ब्रेन मंथन 2.0 का ताज सृष्टि,हर्ष, स्वीटी के सिर बंधा

Spread the love
तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के सीटीएलडी की ओर से हुई क्विज प्रतियोगिता, स्टुडेंट्स को क्रिटिकल थिंकिंग,क्रिएटिविटी, इन्नोवेशन,प्रॉब्लम सॉल्विंग और कंपेटेंसी बिल्डिंग की कसौटी पर परखा
ख़ास बातें :
  • सूरज की दमक पाने को वैसे ही तपना होगा: वीसी
  • सीटीएलडी का मकसद छात्रों का सर्वांगीण विकास: डॉ. कृष्णिया
  • क्विज प्रतियोगिता में यूनिवर्सिटी के कुल 1059 स्टुडेंट्स ने की शिरकत
  • वैभव, ख़ुशी और वैभव ने पाई सेकेंड पॉजिशन
  • उपेंद्र,मृदुल और प्रशंसा रहे तीसरे पायदान पर
मुरादाबाद, 17  अक्टूबर ।  तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी, मुरादाबाद की ब्रेन मंथन 2.0 क्विज प्रतियोगिता में  क्रिटिकल थिंकिंग और बौद्धिक क्षमता का उत्कृष्ट प्रदर्शन करते हुए सृष्टि मित्तल, हर्ष कुमार और स्वीटी सैनी ने प्रथम स्थान प्राप्त किया। ब्रेन मंथन प्रतियोगिता में यूनिवर्सिटी के कुल 1059 छात्र- छात्राओं ने अपनी किस्मत आजमाई। इससे पूर्व मुख्य सभागार में सेंटर फॉर टीचिंग, लर्निंग एंड डवलपमेंट-सीटीएलडी की ओर से आयोजित ब्रेन मंथन 2.0 क्विज कम्पटीशन का शुभारम्भ बतौर मुख्य अतिथि कुलपति प्रो. रघुवीर सिं ने माँ सरस्वती की प्रतिमा पर माल्यार्पण और दीप प्रज्वलन के संग किया। इस अवसर पर एसोसिएट डीन अकादमिक- प्रो. मंजुला जैन, सीटीएलडी डायरेक्टर- प्रो. आर एन कृष्निया, प्रिंसिपल – प्रो. आरके द्विवेदी,  प्रिंसिपल फार्मेसी – प्रो.अनुराग वर्मा,असिस्टेंट डायरेक्टर, सीआरसी सिद्धार्थ सिंह आदि की गरिमामयी उपस्थिति रही।
प्रतिस्पर्धा के प्रथम चरण- साइन-इन में कुल 951स्टुडेंट्स ने भाग लिया, जिसके बाद 60 विद्यार्थियों का चयन उनके प्रदर्शन के आधार पर दूसरे राउंड – सेंटर-हाफ के लिए किया गया। प्रतियोगिता के दूसरे राउंड – सेंटर-हाफ से 18 विद्यार्थियों को ग्रैंड फिनाले के द-कंक्लूजन राउंड में अपनी प्रतिभा का प्रदर्शन करने का अवसर मिला। क्रिटिकल थिंकिंग और बौद्धिक क्षमता की कसौटी पर वैभव सक्सेना, ख़ुशी चौधरी और वैभव जैन को द्वितीय, जबकि उपेन्द्र कुमार, मृदुल कुमार यादव और प्रशंसा कपूर की टीम ने तृतीय स्थान प्राप्त किया।
बतौर मुख्य अतिथि कुलपति प्रो. रघुवीर सिंह ने कहा, जिंदगी में सफलता प्राप्त करने के लिए प्रत्येक विद्यार्थी को अपना लक्ष्य निर्धारित करना चाहिए। बुद्धिमता के साथ – साथ स्किल डवलपमेंट भी सुचारू रूप से करना चाहिए। उन्होंने कहा कि सूरज की मानिंद चमक पाने के लिए सूरज जैसा तपना पड़ता हैं। स्वयं को विकसित करने की प्रक्रिया में हम सबको अपने हेविट लूप को तोड़कर नए हेविट्स विकसित करने चाहिए। खुद को अपने कम्फर्ट जोन से बाहर निकालकर ग्रोथ जोन में लाने का निरंतर प्रयास करना चाहिए। ज़िंदगी में कुछ नया हासिल करने के लिए हमें नए प्रयास करने चाहिए। उन्होंने ब्रेन मंथन ग्रैंड फिनाले में चयनित सभी प्रतिभागियों को उनके बेहतरीन प्रदर्शन के लिए  शुभकामनाएं दी। एसोसिएट डीन अकादमिक- प्रो. मंजुला जैन ने प्रतियोगिता में बेहतरीन क्रिटिकल थिंकिंग लॉजिकल, रीजनिंग और बेहतर निर्णय लेने के लिए उपयुक्त स्किल्स का उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए सभी विजेता टीम के सदस्यों को बधाई दी।सीटीएलडी के डायरेक्टर- प्रो. आरएन कृष्निया ने कहा कि ब्रेन मंथन 2.0 क्विज कम्पटीशन के आयोजन की प्रक्रिया में विश्वविद्यालय के विद्यार्थियों में क्रिटिकल थिंकिंग, क्रिएटिविटी, इनोवेशन, प्रॉब्लम सॉल्विंग और कम्पेटेन्सी बिल्डिंग आदि महत्वपूर्ण बिंदुओं को ध्यान में रखा गया। बदलते वैश्विक परिवेश में प्रत्येक विद्यार्थी को स्वयं की पहचान बनाने के लिए अपनी कार्यशैली में नवीनीकरण एवं क्रिटिकल थिंकिंग का समायोजन समय की मांग हैं। सीटीएलडी की ओर से समय-समय पर विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाते हैं, जिसका मूलभूत उद्देश्य विद्यार्थियों का सर्वांगीण विकास एवं स्किल डवलपमेंट रहता हैं।
विजेता टीम के सभी सदस्यों को मेडल्स, ट्रॉफिस और सर्टिफिकेट से देकर अतिथियों ने सम्मानित किया । बतौर क्विज मास्टर श्री आशीष अग्रवाल और श्री विकास रंजन की इस प्रतियोगिता में अहम भूमिका अदा की। ब्रेन मंथन 2.0 ग्रैंड फिनाले के दौरान विश्वविद्यालय के मुख्य सभागार में  श्री दिलीप दत्त वार्ष्णेय, श्री अभिनव श्रीवास्तव, जैस्मिन स्टीफेन, श्री अनंत भारद्वाज, श्री अतुल दयाल, श्री रजनीश तिवारी, श्री सागर प्रताप सिंह, अलका दयाल,श्री हिमांशु अग्रवाल, श्री विपिन चौहान,श्री दीपक कटियार, चार्वी खतरी आदि की उपस्थिति रही।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!