आजादी के 74 साल बाद भी सकण्ड जैसे कई गांव सड़क सुविधा से बंचित होने से लोगों का हो रहा पहाड़ से पलायन

Spread the love

ललिता प्रसाद लखेड़ा की रिपोर्ट–

सिदोली / चमोली 24 नवंबर। सरकारें चाहे जितने भी दावे करे मगर हकीकत यह है कि आजादी के 74 साल बाद भी जनपद चमोली में कर्णप्रयाग विधानसभा क्षेत्र के सकंड जैसे बहुत सारे  गांव आज भी यातायात सुविधा से बंचित हैँ। जिस कारण गांवों से लोगों का पलायन हो रहा है।  अभी तक कोई भी सरकार कर्णप्रयाग विकासखंड के इस सुदूरवर्ती गांव सकंड को सड़क सुविधा से नहीं जोड़ पायी है। जिस वजह से गांववासी सात किलोमीटर की पैदल आवाजाही करने को मजबूर हैं।

यातायात सुविधा न होने से गम्भीर रोगियों के साथ ही गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिऐ अस्पताल पहुंचाना गांववासियों के लिऐ भारी समस्या बनी हुई है। गांव के सामाजिक कार्यकर्ता दिगम्बर बिष्ट बताते हैं कि सड़क सुविधा की मांग करते हुये गांववासी थक चुके हैं। आजादी के 74 साल में कई सरकारें आईं और गईं लेकिन किसी ने भी सकंड गांव की सुध लेना जरूरी नहीं समझा। कहते हैं कि सड़क सुविधा के अभाव में कई बीमार लोग रास्ते में ही दम तोड़ देते हैं। गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिऐ अस्पताल पहुंचाना हमारे लिऐ बहुत ही कठ्ठिन कार्य हो रखा है।
सामाजिक कार्यकर्ता दिगम्बर बिष्ट कहते हैं कि हमारे सिदोली क्षेत्र से ही अनिल नौटियाल जी भाजपा से तीन बार के विधायक हो गये हैं। उनसे भी गांववासी सड़क सुविधा की मांग कर चुके हैं लेकिन अभी तक सड़क सुविधा के बारे में कोई भी कार्यवाही होती नहीं दिखाई दे रही है। उन्होंने उम्मीद जताई है कि इस बार अवश्य ही विधायक अनिल नौटियाल जी गांववासियों की वर्षों पुरानी मांग को पूरा करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!