क्यों बताया फिल्म महोत्सव की जूरी के मुखिया ने “कश्मीर फाइल्स” को दुष्प्रचार करने वाली भद्दी फिल्म

Spread the love
-जयसिंह रावत –
भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव, इफ्फी के 53वें संस्करण का समापन हो गया मगर समारोह के अंतिम दिन जूरी के मुखिया और इस्राइल के फ़िल्मकार नादव लैपिड की कश्मीर फाइल पर की गयी तीखी अप्रत्याशित  टिपण्णी की गूंज सारे देश में छा  गयी। द कश्मीर फाइल्स’ फिल्म पर नया विवाद शुरू हो गया है। विवाद IFFI इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया से शुरू हुआ, जब जूरी हेड ने फिल्म की निंदा की. उन्होंने ‘द कश्मीर फाइल्स’ को एक प्रोपेगेंडा और वल्गर फिल्म करार दिया है. भाजपा सरकार समर्थक जहाँ लैपिड को ट्रोल कर रहे हैं उनकी लानत मलानत का र रहे हैं वहीँ विपक्ष  इसे प्रोपेगंडा का पर्दाफाश बता रहा है।
https://youtu.be/mMhAxHwBtXM
” द कश्मीर फाइल्स ” 11 मार्च को सिनेमाघरों में रिलीज हुई थी।   यह ‘इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया’ के ‘इंडियन पनोरमा सेक्शन’ का हिस्सा थी और इसका 22 नवंबर को प्रदर्शन किया गया था।   इस फिल्म के लेखक और निर्देशक विवेक अग्निहोत्री हैं।   इसके निर्माता ज़ी स्टूडियोज हैं।  फिल्म पाकिस्तान समर्थित आतंकवादियों द्वारा कश्मीरी पंडितों की हत्या के बाद समुदाय के कश्मीर से पलायन पर आधारित है. इसमें अभिनेता अनुपम खेर, दर्शन कुमार, मिथुन चक्रवर्ती और पल्लवी जोशी समेत अन्य प्रमुख किरदारों में हैं।
IFFI के जूरी हेड का पूरा बयान
IFFI के जूरी हेड नादव लापिड ने समापन समारोह के दौरान फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ को ‘अश्लील’ और ‘अनुचित’ करार दिया. लापिड ने कहा, “हम सभी 15 सदस्य फिल्म ‘द कश्मीर फाइल्स’ से परेशान और स्तब्ध थे।  यह हमें एक प्रचार, अश्लील फिल्म की तरह लगा, जो इतने प्रतिष्ठित फिल्म समारोह के कलात्मक प्रतिस्पर्धी वर्ग के लिए अनुपयुक्त है. इस मंच पर आपके साथ इन भावनाओं को खुलकर साझा करने में मैं पूरी तरह से सहज महसूस कर रहा हूं।  चूंकि, महोत्सव की भावना निश्चित रूप से एक महत्वपूर्ण चर्चा को भी स्वीकार कर सकती है, जो कला और जीवन के लिए आवश्यक है।  “
कांग्रेस सोशल मीडिया चेयरपर्सन सुप्रिया श्रीनेत ने कश्मीर फाइल्स विवाद और IFFI जूरी हेड नादव लापिड की टिप्पणी का समर्थन किया है। सुप्रिया श्रीनेत ने कहा, “पीएम मोदी, उनकी सरकार, बीजेपी, आरडब्ल्यू इकोसिस्टम ने ‘द कश्मीर फाइल्स’ को खूब बढ़ावा दिया। एक ऐसी फिल्म है जिसे इंटरनेशनल फिल्म फेस्टिवल ऑफ इंडिया ने अस्वीकार कर दिया. जूरी हेड नादव लापिड ने इसे ‘प्रोपेगैंडा, अश्लील फिल्म, फिल्म फेस्टिवल के लिए अनुपयुक्त’ बताया है। आखिरकार नफरत दूर हो जाती है।”
फिल्म मेकर अशोक पंडित ने भी कश्मीर फाइल्स फिल्म के लिए पर IFFI जूरी हेड के बयान पर कड़ा एतराज जताया है. उन्होंने IFFI जूरी हेड से फौरन माफी मांगने की मांग की है।
वीडियो के वायरल होने के बाद अनुपम खेर ने भी सोमवार रात एक ट्वीट किया. इसमें उन्होंने कुछ तस्वीरें पोस्ट की और इसके साथ लिखा, “झूठ का कद कितना भी ऊंचा क्यों न हो…सत्य के मुकाबले में हमेशा छोटा ही होता है.”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!