डॉक्टरों के बिना अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र गौचर मात्र रैफर सेंटर बनकर रह गया

Spread the love

–गौचर से दिग्पाल गुसांईं–
आवश्यक सुविधाओं व विशेषज्ञ चिकित्सकों के अभाव में जनपद चमोली का अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र मात्र रैफर सेंटर बनकर रह गया है।
रानीगढ़, दशजूला व खदेड़ पट्टी के दर्जनों गांवों व नगरपालिका गौचर की हजारों जनता की स्वास्थ्य सुविधा के लिए सन् 60 के दशक में खोले गए गौचर प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र के उच्चीकरण की मांग लंबे समय से की जाती रही है।लेकिन अलग राज्य बनने के 22 साल बीतने के बाद भी इस चिकित्सालय का उच्चीकरण न होने से यहां की जनता को छोटी छोटी बीमारियों के इलाज के लिए अन्यत्र जाना पड़ता है।

गंभीर बीमारी व दुर्घटनाओं के समय पर उचित इलाज न मिल पाने से चिकित्सालय द्वारा रैफर किया जाता है या लोगों को जान गंवाकर इसका खामियाजा भुगतना पड़ता है। इसे क्षेत्र के लोगों का दुर्भाग्य कहें या क्षेत्र की उपेक्षा अलग राज्य बनने के बाद मुख्यमंत्री नारायण दत्त तिवारी के कार्यकाल में तत्कालीन बद्रीनाथ के विधायक डा अनशूया प्रसाद मैखुरी के निवेदन व संसुति के आधार पर तत्कालीन स्वास्थ्य मंत्री तिलकराज बेहड़ ने वित सहित इस चिकित्सालय के उच्चीकरण की स्वीकृति दे दी थी। उनके द्वारा 1 करोड़ 39 लाख की लागत से इस चिकित्सालय के भवन का स्ट्रक्चर तो खड़ा कर दिया गया। लेकिन मानकों के आड़े आने से उच्चीकरण का शासनादेश जारी नहीं हो पाया था। इसके बाद भाजपा सरकार में स्वास्थ्य मंत्री रहे डा रमेश पोखरियाल निशंक ने भी इस चिकित्सालय को सभी सुविधाओं से सरसब्ज करने का आश्वासन दिया दिया। लेकिन दुःख इस बात का है कि उनका आश्वासन भी हवाई साबित हुआ।

ताजुब तो इस बात का है इस मामले में लगातार कांग्रेस को घेर रही भाजपा के शासनकाल में कर्णप्रयाग के विधायक रहे सुरेंद्र सिंह नेगी के कार्यकाल में इस चिकित्सालय का उच्चीकरण करने के बजाय इसका दर्जा घटाकर अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र कर क्षेत्र की जनता के साथ धोका किया गया।इस बार 14 नवंबर को गौचर मेले का उद्घाटन करने पहुंचे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी व स्वास्थ्य मंत्री धन सिंह रावत की मौजूदगी में पालिकाध्यक्ष अंजू बिष्ट ने गौचर चिकित्सालय के उच्चीकरण की मांग की लेकिन उन्होंने इस मांग को अनसुना कर क्षेत्र की जनता को भारी निराश भी किया।जिसका खामियाजा कल गौचर दुवा कांडा मोटर मार्ग पर हुई कार दुर्घटना में दो युवकों को जान देकर चुकाना पड़ा। क्षेत्र की जनता इस चिकित्सालय के उच्चीकरण की मांग लंबे समय से करती आ रही है।

लेकिन कोई सुनने को तैयार नहीं है। शनिवार देर रात गौचर के समीप दुवा कांडा मोटर मार्ग पर हुई दुर्घटना के घायलों को उचित इलाज न मिलने से गुस्साए कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने सोमवार को चिकित्सालय परिसर में सांकेतिक तालाबंदी व सामूहिक उपवास का निर्णय लिया है।इसकी जानकारी कांग्रेस नगर अध्यक्ष सुनील पंवार ने दी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *