दिमासा भाषा में आईएफएफआई भारतीय पैनोरमा फिल्म की पहली निर्देशक और अभिनेत्री

Spread the love

“न तो उनके पास है, और न ही वे किसी सांसारिक ज़रूरत और विलासिता तक पहुँच बनाना चाहते हैं। वे अपने आप में संतुष्ट हैं। सेमखोर के लोग- वे मूल हैं, इसलिए वे वही हैं जो वे हैं।”

प्रसिद्ध असमिया अभिनेत्री एमी बरुआ द्वारा निर्देशित फिल्म सेमखोर को गोवा में आयोजित हो रहे 52वें आईएफएफआई के भारतीय पैनोरमा 2021 की उद्घाटन फिल्म के रूप में चुना गया है और इस अवसर पर फिल्म की निर्देशक ये विचार व्यक्त किए। उन्होंने समसा समुदाय के उस जीवन को जानने का साहसपूर्ण प्रयास किया जो अपने रीति-रिवाजों, परंपराओं और प्राचीन मान्यताओं के साथ बाहरी दुनिया से अलग एकांत जीवन जीना पसंद करते हैं। इसके साथ ही ‘सेमखोर’ आईएफएफआई में ऐसा सम्मान पाने वाली डिमासा भाषा की पहली फिल्म बन गई है।

इस फिल्म की अभिनेत्री-निर्देशक-पटकथा लेखक, और स्वयं मुख्य किरदार निभाने वाली एमी बरुआ ने आज गोवा में आईएफएफआई के अवसर पर आयोजित एक संवाददाता सम्मेलन को संबोधित करते हुए यह विचार व्यक्त किए।

यह फिल्म सेमखोर लोगों की प्रथाओं, रीति-रिवाजों और लोक धारणाओं का प्रतिनिधित्व करती है जो बाहरी दुनिया से ‘अछूते’ रहना चाहते हैं। इसे डिमासा भाषा में बनाया गया है जो जातीय-भाषाई समुदाय द्वारा बोली जाने वाली एक बोली है जिसके नाम पर इसका नाम असम और नागालैंड के कुछ हिस्सों में रखा गया है।

कैसे एक अखबार के एक टुकड़े ने उन्हें इस फिल्म की शुरुआत करने के लिए प्रेरित किया, इसकी जानकारी देते हुए एमी ने कहा, “एक दिन खाना खाते समय मैं अखबार की कटिंग पढ़ रही थी, जहां सेमखोर पर एक छोटी सी खबर पर मेरी नजर पड़ी। उन्होंने कहा किइस खबर ने मुझे इतनी गहराई से छुआ कि मैं इस समुदाय के बारे में और सोचने लगी। ”

जिज्ञासा और बढ़ी तोएमी ने उन पर अधिक शोध करना शुरू किया और फिर कुछ ऐसे दिलचस्प तथ्य सामने आए जो अधिकांश लोगों के लिए अस्वीकार्य अथवा अकल्पनीय होंगे। उन्होंने कहा, “हम 21वीं सदी में रह रहे हैं और तमाम सुविधाएं होने के बावजूद भी हम खुश नहीं हैं। सेमखोर एक ऐसी जगह है जहां लोग शांति से रहते हैं, भले ही उनके पास बुनियादी सुख-सुविधाओं तक पहुंच न हो जिनका आम लोग आनंद लेते हैं।”

सुश्री बरुआ ने बताया कि इसके लिए कैसे उन्हें अपने प्रियजनों की इच्छाओं के खिलाफ जाना पड़ा, जिन्होंने उनसे कहा था कि वे समसा समुदाय से जुड़ने के बारे में सोचे भी ना,लेकिन यह उनकी दृढ़ इच्छाशक्ति ही थी जिसने उनकी इस इच्छा को पूर्ण किया। “मेरा दृढ़ संकल्प इतना मजबूत था कि मैंने 2017 में सेमखोर जाने की कोशिश की और इस प्रयास में मैं समझ गयी कि यह यात्रा मेरी कल्पना से कहीं अधिक कठिन होने वाली है क्योंकि वे किसी बाहरी व्यक्ति से कुछ भी साझा नहीं करेंगे।”

सेमखोर की दुनिया में अपने प्रवास पर कुछ दिलचस्प किस्से साझा करते हुए, एमी ने कहा कि उन्हें दिमासा भाषा के बारे में कोई जानकारी नहीं थी और पहले कदम के रूप में उन्होंने एक ट्यूटर की मदद से एक वर्ष तक उस भाषा को सीखा। एमी ने कहा “जब मुझे यकीन हो गया कि मैं डिमासा को आत्मविश्वास के साथ बोल सकती हूं, तो 2018 में फिर से मैं वहां गयी।” उन्होंने अपने दोस्तों की मदद से, उनसे संपर्क करने के लिए सावधानी पूर्वक लेकिन निरंतर कोशिश की और आखिरकार अपने प्रयास में सफल रहीं।

एमी ने कहा कि जिसको जानने का उन्हें इंतजार था वह कल्पना से परे और कुछ आश्चर्यजनक था। “वे बाहरी दुनिया के किसी भी उपकरण का उपयोग नहीं करते। उनके जीवन-यापन का मुख्य स्रोत कृषि माध्यम है। वे खाना पकाने के लिए तेल का उपयोग नहीं करते। एमी ने कहा कि किसी को भी हैरानी हो सकती है कि सरकार उनके लिए कुछ क्यों नहीं कर रही है पर एमी के अनुसार यह संदेह निराधार है क्योंकि सरकार ने वहां पहले ही स्कूल और अस्पतालों का निर्माण कराया था। एमी ने विनोदपूर्ण भाव में बताया कि उन्होंने इसे ध्वस्त कर दिया और अब इन जगहों पर पक्षियों को पाल रहे हैं।

इतना ही नहीं, सुश्री बरुआ के अनुसार, वे बाहरी दुनिया से कुछ लेना-देना नहीं चाहते, और न ही किसी को अपने क्षेत्र में प्रवेश करने की अनुमति देते हैं। उनके बारे में कोई अनुभव लिए बिना किसी कोभी आश्चर्य हो सकता है किवे इतने कठोर कैसे खड़े हो सकते हैं। इधर, एमी के पास साझा करने के लिए एक स्पष्टीकरण है और एक निर्देशक के अनुसार जब एमीने उससे पूछा कि उनके पास क्या कमी है और वे इसकी तलाश में कहीं और जाएंगें तो उनका बस यहीं कहना था कि “हमारे पास यहाँ सब कुछ है और हम खुश हैं, बस हमसे दूर रहें”।

एमी ने इस फिल्म में, वह खुद अभिनेत्री की भूमिका निभाई है और इस चरित्र में खुद को उतारने के लिए उन्होंने ग्राम प्रधान की अनुमति से अक्सर सेमखोर की यात्राऐं की है और वहां की एक महिला के चरित्र को निभाने की कोशिश की जो 14 बच्चों की मां है। एमी ने कहा कि मैं हर जगह उसका पीछा करती थी।अपनी इस असाधारण यात्रा के दौरान हुए कई अनुभवों को साझा करते हुए उन्होंने कहा कि उन्होंने महीनों तक अपने बालों को धोना बंद कर दिया ताकि उनके दोमुंहे सिरे विकसित हो जाएं और अपने तलवों में दरारें आने के लिए जूते पहनना बंद कर दिया। एमी ने कहा “मैंने एक साल के लिए ब्यूटी पार्लर जाना भी बंद कर दिया”।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!