रियल एस्टेट इकोसिस्टम में जन जागरूकता लाने को होगी वर्कशॉप

Spread the love

 

*रेरा और सिटीजन इंगेजमेंट पार्टनर एसडीसी फाउंडेशन मिलकर करेंगे आयोजन*

*रियल एस्टेट सेक्टर के संवर्धन और लोगों को जागरूक करने का होगा प्रयास*

-उत्तराखंड हिमालय ब्यूरो –

देहरादून, 11 सितम्बर। रियल एस्टेट सेक्टर को मजबूत बनाने और आम लोगों व सभी हितधारकों को जागरूक करने के लिए रियल एस्टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी (रेरा) की ओर से आने वाले दिनों में राज्यभर में पब्लिक अवेयरनेस कार्यशालाओं का आयोजन किया जा रहा है| पहली कार्यशाला का आयोजन अक्टूबर माह में देहरादून में एसडीसी फाउंडेशन के साथ मिलकर किया जाएगा जो सिटीजन इंगेजमेंट पार्टनर के रूप में काम करेगी| यह फाउंडेशन शहरीकरण, पर्यावरण और कचरा प्रबंधन जैसे मसलों पर जन सहभागिता के साथ उल्लेखनीय कार्य कर रही है।

इस बारे में जानकारी देते हुए रेरा के चेयरमैन सेवानिवृत्त आईएएस अधिकारी रबीन्द्र पंवार ने बताया कि प्राधिकरण का मुख्य कार्य रियल एस्टेट परियोजनाओं एवं एजेंटों का पंजीकरण, आवंटियों, संपर्वतकों, विकासकों तथा रियल स्टेट एजेंटों के हितों की रक्षा तथा आवंटियों एवं विकासकों के मध्य उपजे विवादों/ शिकायतों का निस्तारण करना है| इसके अतिरिक्त अधिनियम में संपर्वतकों, रियल एस्टेट एजेंटों तथा आवंटियो हेतु निर्धारित दायित्वों का अनुपालन तथा रेरा कानूनों पर जन जागरूकता पैदा करने हेतु कार्यशाला, सेमिनार एवं प्रशिक्षण आदि कार्यक्रमों का आयोजन भी प्राधिकरण के कार्यों में मुख्य रूप से सम्मिलित है।
रबीन्द्र पंवार ने कहा की इसी के दृष्टिगत प्राधिकरण राज्य के प्रमुख शहरों में कार्यशाला का आयोजन करेगा जिसका मुख्य उद्देश्य रियल एस्टेट सेक्टर के बारे में लोगों को जागरूक करना है| कार्यशाला के माध्यम से रियल एस्टेट से जुड़े सभी हित धारकों की समस्याओं, उनके सामने आने वाली कठिनाइयों, बिल्डर्स और खरीदारों के बीच होने वाले विवाद, सभी पक्षों की शिकायत, उन पर लागू होने वाले नियमों और उन्हें मिलने वाले अधिकारों के बारे में जानकारी उपलब्ध करवाई जाएगी।
रबीन्द्र पंवार के अनुसार इस तरह की पब्लिक अवेयरनेस कार्यशालाएं सरकारी हाउसिंग स्कीम के साथ बिल्डर्स और खरीदारों के लिए भी लाभदायक होंगी। इसके साथ ही रियल एस्टेट एजेंट, चार्टर्ड अकाउंटेंट, आर्किटेक्ट, सिविल इंजीनियर, लॉयर, एमडीडीए, एएचयूडीए, आवास विकास परिषद, उत्तराखंड शहरी विकास मंत्रालय जैसी सरकारी एजेंसियां और विकास प्राधिकरण, हुडको, आरडब्ल्यूए, पीएचडी चैंबर ऑफ कॉमर्स, सीआईआई आदि व्यापारिक और औद्योगिक संगठन, नगर निकाय और मीडिया के लोग भी कार्यशाला से लाभ उठा सकेंगे।
रबीन्द्र पंवार ने कहा कि वह इस कार्यशाला के दूरगामी परिणामों के बारे में आशान्वित हैं| यह एक अभिनव प्रयास है और रेरा भविष्य में भी निरंतर इस तरह के प्रयास करता रहेगा ताकि रियल एस्टेट सेक्टर में पारदर्शिता बनी रहे और इस सेक्टर में आम तौर पर सामने आने वाले विवादों और शिकायतों को कम से कम किया जा सके।
एसडीसी फाउंडेशन के अध्यक्ष अनूप नौटियाल ने कहा कि रेरा की ओर से आयोजित की जाने वाली यह कार्यशाला शहरीकरण और शहरी आवास के दृष्टिकोण से कई मायनों में बेहद महत्वपूर्ण है। यह कार्यशाला प्रदेश के आम जन मानस और रियल एस्टेट सेक्टर में लोगों की आशंकाओं को दूर करने के मामले में मील का पत्थर साबित होगी। उन्होंने आम नागरिकों और रियल एस्टेट सेक्टर के तमाम हितधारकों को एक मंच पर लाने के रेरा के प्रयासों की सराहना की और इस महत्वपूर्ण कार्यक्रम के लिए सिटीजन इंगेजमेंट पार्टनर की जिम्मेदारी एसडीसी फाउंडेशन को देने पर आभार जताया।
अनूप नौटियाल ने कहा कि रेरा की ओर से जल्द ही एक पब्लिक ई-मेल हेल्पलाइन भी जारी की जाएगी और सोशल मीडिया पर उपस्थिति दर्ज की जाएगी। इसके साथ ही आम लोगों से फीडबैक लेकर रियल एस्टेट सेक्टर को मजबूत करने के प्रयास किये जाएंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!