अतिथि शिक्षकों की 5 अक्टूबर से कार्यबहिष्कार की चेतावनी

Spread the love

-रिपोर्ट हरेंद्र बिष्ट-

थराली, 26 सितम्बर। अतिथि शिक्षकों ने ग्रीष्मकालीन एवं शीतकालीन अवकाशों के दौरान का मानदेय दिए जाने की मांग करते हुए 5 अक्टूबर से कार्यबहिष्कार किए जाने, अर्धवार्षिक परीक्षाओं का बहिष्कार किए जाने सहित अन्य आंदोलनात्मक कदम उठाए जाने की चेतावनी दी है।

खंड शिक्षा अधिकारी थराली को सौंपे एक ज्ञापन में अतिथि शिक्षक संघ ने कहा हैं कि इसी वर्ष 21 अगस्त को मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली के द्वारा जिले के सभी खंड शिक्षा अधिकारियों को अतिथि शिक्षकों को ग्रीष्मकालीन एवं शीतकालीन अवकाशों का मानदेय वेतन भुगतान किए जाने के निर्देश दिए गए हैं, बावजूद इसके आज तक भी थराली विकासखंड के अतिथि शिक्षकों को अवकाशों के दौरान का वेतन का भुगतान नही किया गया हैं। जिससे सभी शिक्षकों में रोष पनपने लगा हैं। ज्ञापन में कहा गया है कि तत्काल रूके वेतन का भुगतान नही किए जाने की स्थिति में मजबूरन उन्हें कालेजों में उपस्थित रह कर 5 अक्टूबर से कार्य बहिष्कार पर चलें जाएंगे। इसके अलावा अर्धवार्षिक परीक्षाओं का बहिष्कार के साथ ही कर्णप्रयाग में कर्णप्रयाग ब्लाक के अतिथि शिक्षकों को छोड़ कर जिलें के अन्य 8 विकासखंड के अतिथि शिक्षक राष्ट्रीय राजमार्ग पर जाम लगा देंगे जिसकी संपूर्ण जिम्मेदारी शिक्षा विभाग की होगी। ज्ञापन सौंपने के दौरान अतिथि शिक्षक प्रकाश सोलियाल , राकेश देवराड़ी, कैलाश चंदोला,नीमा शाह,अरूणा रावत गजेन्द्र पांगती,मदन गुसाईं आदि मौजूद थे। बाद में इन अतिथि शिक्षकों ने बताया कि ग्रीष्मकालीन एवं शीतकालीन अवकाशों का भुगतान किए जाने का निदेशक माध्यमिक के साथ ही मुख्य शिक्षा अधिकारी चमोली के द्वारा जिले के सभी बीईओ को दिया जा चुका हैं। इसके क्रम में बीईओ कर्णप्रयाग के द्वारा अपने अतिथि शिक्षकों को वेतन भुगतान भी कर दिया गया हैं। परंतु जिले के अवशेष 8 विकासखंडों के शिक्षकों को वेतन आहरित नही किया गया हैं। जिससे आक्रोश फैलना लाजमी हैं। इस संबंध में पूछे जाने पर थराली के बीईओ मास्टर आदर्श ने बताया कि वे स्वास्थ्य उपचार के लिए अवकाश पर हैं। जबकि प्रभारी बीईओ एवं थराली ब्लाक के प्रशासनिक अधिकारी आलोक रावत ने बताया कि वें केवल सामान्य पत्रों को देख रहें हैं। वेतन आहरण का नीतिगत मामला आहरण वितरण अधिकारी ही देखेंगे उनके अवकाश से लौटने के बाद ही आवश्यक कार्रवाई की जा सकती हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!