व्हाइट कोट सेरेमनी में फार्मासिस्टों ने ली शपथ

Spread the love

ख़ास बातें

  • डॉ. प्रीतपाल सिंह मटरेजा ने समझाया क्लीनिकल फार्मासिस्ट का महत्व
  • न्यू स्टुडेंट्स को व्हाइट कोट पहनाकर फार्मेसी प्रोफेशन में कराया प्रवेश
  • फर्मासिस्ट एन इंटीग्रल पार्ट ऑफ हैल्थकेयर थी पोस्टर्स प्रतियोगिता की थीम
  • वीक के दौरान कराई जाएंगी आधा दर्जन से अधिक प्रतियोगिताएं

 –प्रो. श्याम सुंदर भाटिया

तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी फार्माकोलॉजी के एचओडी डॉ. प्रीतपाल सिंह मटरेजा ने कहा, स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली में फार्मासिस्ट की भूमिका अति महत्वपूर्ण हैं, जिसमें आने वाली नई बीमारियों का समाधान करने के लिए नई-नई दवाइयों की खोज करते हैं। उन्होंने रोगियों के परामर्श के लिए क्लीनिकल फार्मासिस्ट के महत्व को समझाया।

डॉ. मटरेजा तीर्थंकर महावीर कॉलेज ऑफ फार्मेसी की ओर से नेशनल फार्मेसी वीक-डोपीस्टा 2021 के शुभारम्भ पर बतौर मुख्य अतिथि बोल रहे थे। इससे पूर्व कार्यक्रम का शुभारम्भ मुख्य अतिथि डॉ. मटरेजा, फार्मेसी विभाग के प्रिंसिपल प्रो. अनुराग वर्मा, एचओडी डॉ. एस. सी. डिंडा, डॉ मिलिंद पांडे, डॉ. पीयूष मित्तल, प्रो. एई एल्फाइन प्रभाहर आदि ने संयुक्त रुप से मां सरस्वती के सम्मुख दीप प्रज्ज्वलित करके किया। इस प्रोग्राम का मुख्य आकर्षण व्हाइट कोट सेरेमनी था, जिसमें फार्माडी के पुराने छात्रों ने नए छात्रों को व्हाइट कोट पहनाकर फार्मेसी के प्रोफेशन में प्रवेश कराया। व्हाइट कोट समारोह में छात्रों ने फार्मासिस्ट की शपथ ली। फार्माडी इंटर्नशिप के छात्र यश गोयल ने सभी छात्रों को फार्मासिस्ट की शपथ दिलाई। जिसमें छात्रों ने शपथ लेते हुए कहा, मैं दवा की देखभाल और रोगियों के परामर्श के लिए सबसे अच्छा विचार करने का पालन करूंगा, और गुण्वत्तापूर्ण औषधियों के विनिमार्ण के लिए मानवता के कष्टों को कम करने का प्रयास करूंगा। उल्लेखनीय है, व्हाइट कोट सेरेमनी का महत्व अभ्यास के पेशे के प्रारम्भिक होने का प्रतीक है और अनुकम्पा रोगी देखभाल प्रदान करने में उत्कृष्टता के लिए एक अनुबंध का प्रतिनिधित्व करता है।

फार्मेसी विभाग के प्रिंसिपल प्रो. अनुराग वर्मा ने फार्मेसी के फार्मडी प्रोग्राम के छात्रों को व्हाइट कोट सेरेमनी के महत्व के बारे में बताया। उन्होंने छात्रों को भारत में क्लीनिकल फार्मेसी और रिसर्च की भविष्य में आने वाली चुनौतियों के बारे में बताया। फार्माकोलॉजी के एचओडी डॉ. पीयूष मित्तल ने विदेशों में फर्मासिस्ट की भूमिका को समझाते हुए फार्माडी के छात्रों का मार्गदर्शन किया। प्रोग्राम में फार्मेसी और स्वस्थ्य देखभाल के मुद्दों के विभिन्न पहलुओं को चित्रित करने वाले बैनर और पोस्टर्स परिसर में प्रदर्शित किए गए, जिसकी थीम- फर्मासिस्ट एन इंटीग्रल पार्ट ऑफ हैल्थकेयर थी। नेशनल फार्मेसी वीक-डोपीस्टा 2021 में भोजन बूथ और स्वास्थ्य जांच जैसे कार्यक्रमों का भी आयोजन किया गया। इस मौके पर डॉ. केके शर्मा, डॉ. वैभव रस्तौगी, श्री राघवेन्द्र मिश्रा, श्री अरिंजय जैन, डॉ. शुभम सिंह त्यागी, श्रीमती प्रीति यादव, डॉ. विभाष चंद्र मोहन्ता आदि की गरिमामयी मौजूदगी रही। यह कार्यक्रम पूरा सप्ताह चलेगा, जिसमें इंडोर और आउटडोर गेम, क्विज काम्पीटिशन, नुकक्ड नाटक आदि शामिल रहेंगे।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!