शहीद योगम्बर सिंह पंच तत्व में विलीन, हजारों पुरनम आखों ने दी अऋुपूरित विदाई

Spread the love

 

राजेश्वरी राणा पोखरी से

पोखरी, 17 अक्टूबर। पुंछ सेक्टर में अपने साथी विक्रमसिंह नेगी के साथ आतंकवादियों का मुकाबला करते हुये मातृभूमि के लिये सर्वोच्च बलिदान देने वाले शहीद योगम्बर सिंह भण्डारी का रविवार को अपने पैतृक घाट त्रिवेणी (त्रिपणी) में हजारों नम आखों की उपस्थिति में पूरे सैनिक सम्मान के साथ अंतिम संस्कार कर दिया गया। पोखरी विकास खण्ड के इस सैन्य बहुल क्षेत्र में जम्मू-कश्मीर से ताबूत में किसी शहीद का आना पहली घटना है।

 

विकास खण्ड के   सांकरी गांव निवासी 17 गढ़वाल राइफल्स के  शहीद सैनिक योगमबर सिंह भण्डारी का उनके पैतृक  घाट बामनाथ के निगोमती नदी के तट पर त्रिवेणी घाट पर  पूरे सैनिक सम्मान के साथ  आज दोपहर में अंतिम संस्कार कर दिया गया।उनका पार्थिव शरीर जैसे ही गांव में पहुंचा कोहराम मच गया परिजन मां जानकी देवी पत्नी कुसुम देवी शव से लिपट कर रो रो कर बिलखने लगे उसके बाद उनका अंतिम संस्कार उनके पैतृक घाट त्रिवेणी पर कर दिया गया।

सेना के 11 मराठा  रेजीमेंट के जवानों ने उन्हें गार्ड आफ आनर दिया ।शहीद योगमबर सिंह के अंतिम संस्कार में  बड़ी संख्या में लोगों का हुजूम उमड़ पड़ा और जब तक सूरज चांद रहेगा योगमबर तेरा नाम रहेगा, पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाये। आज दिन में जैसे ही सेना के वाहन से उनका पार्थिव शरीर उनके गांव सांकरी पहुंचा तो माता पिता पत्नी शव से लिपट कर रोने लगे बड़ी संख्या में रिश्तेदार गांव के लोग परिजनों को सांत्वना देने और अंतिम संस्कार में पहुंचे  बद्रीनाथ के विधायक महेंद्र प्रसाद भट्ट और पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र भण्डारी मंत्री ने  परिजनों को ढांढस बंधाया।

उसके बाद निगोमती नंदी के किनारे त्रिवेणी घाट पर गमहीन माहोल में उनका अंतिम संस्कार किया गया उनकी चिंता को उनके छोटे भाई बासुदेव भण्डारी  ने मुखाग्नि दी ।मां जानकी देवी और पत्नी कुसुम देवी का रो रो कर बुरा हाल है। पिता बीरेंद्र सिंह भण्डारी ने हिम्मत नहीं हारी और अपने बेटे को अंतिम विदाई दी तथा कहा कि उन्हें अपने बेटे पर गर्व है वह देश के काम आया और मातृभूमि की रक्षा करते हुये बीरगति को प्राप्त हुआ। विदित है कि विकास खण्ड  के ग्राम-सांकरी  गांव निवासी 26 वर्षीय योगम्बर मूल रूप से 17 वीं गढ़वाल रायफल्स के जवान थे और वर्तमान में राष्ट्रीय रायफल्स के साथ संलग्न थे।

