जनरल बिपिन रावत : उत्तराखण्ड का लाल, देश की आन बान और शान का रखवाला

Spread the love

जनरल बिपिन रावत (PVSM, UYSM, AVSM, YSM, SM, VSM, ADC) भारत के पहले और वर्तमान रक्षा प्रमुख या चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (सीडीएस) हैं; उन्होंने ने 1 जनवरी 2020 को रक्षा प्रमुख के पद का भार ग्रहण किया। इससे पूर्व वो भारतीय थलसेना के प्रमुख थे। रावत 31 दिसंबर 2016 से 31 दिसंबर 2019 तक थल सेनाध्यक्ष के पद पर रहे

General Bipin Rawat and his wife Madhulika Rawat in his native village Sain in Pauri Garhwal.

जनरल रावत पौड़ी जिले के द्वारीखाल ब्लाक के सैंण गांव के मूल निवासी हैं। उनका जन्म 16 मार्च 1958 को हुआ । इनके पिता लेफ्टिनेंट जनरल लक्ष्मण सिंह रावत, जो सेना से लेफ्टिनेंट जनरल के पद से सेवानिवृत्त हुए। रावत ने ग्यारहवीं गोरखा राइफल की पांचवी बटालियन से 1978 में अपने करियर की शुरुआत की थी। रावत ने देहरादून में कैंबरीन हॉल स्कूल, शिमला में सेंट एडवर्ड स्कूल और भारतीय सैन्य अकादमी , देहरादून से शिक्षा ली , जहां उन्हें ‘सोर्ड ऑफ़ ऑनर ‘ दिया गया। वह फोर्ट लीवनवर्थ , यूएसए में डिफेंस सर्विसेज स्टाफ कॉलेज , वेलिंगटन और हायर कमांड कोर्स के स्नातक भी हैं।    उन्होंने मद्रास विश्वविद्यालय से डिफेंस स्टडीज में एमफिल , प्रबंधन में डिप्लोमा और कम्प्यूटर स्टडीज में भी डिप्लोमा किया है। 2011 में, उन्हें सैन्य-मीडिया सामरिक अध्ययनों पर अनुसंधान के लिए चौधरी चरण सिंह विश्वविद्यालय , मेरठ द्वारा डॉक्टरेट ऑफ़ फिलॉसफी से सम्मानित किया गया।

Army Chief General Bipin Rawat along with wife Madhulika Rawat during his visit to Badrinath and Kedarnath also paid a visit to his maternal uncle’s village Thati Dhanari in Uttarkashi district in Uttarakhand on Friday. He met all his proud relatives at the village.

शिक्षा

सैन्य सेवाएं

राजपूत परिवार में पैदा हुए रावत की कई पीढ़ी सेना में रही है।

पुरस्कार एवं सम्मान

उत्तम युद्ध सेवा पदक अति विशिष्ट सेवा पदक
युद्ध सेवा पदक सेना पदक विशिष्ट सेवा पदक
घाव पदक सामान्य सेवा पदक विशेष सेवा पदक ऑपरेशन पराक्रम पदक
सैन्य सेवा पदक उच्च तुंगता सेवा पदक विदेश सेवा पदक आजादी की 50वीं वर्षगांठ पदक
30 वर्ष लम्बी सेवा पदक 20 वर्ष लम्बी सेवा पदक 9 वर्ष लम्बी सेवा पदक संयुक्त राष्ट्र शांतिस्थापन (MONUSCO)

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!