देवाल के चार किशोरों की रहस्यमई मौत से क्या कभी उठेगा पर्दा??

Spread the love

तों क्या ड्रग्स माफिया पिंडर में भी होने लगे हैं सक्रिय ?

-थराली से हरेंद्र बिष्ट–
विकासखंड मुख्यालय देवाल के इचछोली गांव में निवासरत चार किशोरों की डूब कर हुई दर्दनांक मौत के पीछे के कारणों का रहस्य लगातार गहराता जा रहा है।जिस तरह से काफी कम पानी वाले कैल नदी के एक छोटे से तालाब में एक साथ चार हष्टपुष्ट किशोरों की मौत हुई हैं। उससे कई तरह के सवाल फिजाओं में तैरने लगे हैं। जिनके उत्तर अब तक नही मिल पाएं हैं।


बताते चलें कि शुक्रवार की दोपहर ढाई बजें से लापता चार किशोरों के शव देवाल के निकटवर्ती गांव कलसिरी के नीचे कैल नदी के एक तालाब में मिलें। इच्छोली,सोड़िग,धरा एवं ओडर गांव के 15 से 17 वर्षीय यें किशोर राइका देवाल में अध्ययनरत थें। इन दिनों जबकि पूरे प्रदेश में कड़ाके की ठंड पड़ रही हैं ऐसे में ठंडे इलाकों में सुमार पिंडर घाटी में भी बेहद कड़ाके की ठंड पड़ रही हैं। बावजूद इसके आखिर किन परिस्थितियों में किशोर अपने इच्छोली स्थित घरों से 2 से 3 किमी की दूरी पर स्थित घटना स्थल पर पहुंचे और एक साथ ही उनकी नदी में डूब कर मौत हों गई यह एक रहस्य बन गया हैं।मौत की पहेली को मृतक के परिजन एवं घटनास्थल से लौट रहे लोग जितना सुलझाने का प्रयास कर रहे हैं। उतना ही किंतु परंतु के सवालों में उलझाते चलें जा रहें हैं। कयास लगाया जा रहा है कि कही चारों किशोरों ने किसी तेज अज्ञात ड्रग्स का सेवन तों नही किया होगा। इस संबंध में पूरे क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म है। नदी में उतरने से पहले चारों किशोरों ने जों कपड़े नदी किनारे उतारें थें उनमें से सिगरेट, गुटखा आदि नशीली वस्तुओं के मिलने से माना जा रहा हैं कि किशोर धुम्रपान के शौकीन थें। ऐसे में अनुमान लगाया जा रहा है कि हो ना हों चारों ने एक साथ मिलकर घटना स्थल पर किसी अज्ञात तेज नशीले पदार्थ का सेवन किया होगा, और इसी नशें की हालत में वें नदी में उतर गऐ होंगे और डूब कर उनकी एक साथ मौत हों गई। नदी में इन दिनों पानी भी बेहद ठंडा हैं। बहरहाल चार दोस्तों की एक साथ दर्दनांक मौत की गुत्थी कभी सुलझ भी पाएगा या नही यह तों आने वाले समय में ही पता चल पाएगा।
नदी में बने छोटे से तालाब में जिस तरह से किशोरों की मौत हुई है,उसके संबंध में थराली के उपजिलाधिकारी रविंद्र जुवांठा ने बड़े आहत मन से बयान देते हुए कहा कि मामले की गंभीरता से जांच जाएगी। एसडीएम के इस बयान का मंतव्य निकाला जा रहा है कि पुलिस, प्रशासन भी इन मौतों को केवल दुर्भाग्यवश हुई मौत नही मान रहा बल्कि उसे भी इसकेे पीछे कोई संदेह दिखाई पड़ रहा हैं। और यह संदेह नशें की ओर इसारा कर रहा है।
—————–
*सामुहिक मौत के मामले की हों गंभीरता से जांच*

थराली बार एसोसिएशन के अध्यक्ष डीडी कुनियाल, चिन्हित राज्य आंदोलनकारी परिषद के प्रदेश अध्यक्ष भूपेंद्र सिंह रावत, देवाल प्रमुख दर्शन दानू, देवाल के क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रमोद मिश्रा आदि ने संदेह व्यक्त किया है कि हो ना हों पूरी पिंडर घाटी में ड्रग्स कारोबारी मौत के कारोबार को तेजी के साथ फैलाने का प्रयास कर रहे हैं। इसके तहत स्कूल, कालेजों के छात्रों को अपने मकड़ जाल में फांसने के प्रयास में जुटें हुए हैं।उनका मानना है कि इसके लिए पुलिस, प्रशासन के साथ ही क्षेत्र के जनप्रतिनिधियों एवं अभिभावकों को भी बेहद तेजी के साथ सक्रिय होने की जरूरत है। तभी मौत के सौदागरों से भावी पीढ़ी को सुरक्षित रखा जा सकता हैं। उन्होंने नशें की प्रवृत्ति को रोकने के लिए जन-जागरूकता को बढ़ाने एवं अभिभावकों को अपने पाल्यों पर कड़ी नजर रखने की भी वकालत की।

——–
*ओसीबी पेपर के बिकने का क्या हैं राज*

सूत्रों के अनुसार पिंडर घाटी के तमाम प्रमुख बाजारों में ओसीबी पेपर बे रोक टोक बिक रहा है। आखिर इन पेपरों के बिकने का क्या राज है,इस पर कई तरह के सवाल खड़े हों रहें हैं। इस पेपर को दुकानों में रख बेचने पर किसी तरह का प्रतिबंध हैं भी या नही यह भी एक सवाल बन कर उभर रहा हैं।

*पुलिस हर कोण से घटना की कर रही हैं जांच*

चमोली के पुलिस अधीक्षक प्रमेन्द्र डोबाल ने देवाल की घटना पर दुःख व्यक्त करते हुए कहा कि पुलिस पोस्टमार्टम का इंतजार कर रही हैं। इसके साथ ही घटना की सभी कोणों से जांच कर रही हैं,कहा कि जनता की ड्रग्स से संबंधित आशंका के कोण पर भी पुलिस जांच कर रही हैं। पोस्टमार्टम रिपोर्ट के बाद घटना का खुलासा करने का पूरा प्रयास किया जाएगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!