार्मा डी का कार्तिकेय ग्रुप , बी फार्मा का फरमान ग्रुप, डी फार्मा का सचिन ग्रुप सेकंड रहा। स्टाल प्रतियोगिता में फार्मा डी के जसमीत सिंह प्रथम, अमन उपाध्याय ग्रुप सेकंड , बी फार्मा का मोनिश अली ग्रुप फर्स्ट तो अरशद ग्रुप सेकंड , डी फार्मा का शीतल ग्रुप प्रथम जबकि शिवम् ग्रुप सेकंड रहा।  छात्रों और फैकल्टी  ने शपथ ली ,मैं समुदाय के संबंध में भारतीय फार्मेसी परिषद की आचार संहिता की शपथ लेता हूं। स्वास्थ्य देखभाल टीम के एक अभिन्न अंग के रूप में कार्य करूंगा। मैं अपने पेशे को नियंत्रित करने वाले कानूनों और मानकों को बनाए रखूंगा। मैं फार्मेसी के पेशे की बेहतरी के लिए अपने उद्देश्यों वाले संगठनों के साथ जुड़ूंगा और उन संगठनों के काम को पूरा करने में योगदान दूंगा।
इससे पूर्व मुख्य अतिथि प्रो.जैन ने अपने उद्घाटन भाषण में स्वास्थ्य देखभाल पेशे में फार्मासिस्ट की भूमिका पर जोर देते हुए कोविड-19 महामारी के दौरान फार्मासिस्टों के अमूल्य योगदान पर भी प्रकाश डाला। मुख्य अतिथि ने कहा, फार्मासिस्टों को आयुष्मान भारत और प्रधानमंत्री भारतीय जनऔषधि परियोजना-पीएमबीजेपी कार्यक्रमों में सक्रिय रूप से भाग लेना चाहिए। विश्व फार्मासिस्ट दिवस समारोह में सम्मानित अतिथि डॉ. विपिन जैन ने छात्रों को दक्षता बढ़ाने के लिए अपने प्रबंधन कौशल में सुधार करने के लिए प्रोत्साहित किया।
फार्मास्युटिक्स विभाग के विभागाध्यक्ष प्रो. एससी डिंडा ने कहा, सभी मानवीय संबंध विश्वास पर निर्मित होते हैं। स्वास्थ्य देखभाल में भी विश्वास महत्वपूर्ण है। फार्मासिस्ट स्वास्थ्य सेवा प्रदाताओं और उनके समग्र स्वास्थ्य में मरीजों के भरोसे के बीच एक कड़ी है। अंत में प्रोफेसर मिलिंद पांडे ने धन्यवाद ज्ञापित किया। कार्यक्रम में श्री  नीलांचल त्रिवेदी, श्री  भुवनेश सिंह, श्री आशीष कुमार वर्मा,श्री अरिंजय जैन, श्री राहुल अरोड़ा आदि मौजूद रहे। प्रिंसिपल- टीएमसीओपी प्रोफेसर अनुराग वर्मा ने सभी अतिथियों का शुक्रिया अदा किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!