महिला कांग्रेस ने सहकारिता बैंक भर्ती घोटाले को लेकर मंत्री धन सिंह रावत के आवास का घेराव किया

Spread the love

देहरादून, 13  अप्रैल ( उहि )। उत्तराखण्ड महिला कांग्रेस ने सहकारिता बैंक भर्ती घोटाले की जांच की मांग को लेकर मंत्री धन सिंह रावत के आवास का घेराव किया।

बुधवार को प्रदेश महिला कांग्रेस अध्यक्ष श्रीमती ज्योती रौतेला के नेतृत्व में महिला कांग्रेस नें सहकारिता बैंक भर्ती घोटाले की जांच की मांग को लेकर सहकारिता मंत्री धन धन सिंह रावत के आवास का घेराव कर विरोध प्रदर्षन किया। अवसर पर अवसर पर महिला नेत्रियों ने आरोप लगाया कि भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस  का दावा करने वाली उत्तराखण्ड सरकार ने हर स्तर पर भ्रष्टाचार को प्राश्रय दिया है। चाहे एन.आर.एच.एम. घोटाला हो, छात्रवृत्ति घोटाला हो, सिडकुल घोटाला या को-आपरेटिव बैंक में नियुक्तियों में हुए घोटाले। भाजपा सरकार में भ्रष्टाचार और घोटालों की लम्बी फेहरिस्त है।
ज्योती रौतेला ने कहा कि को-आपरेटिव बैंक भर्ती घोटाले सहित कोरोना महामारी में मेडिकल सामग्री, दवाई, वैक्सीन खरीद तथा टेस्टिंग सहित सभी मामलों की सीबीआई से निष्पक्ष जांच कराई जानी चाहिए। उन्होंने कहा कि पिछली भाजपा सरकार के एक वरिष्ठ मंत्री ने स्वयं स्वीकार किया था कि सरकार में उगाही की खुली लूट मची हुई है जिस पर लगाम लगाने की जरूरत है। गणेश गोदियाल ने को-आपरेटिव बैंक में चतुर्थ श्रेणी पदों के चयन में हुए घोटाले की उच्च स्तरीय जांच की मांग करते हुए दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है।
उन्होनें कहा रोजगार के नाम पर युवाओं से उनके परिवार की खून-पसीने की कमाई डकारी जा रही है। उन्होंने कहा कि राज्य को-आपरेटिव बैंक में चतुर्थ श्रेणी के पदों की भर्ती में हुए भारी भ्रष्टाचार ने सरकार की कलई खोल कर रख दी है। उन्होंने कहा कि इससे पूर्व भी को-आपरेटिव बैंक में रिक्त पदों पर हुई भर्ती में भारी भ्रष्टाचार को अंजाम देने की नीयत से चयन परीक्षा उत्तराखण्ड के किसी स्थान पर कराने की बजाय नोयडा में आयोजित कर स्थानीय बेरोजगार नौजवानों के हक को मारा गया। उन्होनें कहा कि पिछली सरकार में उच्च न्यायालय नैनीताल द्वारा अपने फैसले में भ्रष्टाचार के आरोपों के चलते तत्कालीन मुख्यमंत्री के मामले में सीबीआई तथा पक्षकारों को अपना जवाब दाखिल करने के लिए दो दिन मे का वक्त दिया था। मुख्यमंत्री पर लगे भ्रष्टाचार के आरोपों से भाजपा सरकार के जीरो टॉलरेंस की कलई खुल चुकी थी और यह सिद्ध हो चुका था कि भाजपा सरकार भ्रष्टाचार में आकंठ डूबी हुई है तथा वरिष्ठ मंत्री द्वारा अपनी ही सरकार में हो रहे भ्रष्टाचार को खुले रूप में स्वीकारने की घटना से स्पष्ट होगया था कि भाजपा सरकार में हर स्तर पर भारी लूट हो रही है। उन्होंने यह भी कहा कि भ्रष्टाचार मुक्ति का दंभ भरने वाली सरकार की नाक के नीचे कुंभ मेले में कोरोना टेस्टिंग महाघोटाले का मामला जनता के सामने है जिसमें इस महामारी में आपदा में अवसर का लाभ लेते हुए आम जनता की गाडी कमाई से जमा टैक्स के करोड़ो रूपये की लूट हुई परन्तु भाजपा सरकार ने इस मामले की जांच को भी ठंडे बस्ते मे डाल दिया है।
लोकायुक्त बिल को लटकाये रखना भाजपा सरकार के भ्रष्टाचार पर जीरो टॉलरेंस की कलई पहले ही खोल चुका हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी बेरोजगार युवाओं के साथ हुए अन्याय को कभी बर्दास्त नहीं करेगी तथा इसको लेकर सडक से लेकर सदन तक जनता की लडाई लडेगी।
इस दौरान वरिष्ठ उपाध्यक्ष कमलेश रमन, नजमा खान, अल्का पाल, चन्द्रकला नेगी, आशा शर्मा, पुष्पा पंवार, नीलम, विमला मन्हास, बाला शर्मा, उर्मिला थापा, प्रियंका भंडारी, सुमित्रा ध्यानी, मुन्नी देवी, रेनू नेगी, रजनी रावत, अंजुम अख्तर, रेखा सोनकर, मीरा सोनकर, सोभा बिष्ट आदी महिला कांग्रेस नेत्रि मौजूद थी।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!