दबंग महिलाओं ने किया रिटायर सचिवालय कर्मी का मकान कब्जाने का प्रयास

Spread the love

देहरादून, 18 जुलाई (प्रभुपाल)। दबंग महिलाओं ने घर का ताला तोड़कर, सेवानिवृत्त उत्तराखंड सचिवालय कर्मी के घर में घुसकर मचाया उत्पात व तांडव। आरोप है कि दबंग महिलाओं का गिरोह माफिया के इशारे पर काम करता है।

76 वर्षीय वृद्ध मोहन प्रसाद खनसली, वर्तमान निवासी रतनपुर नया गाँव,शिमला रोड़ देहरादून,जो कि सन 2010 में उत्तराखंड सचिवालय से सेवानिवृत्त निजी सचिव अधिकारी हैं एवं रिखणीखाल प्रखंड के ग्राम किमाड, तिमलसैण के मूल निवासी हैं। वह रतनपुर नयागाव, देहरादून में अपनी पत्नी के साथ रहते हैं।

 

खनसली का कहना है कि उन्होंने  सन 1986 में यहाँ अपना घर बनाया था, जिसके उनके पास मालिकाना हक के रजिस्ट्री,दाखिल खारिज आदि सभी आवश्यक दस्तावेज उपलब्ध हैं। ये उनका पुराना मकान है,घर में अकेलेपन के कारण इस पर उनका ताला लगाया रहता है।साथ ही इसके बगल में उन्होंने दूसरा मकान भी बनाया जिसमें वह स्वयं व उनकी पत्नी रहती हैं।

खनसली का कहनाहै कि 12 जुलाई को दोपहर तीन बजे अचानक उनके पुराने मकान पर नौ दस अनजान व दबंग महिलाओ ने घर का ताला तोड़कर घर में प्रवेश किया। उनका कहना था कि हमने ये मकान अनीता पत्नी रविन्द्र रावत ग्राम रतनपुर नयागाव से खरीद लिया है,इस पर आपका कोई हक नहीं है।

खनसली का आरोप है कि घर में घुसी महिलाओ को समझाने पर वे गाली-गलौज,अभद्र व्यवहार व मारपीट पर उतारू होकर जान से मारने की धमकी देने लगीं। ये महिलाए  अत्यंत आक्रामक , दबंग प्रवृति की लग रही थी। यह उनके हाव भाव,चेहरे से साफ झलक रहा था। कुुुछ दबंग महिलाएं इसी तरह लोगों की संपत्तियों पर कब्जा करने का काम कर रही हैं।  इसी माह में इस क्षेत्र में ये दूसरी वारदात है। इनका एक गिरोह बना है जो सीधे साधे,भोले भाले लोगों को धमकाते चमकाते हैं। इन्होंने घर में आधे घंटे से अधिक समय तक उत्पात, तांडव मचाये रखा जिससे भोले भाले वृद्ध दम्पति सकते, दहशत में जी रहे हैं व उच्च रक्तचाप के चलते गहरे सदमें में हैं। ये सभी जानकारी स्वयं सेवानिवृत्त उत्तराखंड सचिवालय कर्मी मोहन प्रसाद खनसली ने दी । पुलिस ने अभी तक इस गिरोह के खिलाफ कोई कार्यवाही नहीं की। जबकि सरकार कहती है हम वृद्ध व वरिष्ठ नागरिक का सम्मान हमारे लिए सर्वोपरि है लेकिन यहाँ पर ऐसा कुछ दिखाई देता नहीं है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!