बदरीनाथ-केदारनाथ मंदिरों में अब केवल प्रमाणित शुद्ध प्रसाद मिलेगा

Spread the love

देहरादून, 2 अक्टूबर (उ.हि.)। उत्तराखण्ड के विख्यात तीर्थस्थलों पर अब मिलावटी प्रसाद नहीं मिलेगा। श्रद्धालुओं को शुद्ध और प्रमाणित प्रसाद बांटने की शुरुआत केदारनाथ धाम से की जा रही है। खाद्य सुरक्षा विभाग ने दीपावली के अवसर पर मिलावटखोरी रोकने के लिये भी आरटीओ के सहयोग से अभियान शुरू कर दिया है ताकि बाहरी प्रदेशों से मिलावटी मावा आदि सामग्री प्रदेश में न आ सके।

Pankaj Pandey food safty commissioner. Photo social media

राज्य के खाद्य सुरक्षा आयुक्त डॉ० पंकज कुमार पाण्डेय के अनुसार राज्य की सीमाओं पर पुलिस डेयरी व आर०टी०ओ जैसे विभागों के साथ मिलकर संयुक्त निरीक्षण की प्रभावी कार्यवाही की जा रही है। खाद्य सुरक्षा आयुक्त डॉ पंकज कुमार पाण्डेय द्वारा जारी निर्देशों के अनुसार विभाग द्वारा सबसे अहम कदम खाद्य पदार्थों की सैम्पलिंग हेतु निर्धारित समय को लेकर उठाया गया है। विगत वर्षों में जहां खाद्य पदार्थों की सैम्पलिंग के बाद रिपोर्ट आने में लम्बा समय लग जाता था जिसे अब सुनिश्चित किया गया है, कि 14 दिनों के अन्दर सैंपल रिपोर्ट आवश्यक रूप से आ जाये। इसके लिये रुद्रपुर स्थित जांच प्रयोगशाला को विशेष रूप से निर्देश जारी किये गये है।
खाद्य सुरक्षा आयुक्त ने यह जानकारी दी कि केदारनाथ धाम को भारतीय खाद्य सुरक्षा एवं मानक प्राधिकरण, नई दिल्ली की ओर से जल्द “भोग योजना में सर्टिफिकेशन हासिल होने जा रहा है। इसके लिये केदारनाथ धाम से प्रसाद को “भोग योजना के तहत सर्टिफिकेशन प्रदान किया जाना है। इसके लिये राज्य स्तर पर प्रशिक्षण व ऑडिट के साथ ही भारतीय खाद्य संरक्षा एवं मानक प्राधिकरण, नई दिल्ली को प्रस्ताव बनाकर प्रेषित किया जा चुका है। उत्तराखण्ड के चारो धामों में केदारनाथ धाम पहला मन्दिर होगा जहां भोग योजना से यहाँ का प्रसाद सर्टिफाई होगा। केदारनाथ धाम के बाद राज्य के अन्य मन्दिरों में भी यह प्रक्रिया अपनाई जायेगी।

Uttarakhand government to launch drive against food adultration. –Photo social media

इसके अलावा खाद्य कारोबारकर्ताओं में जागरूकता लाने के उद्देश्य से उन्हें प्रशिक्षण भी प्रदान किया जायेगा। विभाग द्वारा “ईट राईट मेले“ भी आयोजित किये जायेंगे। यह एक इन्फोटेन्मेन्ट मॉडल होगा जिसके जरिये आमजनमानस को सही खान-पान को लेकर इसका भागीदार बनाया जायेगा। इसी के क्रम में “दो ईट राईट मेले 03 दिसम्बर 2021 को देहरादून एवं 18 दिसम्बर 2021 को हरिद्वार में होगा। वहीं खाद्य सुरक्षा व हाइजीन सुनिश्चित करने के उद्देश्य से राज्य में रेस्टोरेन्ट एवं होटलों हेतु खाद्य हाइजीन रेटिंग शुरू की गयी है। अब तक देहरादून व हरिद्वार के कुल 11 खाद्य कारोबारकर्ताओं को हाइजीन रेटिंग सर्टिफिकेट निर्गत किये जा चुके है।

खाद्य सुरक्षा आयुक्त द्वारा खाद्य सुरक्षा के अन्तर्गत भविष्य में की जाने वाली कार्यवाही के बारे में भी बताया कि उपयोग में आने वाले खाद्य वस्तुओं को लेकर एफ०डी०ए० द्वारा नवम्बर 2021 से मार्च 2022 तक विशेष सर्विलान्स अभियान चलाया जायेगा। खासतौर से खाद्य तेल, शहद, चाय, घी आदि के 100 सैम्पल प्रति माह लिये जायेंगे, इनकी जांच रिपोर्ट के आधार पर अग्रेत्तर कार्ययोजना बनायी जायेगी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!