दून विश्वविद्यालय के नव प्रवेशित विद्यार्थियों के लिए ओरिएंटेशन कार्यक्रम : कुलपति की गुरुतर सीख -सफल जीवन के लिए प्रबंधन अवश्यक

Spread the love

उत्तराखंड हिमालय ब्यूरो

देहरादून,30  अगस्त । दून विश्वविद्यालय के प्रबंध शास्त्र विभाग द्वारा आयोजित नव प्रवेशित विद्यार्थियों के लिए आयोजित ओरिएंटेशन कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कुलपति प्रोफेसर सुरेखा डंगवाल ने कहा कि प्रबंधन का क्षेत्र काफी व्यापक एवं उम्मीदों से भरा हुआ है । जीवन के किसी भी क्षेत्र में यदि सफलता अर्जित करनी है तो प्रबंधन अति आवश्यक है।

प्रोफेसर सुरेखा डंगवाल ने कहा कि आज के प्रतिस्पर्धी दौर में उचित प्रबंधन के माध्यम से ही व्यक्ति अपनी दिनचर्या को व्यवस्थित एवं तनाव मुक्त रख सकता है और एक तनाव रहित व्यक्ति ही कार्यक्षेत्र में सही व सटीक निर्णय लेने में सक्षम होता है । इसलिए प्रबंधन के विद्यार्थियों को व्यावसायिक व कारपोरेट जगत से इतर समाजिक क्षेत्र में अपनी भूमिका निभानी होगी।

इस अवसर पर ओएनजीसी के पूर्व एग्जीक्यूटिव डायरेक्टर मानव संसाधन श्री आलोक मिश्र ने कहा कि प्रबंधन पेशेवरों को उद्योग व व्यापार की अल्पकालीन, मध्यकालीन व दीर्घकालीन कार्य योजना तैयार करने के लिए आवश्यक कौशल अर्जित करने होंगे । उन्होंने कहा कि व्यापार व उद्योग का वातावरण तकनीकी विकास सामाजिक उन्नयन के माध्यम से निर्धारित होते हैं । और इसलिए हमें नवोन्मेषी तकनीक के साथ साथ वैश्विक समाज में होने वाले बदलावों की भी जानकारी होनी आवश्यक है तभी एक उद्योग सफलता अर्जित कर सकेगा। श्री मिश्र ने कहा कि विद्यार्थियों को एक प्रबंध पेशेवर  के रूप में अध्ययन काल यानि अभी से ही अपनी दिनचर्या व्यवस्थित करनी होगी ।

प्रबंधन पाठ्यक्रम विद्यार्थियों को सफल पेशेवर व नागरिक रूप में जीवन जीने के स्किल भी सिखाता है। उन्होंने कारपोरेट  जगत से जुड़े कई  उदाहरण साझा किए। कार्यक्रम में केंद्रीय पुस्तकालय अध्यक्ष डॉ आशीष कुमार, प्रोफेसर हर्ष डोभाल, रीना सिंह, डॉक्टर आशीष सिन्हा, डॉक्टर प्राची पाठक, डॉ नितिन कुमार, डॉ स्मिता त्रिपाठी, ने विश्वविद्यालय की ट्रेनिंग व प्लेसमेंट, परीक्षा नियमावली, पुस्तकालय प्रक्रिया, सांस्कृतिक गतिविधियों एवं उद्धमिता विकास से संबन्धित जानकारीयाँ साझा की । कार्यक्रम का संचालन डॉ सुधांशु जोशी ने किया । अतिथियों का स्वागत एवं धन्यवाद ज्ञापन करते हुए विभागाध्यक्ष प्रोफेसर एच सी पुरोहित ने कहा कि प्रबंध शास्त्र स्कूल कारपोरेट व उद्योग जगत की जरुरतों के अनुसार पाठ्यक्रम का निर्माण करता है जो विद्यार्थियों को एक सफल प्रबंध पेशेवर के रुप में तैयार करने की दिशा मे महत्वपूर्ण कदम है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!