छात्राओं को राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कालेज और राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल में प्रवेश देने की अनुमति

Spread the love

मुख्य बातें:

  • प्रस्तावित योजना को  दो चरणों में लागू किया जाएगा।
  • पहले चरण में, आरआईएमसी के लिए, विद्यार्थियों की क्षमता को 250 से बढ़ाकर 300 किया जाएगा; लड़कियों को जून 2022 में आरआईएमसी प्रवेश परीक्षा में शामिल होने की अनुमति प्रदान की जाएगी।
  • आरएमएस में प्रवेश के लिए, प्रत्येक विद्यालय में कक्षा-6 में प्रवेश हेतु बालिका उम्मीदवारों के लिए कुल रिक्तियों का 10% आरक्षित किया गया है।

नयी दिल्ली,  10  नवंबर (उ हि ) सर्वोच्च न्यायालय के निर्देशों का पालन करते हुए, रक्षा मंत्रालय (एमओडी) ने छात्राओं को राष्ट्रीय इंडियन मिलिट्री कालेज (आरआईएमसी) और राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल (आरएमएस) में प्रवेश की अनुमति प्रदान करने का प्रस्ताव दिया है।

सर्वोच्च न्यायालय में दाखिल किए गए एक हलफनामे के अनुसार, अन्य संबंधित बुनियादी संरचना और प्रशासनिक सहायता के साथ-साथ अतिरिक्त रिक्तियों को भी अधिकृत करने की आवश्यकता है। इसे दो चरणों में पूरा किया जाने का प्रस्ताव है।

पहले चरण में आरआईआरसी में प्रवेश के लिए, छह माह में पांच छात्राओं को शामिल करते हुए विद्यार्थियों की अधिकतम क्षमता को 250 से बढ़ाकर 300 किया जाएगा। यह बढ़ोत्तरी बुनियादी संरचना में कुछ सुधार और लड़की कैडेटों का सहयोग करने के लिए अतिरिक्त कर्मचारियों के कारण प्रभावित हो सकती है। इसके लिए यह दाखिल किया गया है कि आरआईएमसी में जनवरी 2023 में शुरू होने वाले सत्र में नामांकन के लिए जून 2022 में निर्धारित आरआईआरसी की प्रवेश परीक्षा में छात्राओं को शामिल होने की अनुमति प्रदान की जाएगी।

इसी प्रकार से द्वितीय चरण में हर छह महीने में 10 लड़कियों को शामिल करते हुए विद्यार्थियों की क्षमता को 300 से बढ़ाकर 350 किया जाएगा।इस विस्तार के अंत में, आरआईआरसी में लड़कों की संख्या 250 और लड़कियों की संख्या 100 हो जाएगी। इसके लिए यह दाखिल किया गया हैकि आरआईएमसी में जनवरी 2028 में शुरू होने वाले सत्र के लिए आरआईआरसी में में नामांकन पाने के लिए जून 2027 में निर्धारित आरआईएमसी प्रवेश परीक्षा में छात्राओं को शामिल होने की अनुमति प्रदान की जाएगी। आरआईएमसी देहरादून (उत्तराखंड) में स्थित है।

इस हलफनामे में बताया गया है कि निजता, सुरक्षा और निर्भिकता के साथ लड़कियों के रहन-सहन को सुगम बनाने के लिए स्कूल परिसर में उनके अनुकूल बुनियादी संरचना तैयार करने की आवश्यकता है। अधिकारियों का एक बोर्ड इन मुद्दों की जांच कर रहा है जिससे आवश्यक लड़की अनुकूल बुनियादी संरचना और सहायक कर्मचारियों की स्थापना की जा सके।

लड़कियों को आरएमएस में शामिल करने के लिए निम्नलिखित बातें प्रस्तावित है:

प्रथम चरण:शैक्षणिक सत्र 2022-23 के लिएआरएमएस में प्रवेश के लिए, प्रत्येक विद्यालय में कक्षा-6 में प्रवेश हेतु बालिका उम्मीदवारों के लिए कुल रिक्तियों का 10%आरक्षित होना चाहिए।

द्वितीय चरण:शैक्षणिक सत्र 2023-24 के लिए आरएमएस में प्रवेश के लिए, प्रत्येक विद्यालय में कक्षा-6 और कक्षा-9 में प्रवेश हेतु बालिका उम्मीदवारों के लिए कुल रिक्तियों का 10% आरक्षित होना चाहिए।

राष्ट्रीय मिलिट्री स्कूल चैल (हिमाचल प्रदेश), अजमेर (राजस्थान), बेलगाम (कर्नाटक), बेंगलुरु (कर्नाटक) और धौलपुर (राजस्थान) में स्थित हैं। उपलब्ध सीटों में से 30% आम नागरिकों के बच्चों के लिए भी निर्धारित हैं। लगभग 350 सीटों के लिए दिसंबर माह में प्रवेश परीक्षा का आयोजन किया जाता है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!