वह 14 अक्टूबर की शाम को जम्मू-कश्मीर के पुंछ में मातृभूमि की रक्षा करते हुये  आतंकवादियों से लोहा लेते हुये मुठभेड़ के दौरान   शहीद हो गये थे।  आज सुबह  10 बजे कर 30 मिनट पर  जैसे ही सेना के वाहन से तिरंगे  में लिपटा हुआ उनका पार्थिव शरीर पोखरी होते हुये  उनके  पैतृक गांव सांकरी में पहुंचा तो  पूरे रास्ते में लोगों ने जगह जगह उनके शव पर पुष्प वर्षा की और योगमबर सिंह  जब तक सूरज चांद रहेगा योगमबर तेरा नाम याद रहेगा पाकिस्तान मुर्दाबाद के  नारे लगाये ।जैसे ही दर्शनार्थ उनका पार्थिव शरीर उनके गांव सांकरी पहुंचा तो बड़ी संख्या में लोग उनके शव के दर्शनार्थ पहुंचे तथा  पूरे गांव के  लोगो की आंखों से आंसू छलक उठे  उनकी पत्नी कुसुम देवी उनके शव से लिपट गयी जिसके बाद उनके पार्थिव शरीर को उनके पैतृक घाट त्रिवेणी ले जाया गया जहां पूरे सैनिक सम्मान  के साथ 11 मराठा रेजीमेंट के जवानो द्धारा  गार्ड आफ आनर देने के बाद उनका  अंतिम संस्कार किया गया। शहीद  योगमबर सिंह के अन्तिम संस्कार में बद्रीनाथ के विधायक महेंद्र प्रसाद भट्ट, पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र भण्डारी भाजपा जिलाध्यक्ष रघुवीर विष्ट, नगर पंचायत अध्यक्ष लक्ष्मी प्रसाद पंत, ब्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष महेन्द्र प्रकाश सेमवाल,  उपजिलाधिकारी सन्तोष कुमार पांडे, नायव तहसीलदार योगमबर नेगी, आर के मोहन रावत पटवारी, विजय कुमार पुलिस उपाधीक्षक धन सिंह तोमर, थानाध्यक्ष मनोहर भण्डारी, एस आई शिवदत्त जमलोकी एस आई मीनाक्षी विष्ट सोल्जर बोल्ड के कर्नल डी एस वर्तवाल  कैप्टेन रमेश वर्तवाल नन्दन सिंह पंवार सहित बड़ी संख्या में   क्षेत्रीय जनप्रतिनिधि  ब्यापारी जनता और  गणमान्य व्यक्ति  शामिल हुये।

शहीद सैनिक योगमबर सिंह 5 वर्ष पहले सेना में भर्ती  हुआ था ,और 17 गढ़वाल राइफल्स के 48 आर आर में जम्मू-कश्मीर के पुंछ में तैनात था उनके शहीद होने की  सूचना आर्मी हेडक्वार्टर से उनके पिता बीरेंद्र सिंह भण्डारी को विगत 15 अक्टूबर को दिन के 2 बजे  प्राप्त हुई थी जिसके बाद पूरे गांव और परिवार में मातम छा गया परिवार पर दुखो का पहाड़ टूट गया   ,वह अपने पीछे  पिता बीरेंद्र सिंह भण्डारी माता जानकी देवी 23 वर्षीय पत्नी कुसुम देवी 1 वर्षीय पुत्र अक्षत बहिन ऋतु भाई बासुदेव  सिंह प्रशान्त सिंह को छोड़ गया है योगमबर की शादी 3 वर्ष पहले कुसुम देवी से हुई थी ।

thousands of people thronged to have a glimpsof martyr’s motal remains at his house in Sankari village in Chamoli Garhwal.

सैनिक योगमबर सिंह के निधन पर पूर्व कैबिनेट मंत्री राजेन्द्र भण्डारी जिला पंचायत अध्यक्ष रजनी भण्डारी प्रमुख प्रीती भण्डारी विधायक महेंद्र प्रसाद भट्ट नगर पंचायत अध्यक्ष लक्ष्मी प्रसाद पंत  कांग्रेस के प्रदेश सचिव सत्येन्द्र नेगी  ब्लाक अध्यक्ष कुंवर सिंह चौधरी नगर अध्यक्ष सन्तोष चौधरी भाजपा के जिला मीडिया प्रभारी महावीर रावत ब्यापार मंडल के जिलाध्यक्ष महेन्द्र प्रकाश सेमवाल ब्लाक अध्यक्ष मंगल सिंह नेगी भाजपा ग्रामीण मंडल अध्यक्ष  अध्यक्ष बीरेन्द्रपाल भण्डारी विजयपाल रावत आनन्द राणा भाकपा के स्टेंट काउंसिल नरेन्द्र रावत सहित तमाम जनप्रतिनिधियों ने गहरा दुःख ब्यकत करते हुये मृतक आत्मा की शांति के लिये भगवान से प्रार्थना की है तथा शोक संतृप्त परिवार के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!