भारत में किसानों की औसत आमदनी 10,218

Spread the love

 

नयी दिल्ली, 7  फरवरी ।सांख्यिकी एवं कार्यक्रम कार्यान्वयन मंत्रालय (एमओएसपीआई) के राष्ट्रीय प्रतिदर्श सर्वेक्षण कार्यालय (एनएसएसओ) ने देश के ग्रामीण इलाकों में कृषि वर्ष जुलाई 2018- जून 2019 के संदर्भ में एनएसएस के 77वें दौर (जनवरी 2019- दिसंबर 2019) के दौरान कृषि से संबद्ध परिवारों की स्थिति का आकलन सर्वेक्षण (एसएएस) किया। एनएसएसओ द्वारा कृषि वर्ष जुलाई 2012-जून 2013 के संदर्भ में एनएसएस के 70वें दौर (जनवरी 2013-दिसंबर 2013) के दौरान भी इसी तरह का सर्वेक्षण किया गया था।

यह जानकारी केंद्रीय कृषि एवं किसान कल्याण मंत्री श्री अर्जुन मुंडा ने लोकसभा में एक लिखित उत्तर में दी।

एसएएस के निष्‍कर्ष के अनुसार, 2012-13 और 2018-19 के दौरान कृषि से संबद्ध प्रति परिवार की औसत मासिक आय नीचे दी गई है:

अवधि औसत मासिक आय (रु. में)
2012-13

(70वां दौर)

6,426
2018-19

(77 वां दौर)

10,218

स्रोत: एनएसएस रिपोर्ट संख्या 576 एसएएस (70वां दौर-2013) और एनएसएस रिपोर्ट संख्या 587, एसएएस (77वां दौर-2019), एमओएसपीआई।

किसानों के लिए अधिकतम आय प्राप्त करने के लिए सरकार ने प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष रूप से कई नीतियों, सुधारों, विकासात्मक कार्यक्रमों व योजनाओं को अंगीकृत और कार्यान्वित किया है। सरकार के निम्नलिखित प्रयासों को सुगम बनाने के लिए अभूतपूर्व रूप से संवर्धित बजटीय प्रावधान किए गए हैं:

1. पीएम किसान के जरिए किसानों को आय सहायता

2. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना (पीएमएफबीवाई)

3. कृषि क्षेत्र के लिए संस्थागत ऋण

4. उत्पादन पर आने वाली लागत का डेढ़ गुना न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) के रूप में तय करना

5. देश में जैविक खेती को बढ़ावा देना

6. प्रति बूंद अधिक फसल

7. सूक्ष्म सिंचाई निधि

8. किसान उत्पादक संगठनों (एफपीओ) को बढ़ावा देना

9. राष्ट्रीय मधुमक्खी पालन एवं शहद मिशन (एनबीएचएम)

10. कृषि यंत्रीकरण

11. किसानों को मृदा स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराना

12. राष्ट्रीय कृषि बाजार (ई-नाम) विस्तार मंच की स्थापना

13 राष्ट्रीय खाद्य तेल मिशन- ऑयल पाम

14. कृषि अवसंरचना कोष (एआईएफ)

15. कृषि उपज लॉजिस्टिक्‍स में सुधार, किसान रेल की शुरुआत

16. एकीकृत बागवानी विकास मिशन (एमआईडीएच)- क्लस्टर विकास कार्यक्रम

17. कृषि और संबद्ध क्षेत्र में स्टार्ट-अप इकोसिस्टम का सृजन

18. कृषि और संबद्ध कृषि वस्तुओं के निर्यात में सफलता

19. केंद्रीय क्षेत्र की योजना नमो ड्रोन दीदी

उपरोक्त प्रयासों से कृषि और संबद्ध क्षेत्र के सकल मूल्‍य वर्धन (जीवीए) में वृद्धि हुई है, जिससे पिछले पांच वर्षों में 4 प्रतिशत की औसत वार्षिक वृद्धि दर दर्ज की गई है। इन योजनाओं के कार्यान्‍वयन से किसानों की आय बढ़ाने की दिशा में उत्‍कृष्‍ट परिणाम प्राप्‍त हुए हैं। ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के अंतर्गत भारतीय कृषि अनुसंधान परिषद (आईसीएआर) ने एक पुस्तक जारी की है, जिसमें अपनी आय दो गुना से अधिक बढ़ाने वाले असंख्य सफल किसानों में से 75,000 किसानों की सफलता की गाथाओं का संकलन है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!