महिलाओं और बच्चों में तस्करी के बढ़ते खतरे को रोकने के लिए प्रोटोकॉल अपनाया

Spread the love

नयी दिल्ली,31 अक्टूबर (उ हि )शंघाई सहयोग संगठन (एससीओ) के सदस्य देशों के प्रॉसीक्‍यूटर जनरल की उन्नीसवीं बैठक की मेजबानी 29 अक्टूबर, 2021 को भारत के सॉलिसिटर जनरल श्री तुषार मेहता ने की।

इससे पहले  कानून और न्याय मंत्रालय में कानूनी मामलों के विभाग में सचिव श्री अनूप कुमार मेंदीरत्ता ने भी 27 और 28 अक्टूबर, 2021 को विशेषज्ञों/ अधिकारियों के समूह की बैठक की मेजबानी की। विशेषज्ञ समूह ने अंतर्राष्ट्रीय संगठित अपराध में वृद्धि से संबंधित मुद्दों और साथ ही क्षेत्र में लोगों विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों की तस्करी सहित अंतर्राष्ट्रीय अपराध के सबसे खतरनाक स्‍वरूप से निपटने के लिए एससीओ देशों के प्रयासों के वर्तमान अनुभव पर चर्चा की।

19वीं बैठक की शुरुआत कानून और न्याय मंत्रालय, भारत सरकार में विधि सचिव के स्वागत भाषण के साथ हुई जिसमें एससीओ सदस्य देशों के इतिहास और मानव तस्करी पर अंकुश लगाने के लिए एक ठोस प्रयास की आवश्यकता पर प्रकाश डाला गया। उनके अनुसार प्रॉसीक्‍यूटर जनरल द्वारा प्रोटोकॉल और दूरदर्शिता संबंधी जानकारी सम्‍पूर्ण समाज के तस्करी विरोधी उपायों और सुरक्षा को मजबूत करेगा। उन्होंने आगे आशा व्यक्त की कि एससीओ सदस्य देशों की संयुक्त गतिविधियां और अनुभव मानव तस्करी की गंभीर समस्या को रोकने में मदद करेंगे और विश्व स्तर पर प्रयासों को मजबूत करने के लिए एक प्रेरक शक्ति बनेंगे। बैठकें वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग मोड के माध्यम से आयोजित की गईं।

भारत के सॉलिसिटर जनरल श्री तुषार मेहता, कजाकिस्तान गणराज्य के प्रॉसीक्‍यूटर जनरल श्री नर्डौलेतोव जीडी, चीन जनवादी गणराज्य के सुप्रीम पीपुल्स प्रोक्यूरेटोरेट के प्रोक्यूरेटर जनरल श्री झांग जून, किर्गिज़ गणराज्य के पहले डिप्‍टी प्रॉसीक्‍यूटर जनरल श्री मोल्दोकमातोव अबाई, इस्लामिक रिपब्लिक ऑफ पाकिस्तान के अटॉर्नी जनरल चौधरी अमीर रहमान, रूसी संघ के  प्रॉसीक्‍यूटर जनरल श्री क्रास्नोव आई.वी., ताजिकिस्तान गणराज्य के  प्रॉसीक्‍यूटर जनरल श्री रहमोन यूसुफ अहमदज़ोद, उज़्बेकिस्तान गणराज्य के प्रॉसीक्‍यूटर जनरल श्री युलदाशेव एन.टी., ने  प्रॉसीक्‍यूटर जनरल की बैठक में भाग लिया। एससीओ महासचिव श्री वी.आई. नोरोव और एससीओ क्षेत्रीय आतंकवाद विरोधी संरचना के निदेशक डी.एफ. गिसोव ने भी बैठक में भाग लिया।

एससीओ सदस्य देशों के प्रॉसीक्‍यूटर जनरल की उन्नीसवीं बैठक के परिणामों के बाद एक प्रोटोकॉल पर हस्ताक्षर किए गए और उसे एससीओ सदस्य देशों द्वारा अपनाया गया। प्रोटोकॉल की मुख्य विशेषताएं इस प्रकार हैं :

  1. विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों में अवैध व्यापार के बढ़ते खतरे को रोकने और उसका मुकाबला करने में सहयोग को मजबूत करना।
  2. अवैध व्यापार के पीड़ितों को उनकी पात्रता के भीतर सुरक्षा और सहायता प्रदान करना
  3. प्रॉसीक्‍यूटर के प्रशिक्षण और उन्नत प्रशिक्षण के क्षेत्र में एससीओ सदस्य देशों के शैक्षणिक (प्रशिक्षण) संगठनों (संस्थाओं) के बीच सहयोग विकसित करना, जिनकी पात्रता में विशेष रूप से महिलाओं और बच्चों में तस्करी का मुकाबला करना शामिल है।
  4. व्‍यक्तियों, विशेष रूप से महिलाओं और बच्‍चों की तस्‍करी के खतरे का मुकाबला करने और उससे निपटने के लिए संपूर्ण वीडियो कांफ्रेंसिंग सहित द्विपक्षीय और बहुपक्षीय गतिविधियों का संचालन करना।

एससीओ सदस्य देशों के प्रॉसीक्‍यूटर जनरलों की प्रतिष्ठित सभा को संबोधित करते हुए, भारत के सॉलिसिटर जनरल, श्री तुषार मेहता ने अन्य बातों के साथ-साथ व्यक्तियों की तस्करी सहित अंतर्राष्ट्रीय संगठित अपराध में वृद्धि को कम करने के लिए भारत सरकार द्वारा की गई पहल और पर प्रकाश डाला, साथ ही अन्‍य की वेश्‍यावृत्ति के उपयोग तथा अंतर्राष्‍ट्रीय संगठित अपराध पर संयुक्त राष्ट्र सम्मेलन (यूएनसीटीओसी) की पुष्टि शामिल है।

उन्होंने रेखांकित किया कि भारत सरकार द्वारा मानव तस्करी की समस्या को दूर करने की प्रतिबद्धता भारतीय संविधान के साथ-साथ भारतीय दंड संहिता और अनैतिक देह व्यापार (रोकथाम) कानून 1956 आदि में निहित तस्करी के प्रावधानों के विभिन्न कानूनी प्रावधानों में परिलक्षित होती है। उन्होंने भारत सरकार द्वारा शुरू किए गए विभिन्न कार्यक्रमों और योजनाओं को भी साझा किया जैसे “उज्ज्वला”, “स्वाधार गृह योजना”, “सखी”, “महिला हेल्पलाइन का सार्वभौमिकरण”, हिंसा से प्रभावित महिलाओं की चिंताओं को दूर करने के लिए एक सहायक संस्थागत ढांचा और तंत्र प्रदान करना।

प्रॉसीक्‍यूटर्स जनरल फोरम की गतिविधियों के हिस्से के रूप में सॉलिसिटर जनरल ने एससीओ सदस्य देशों से व्यक्तियों की तस्करी में अंतरराष्ट्रीय संगठित अपराध को प्रभावी ढंग से समाप्त करने के लिए द्विपक्षीय और बहुपक्षीय सहयोग करने का आग्रह किया।

एससीओ सदस्य देशों के प्रॉसीक्‍यूटर्स जनरल की अगली (20वीं) बैठक 2022 में कजाकिस्तान गणराज्य में होगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!