इस धरती पर निर्माण के प्रतीक मजदूर का सबसे बड़ा त्योहार है मई दिवस

Spread the love

– अनन्त आकाश
1मई को विश्वभर का मेहनतकश अवाम लाल झण्डे के पीछे एकजुट होकर अपने शहीदों की कुर्बानियों को याद करते हुऐ ,अपने बेहतरीन भविष्य के संकल्प को लेकर मार्च करता है ।
आज जबकि मेहनतकश अवाम 8 घण्टे काम करता है ।वास्तव में इसके पीछे मजदूर वर्ग का सतत संघर्षों एवं कुर्बानियों का इतिहास है । जिसमें उसकी 8घण्टे काम ,8घण्टे आराम तथा8घण्टे मंनोरंजन की मांग शामिल रही हैं । जिसकी कहानी अमेरिका के शिकागो में हुऐ मजदूरों के कत्लेआम से काफी पहले शुरु होती है ,जब मजदूर वर्ग को कल कारखानों ,खेत खलिहानों में बहुत ही कम दाम में 14घण्टे से भी अधिक काम करना पड़ता था । वे नारकीय जीवन जीने के विवश थे । यूं कहें उनकी हालात बद से बदतर थी । तब विश्व के उभरते पूंजीवाद ने अपने मुनाफे को बढ़ाने के लिए बड़े बडे़ कल कारखाने लगाये जिन्हें चलाने के लिए मजदूरों की आवश्यकता थी ।इस प्रकार पूंजीवाद ने विश्वभर में मजदूरों को एक छत के नीचे ला खड़ा किया ।मजदूरों को समझ आ गया कि उनसे पशुओं की तरह काम लिया जाता है , ऐवज में उन्हें कुछ नहीं मिलता ।न सोने ,न खाने न मंनोरंजन का समय ही उनको मिलता । इस प्रकार पूंजीवाद के निर्मम शोषण ने उनमें गुस्सा फूट फूटकर भरा हुआ था जो अमेरिका ,यूरोप आदि में फूटा ,वे शोषण के खिलाफ सड़कों पर उतर आये तथा काम के घण्टे कम करने की मांग का संघर्ष तेज हुआ ।पूंजीवाद को उनकी एकता कतई मंजूर नहीं थी ।
इसलिए उन्होंने पूंजीवादी सत्ता से मिलकर मजदूरों का कत्लेआम किया ।
इस प्रकार 1 मई 1886 में शिकागो शहर के मजदूरों के विद्रोह ने मेहनतकशों के जीवन में ऐतिहासिक परिवर्तन किया मजदूरों की 8घण्टे काम की मुराद पूरी हुई ।हालांकि उन्हें इसकी भारी कीमत चुकानी पड़ी ,शिकागो की सड़क मजदूरों के खून से लतपत हुई तथा मजदूरों को भारी शहादत देनी पड़ी ,पुलिस ने उन्हें जेल में डाला ।उनके खून से लतपत कपड़े आगे चलकर मजदूरों के संघर्ष एवं एकता का प्रतीक लाल झण्डा विश्व पटल पर ऊभर कर आया ।इसे झण्डे के नीचे विश्वभर के मेहनतकश एकजुट हुऐ ।

कार्ल मार्क्स ने मजदूर वर्ग का विचार भी इस दौर में लिखा ।आगे चलकर सोवियत रूस में कामरेड लेनिन के नेतृत्व में बोल्शेविक क्रान्ति हुई सोवियत रूस ने जारशाही का खात्मा कर लालझण्डे के तले समाजवादी व्यवस्था की सरकार स्थापित की । संघर्षों एवं सोवियत संघ में समाजवादी व्यवस्था के नेतृत्व के परिणामस्वरूप आये बदलाव ने मजदूरों को अनेक देशों ट्रेड यूनियन अधिकार हासिल हुऐ । भारत में भी अंग्रेजों उपनिवेशवाद ने मजबूरन 1926 में मजदूरों को श्रम कानूनों का अधिकार देना पड़ा। वहीं भारत में मजदूरों के आजादी के आन्दोलन में महत्वपूर्ण भूमिका को मद्देनजर अंग्रेजों बर्ष 1929 में मजदूर विरोधी ट्रेडयूनियन डिस्पुय्ट बिल जैसे ही असेम्बली में पेश किया वैसे भगतसिंह एवं उनके साथियों ने दिल्ली असेम्बली में बम फेंककर इसे विफल किया ।
ट्रेड यूनियन अधिकारों के तहत भारत में बर्ष 1973 तक कारखानों, संस्थानों तथा सरकारी जगह पर स्थायी रोजगार मिलता रहा है, किन्तु इसके बाद इसमें भारी फेरबदल की प्रक्रिया की शुरूआत हुई । पूंजीवादी सरकारें धीरे धीरे कारपोरेट एवं बहुराष्ट्रीय कम्पनियों की खुलकर पिछलग्गू बनने लगी तथा कल्याणकारी राज्य की भावनाओं के खिलाफ खुलकर खड़ी होने लगी । धीरे धीरे सोवियत संघ के पराभव का असर दिखने लगा और भारत के शासक वर्ग के अमेरिका की ओर झुकाव के चलते बर्ष 1990 के बाद कांग्रेस के पीएम नरसिंम्म्हाराव ने पुरानी नीतियों को पलटना शुरू कर तथा नीजिकरण तथा ठेकेदारी प्रथा लागू करने की नीतियां अपनायी । जिसे आज संघ परिवार के नेतृत्व वाली भाजपा की मोदी सरकार ने बडे़ ही निर्ममतापूर्वक के आगे बढ़ाकर न केवल बचे खुचे रोजगारों को , बल्कि पूरे ढा़ंचे को तहस नहस कर कोरपोरेट को ओने पौने दामों पर नीलाम कर देश को कई बर्ष पीछे ढकेलने का कार्य किया ।जो कि हमारी देश की जनता के साथ एक बड़ा धोखा है । वर्तमान सरकार की कारफोरेटपरस तथा साम्प्रदायिक नीतियों के खिलाफ मजदूर वर्ग सहित समाज के विभिन्न हिस्सों को संगठित कर संघर्ष को तेज करना होगा यही मई दिवस के शहीदों के प्रति सच्ची श्रृध्दान्जलि होगी तथा इसी में हमसब का हित जुड़ा हुआ है ।_“`

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!