डॉ. उम्मे अफीफा ने समझाया रिसर्च में वेरिएबल्स का महत्व

Spread the love

ख़ास बातें

  • डाटा, पॉपुलेशन, सेंपिल्स, स्टेटिस्टिक्स के टाइप भी बताए
  • वर्कशॉप मील का पत्थर साबित होगीः प्रो. श्यामोली दत्ता
  • प्रो. अजय बोले, स्टुडेंट्स रिसर्च वर्क को संजीदगी से लें
  • मेडिकल पीजी के 100 से अधिक छात्रों की रही मौजूदगी
  • करीब चालीस फैकल्टीज की रही गरिमामयी उपस्थिति
  • अतिथियों को बतौर स्मृति चिह्न ट्री ऑफ लाइफ भेंट किए

–प्रो. श्याम सुंदर भाटिया/ डॉ. अलीशा राय

तीर्थंकर महावीर मेडिकल कॉलेज एंड रिसर्च सेंटर के एनाटॉमी विभाग की ओर से आयोजित वर्कशॉप- बेसिक्स ऑफ बायोस्टेटिस्टिक्स एंड रिसर्च का श्रीगणेश हो गया है। वर्कशॉप का औपचारिक शुभारंभ प्राचार्या प्रो. श्यामोली दत्ता ने किया। वर्कशॉप के फर्स्ट डे डॉ. उम्मे अफीफा ने मेडिकल के स्टुडेंट्स को स्टेटिस्टिक्स के बेसिक स्टेप्स बताए। डॉ. अफीफा ने अपने सारगर्भित व्याख्यान में डाटा, पॉपुलेशन, सेंपिल्स और वेरिएबल्स पर विस्तार से प्रकाश डाला। वर्कशॉप में मौजूद सभी अतिथियों को ट्री ऑफ लाइफ भेंट किए गए। ये स्मृति चिह्न अतिथियों को बारी-बारी से मेडिकल प्राचार्या के अलावा मेडिकल सुप्रीटेंडेंट प्रो. अजय पंत मेडिकल कॉलेज के वाइस प्रिंसिपल एवम् ऑर्गेनाइजिंग चेयरमैन प्रो. एसके जैन और प्रोग्राम चेयर डॉ. निधि शर्मा ने वितरित किए। संचालन डॉ. सुप्रीति भटनागर ने किया।

 

रिसोर्स पर्सन डॉ. अफीफा बोली, वेरिएबल्स दो प्रकार के होते हैं-क्वांटिटेटिव एंड क्वालिटेटिव। दोनों के महत्व पर प्रकाश डालते हुए बोलीं कि जिस तरह का वेरिएबल होगा, उसी तरह के टेस्ट लगेंगे। साथ ही डॉ. अफीफा ने वेरिएबल्स के क्रियान्वयन के तरीके भी बताए। इससे पूर्व मेडिकल सुप्रीटेंडेंट प्रो. अजय पंत ने अपने संक्षिप्त संबोधन में कहा कि स्टुडेंट्स रिसर्च वर्क को संजीदगी से लें ताकि रिसर्च का रिजल्ट एक्यूरेट आए। वाइस प्रिंसिपल एवम् ऑर्गेनाइजिंग चेयरमैन प्रो. एसके जैन बोले कि पीजी के सेकेण्ड इयर के छात्रों के लिए इस वर्कशॉप को अनिवार्य बताते हुए कहा कि वे सात मई तक चलने वाले व्याख्यानों में अपनी उपस्थिति सुनिश्चित करें। वर्कशॉप में ऑर्गेनाइजिंग सेक्रेट्री एवम् फार्माकोलॉजी के एचओडी प्रो. प्रीथपाल सिंह मटरेजा, वर्कशॉप कन्वीनर प्रो. एसके गुप्ता, मेडिसिन विभाग के एचओडी डॉ. वीके सिंह, डॉ. संगीता कपूर, डॉ. उमर फारुख, डॉ. रोहित वार्ष्णेय, डॉ. श्रुति चंदक, डॉ. साधना सिंह, डॉ. सान्या जैन आदि भी मौजूद रहे।

 

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!