जनरल बिपिन रावत और पत्नी के निधन की खबर से उत्तराखण्ड में शोक की लहर

Spread the love

देहरादून, 8 दिसम्बर (उहि)। तमिलनाडू की नीलगिरी पहाड़ियों पर बुधवार को हुयी सेना के हैलीकाप्टर दुर्घटना में देश के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत की मृत्यु के समाचार से सम्पूर्ण उत्तराखण्ड में शोक की लहर छा गयी है। जनरल रावत के साथ ही उनकी पत्नी मधूलिका रावत का भी निधन हो गया है। जनरल रावत पौड़ी गढ़वाल द्वारीखाल ब्लाक के बिरमोली सैण गांव के मूल निवासी थे और उत्तरकाशी के थाती धनारी में उनक ननिहाल था। उन्होंने थल सेनाध्यक्ष बनने के बाद दोनों गावों की यात्रा कर अपनी बचपन की यादें ताजा की थीं। उनके पिता लक्ष्मण सिंह रावत भी सेना में लेफ्टिनेंट जनरल रह चुके थे। वह अपने पीछे दो पुत्रियां छोड़ गये।

उत्तराखण्ड के राज्यपाल ले.जनरल (सेनि) गुरुमित सिंह और मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी सहित विभन्न दलों के नेताओं और सामाजिक संगठनों ने जर्नल रावत के निधन कर गहरा शोक प्रकट किया है।

मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने हेलीकाप्टर दुर्घटना में सीडीएस जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी श्रीमती मधुलिका रावत व अन्य अधिकारियों की आकस्मिक मृत्यु पर गहरा दुख व्यक्त किया है। मुख्यमंत्री ने दिवंगत आत्माओं की शान्ति तथा शोक संतप्त परिजनों को इस दुख को सहन करने की शक्ति प्रदान करने की ईश्वर से प्रार्थना की है।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने जरनल रावत के आकस्मिक निधन को देश के लिए अपूरणीय क्षति बताते हुए कहा कि देश की सुरक्षा के लिए जनरल रावत ने महान योगदान दिया है। देश की सीमाओं की सुरक्षा एवं देश की रक्षा के लिए उनके द्वारा लिये गये साहसिक निर्णयों एवं सैन्य बलों के मनोबल को सदैव ऊंचा बनाये रखने के लिए उनके द्वारा दिये गये योगदान को देश सदैव याद रखेगा।
मुख्यमंत्री श्री पुष्कर सिंह धामी ने कहा कि सीडीएस जनरल बिपिन रावत की परवरिश उत्तराखण्ड के छोटे से गांव में हुई। वे अपनी विलक्षण प्रतिभा, परिश्रम तथा अदम्य साहस एवं शौर्य के बल पर सेना के सर्वोच्च पद पर आसीन हुए तथा देश की सुरक्षा व्यवस्थाओं एवं भारतीय सेना को नई दिशा दी। उनके आकस्मिक निधन से उत्तराखण्ड को भी बड़ी क्षति हुई है। हम सबको अपने इस महान सपूत पर सदैव गर्व रहेगा।
उत्तराखण्ड प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष श्री गणेश गोदियाल, प्रदेश प्रभारी श्री देवेन्द्र यादव, पूर्व मुख्यमंत्री श्री हरीश रावत, सहप्रभारी दीपिका पाण्डेय सिंह, पूर्व प्रदेश अध्यक्ष यशपाल आर्य, एआईसीसी प्रवक्ता प्रो0 गौरव वल्लभ ने भारतीय सेना के सीडीएस, जनरल विपिन रावत के दुर्घटना में हुए आकस्मिक निधन पर गहरा शोक प्रकट किया है। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि सीडीएस जनरल विपिन रावत का असमय आकस्मिक निधन भारतीय सेना की अपूर्णीय क्षति है उनके निधन से जो स्थान रिक्त हुआ है उसकी भरपाई कभी नहीं की जा सकती है। उन्होंने कहा कि जनरल विपिन रावत ने भारतीय सेना के जनरल एवं सीडीएस के महत्वपूर्ण पदों सहित सेना में विभिन्न पदों पर अपनी सेवायें दी। उनका सैन्य सेवा का लम्बा सफर रहा है भारतीय सेना में उनके सराहनीय योगदान को कभी भुलाया नहीं जा सकता है देश की रक्षा के लिए दी गई उनकी सेवायें सदैव याद की जायेंगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!