किसी कान्वेंट स्कूल से कम नहीं सीमांत जिला चमोली के देवाल का यह सरकारी स्कूल

Spread the love

–थराली से हरेंद्र बिष्ट–

लगातार प्रयासों से किसी भी सफलता को हासिल किया जा सकता हैं इसके लिए बस एक जुनून की आवश्यकता होती हैं। ऐसा ही कुछ कर दिखाने में राजकीय आदर्श प्राथमिक विद्यालय देवाल के शिक्षकों ने कर दिखाया। यहां शिक्षकों के बेहतरीन प्रयासों के चलते विद्यालय के छात्र, छात्राएं किसी बेहतरीन कांवेंट स्कूलों के छात्रों से किसी भी मामले में कम नही है। जिसे हर स्तर पर सराहा जाना चाहिए, और सराहा भी जा रहा हैं।

दरअसल ब्लाक मुख्यालय देवाल में सरकार ने दशकों पहले एक प्राथमिक पाठशाला स्थापित की जिसकी अपनी अलग ही पहचान थी। उत्तराखंड अलग राज्य बनने के बाद इसके और विकसित होने की की आशा जताई जा रही थी, किन्तु हुआ ठीक इसके उल्टा यहां पर सुविधाएं तो लगातार बढ़ती रही, किन्तु इस के विपरीत इसमें छात्र संख्या लगातार घटती रही और शिक्षण वर्ष 2014-15आते आते इस विद्यालय की छात्रा संख्या मात्र 15 रह गई थी।तब माना जाने लगा था कि एक या दो वर्ष में राज्य के अन्य विद्यालयों की तरह यह विद्यालय भी बंद हों जाएगा। किन्तु इसी वर्ष राज्य सरकार ने प्रत्येक ब्लाक में कुछ स्कूलो को आदर्श विद्यालय के रूप में विकसित करने की नीति बनाई इसके तहत देवाल प्राथमिक स्कूल को भी आदर्श विद्यालय के लिए चयनित किया गया। इसके लिए पांच मेहनती, जुझारू एवं उत्कृष्ट शिक्षकों का चयन कर उन्हें इस विद्यालय का जिम्मा सौंपा।

 

शैक्षणिक वर्ष 2016 में शिक्षक विनोद कुमार, राकेश धिमान,किरन सैजवाल,ममता ढौंढियाल एवं दीपा राजश्री को यहां पर भेजा। इन पांचों शिक्षकों ने कड़ी मेहनत के बलबूते असंभव को संभव कर दिखाते हुए पहले वर्ष ही इस विद्यालय को चर्चाओं में ला दिया। इसके बाद जो प्रति वर्ष छात्र संख्या बढ़ती रही वह तारीफें काबिल हैं। मात्र 7 सालों की मेहनत के बाद आज इस शिक्षा सत्र में यहां पर कुल 143 छात्र- छात्राएं पढ़ रहे हैं

 

अभी जबकि एडमिशन जारी हैं तो माना जा रहा है कि छात्रों की संख्या 150 से आधिक बढ़ सकती हैं। एक ऐसे दौर में जबकि पूरे देश में प्राइवेट स्कूलों में अपने बच्चों को पढ़ाना एक स्टेटस सिंबल बना हुआ हैं, ऐसे में अभिभावक को अपने पाल्य को सरकारी स्कूलों में पढ़वाने के लिए जागरूक करने में शिक्षक जिस तरह सफल रहे उसकी जितनी सराहना की जाए कम ही हैं।
————————-
राप्रवि देवाल की सात वर्षों की उप्लब्धि एक नजर में।
2016-17 में 57
2017-18 में 69
2018-19 में 91
2019-20 में 98
2020-21 में 110
2021-22 में 150
2022-23 में अब तक 143 छात्रों का एडमिशन हों चुका है जबकि एडमिशन प्रक्रिया जारी है।
————–
देवाल को आदर्श विद्यालय का दर्जा दिए जानें के बाद से यहां पर आज तक नियमित प्रधानाध्यापक की तैनाती नही हुई है। अब तक यहां तैनात शिक्षक विनोद कुमार को इस का अतिरिक्त प्रभार दिया गया हैं।जिसे वें बखूबी निभा भी रहे हैं। नियमानुसार आदर्श विद्यालय में 5 शिक्षक एवं 1 प्रधानाध्यापक होना चाहिए किन्तु यहां पर प्रधानाध्यापक की तैनाती तों नही हुई उल्टे एक शिक्षिका का उनके पारिवारिक कारणों से थराली ब्लाक हस्तांतरित कर दिया है।अब यहां पर 6 में से मात्र 4 ही शिक्षक,शिक्षिकाएं तैनात हैं।प्रभारी प्रधानाध्यापक विनोद कुमार के अनुसार अध्यापक कम हैं, किन्तु किसी में भी जोश की कमी नही है। जिसके बलबूते वें बच्चों को बेहतरीन शिक्षा देने में लगें हुए हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!