कर्णप्रयाग-ग्वालदम राष्ट्रीय राजमार्ग 18 घंटों के बाद खुला

Spread the love

-थराली से हरेंद्र बिष्ट

पिंडर घाटी की लाईफ लाईन मानें जाने वाला कर्णप्रयाग-ग्वालदम राष्ट्रीय राजमार्ग पिछले 18 घंटों से अधिक समय से बंद पड़े मार्ग को बीआरओ ने दिन रात अथक परस्यस के बाद रविवार सुबह खोल दिया है।

बीआरओ के कमांडर कर्नल कपिल शर्मा के अनुसार सिमली ग्वालदम मार्ग को आज सुबह खोल दिया है।

रविवार को प्रातः से ही बारिश शुरू होने के कारण सड़क खोलने में व्यवधान आ रहा। इसके साथ ही सड़क खोलने के लिए की गई ब्लास्टिंग के कार्य झूंगड़गाड़ में कर्णप्रयाग से नारायणबगड़ आने वाली एक मात्र 33 केवी बिजली लाइन के तार टूट जाने के कारण पिंडर घाटी के तीनों ब्लाकों में बिजली आपूर्ति करीब 10 घंटों तक बाधित रही।जिसे अब बहाल कर दिया गया हैं।

शनिवार दोपहर को अचानक मौणा छिडा के पास एक बड़ी चट्टान के खिसक कर ग्वालदम-कर्णप्रयाग राष्ट्रीय राजमार्ग पर गिरने एवं उससे सड़क के टूट कर पिंडर नदी में समा जाने के कारण इस मार्ग पर यातायात ठप हो गया था। इसके बाद से ही बीआरओ के द्वारा संड़क को खोलने का काम शुरू कर मलुवा हटाने के बाद वाशआउट हों गई सड़क के स्थान पर छोटे वाहनों के लिए सड़क खोलने का प्रयास शनिवार की देर रात तक किया गया।

किन्तु रात को ही फिर से पहाड़ी के दरक कर गिर जाने से सड़क पर फिर से भारी मात्रा में मलुवा आ गया। जिससे अब तक सड़क नही खुल पाई हैं। मौसम की बेरुखी के कारण इस मार्ग के खुलने में और अधिक समय लगने की आशंका जताई जा रही हैं।

इधर सड़क खोलने के लिए देर रात की गई ब्लास्टिंग के कारण पिंडर नदी के उस पार से गुजर रही कर्णप्रयाग से नारायणबगड़ 33 केवी बिजली लाइन के तार क्षतिग्रस होने के कारण पूरी घाटी के लोगों को अपनी रात अंधेरे में गुजारनी पड़ी। हालांकि सुबह 7.30विद्युत ऊर्जा निगम के अपने प्रयासों से बिजली सप्लाई शुरू करने में सफलता हासिल कर ली है। सड़क के टूटने के कारण पिंडर घाटी का सामान्य जनजीवन अस्त-व्यस्त हो कर रह गया हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!