चम्पावत से धामी की ऐतहासिक जीत : खटीमा की हार का दाग धो कर इतिहास रचा

Spread the love

देहरादून 03 जून  ( उहि )।  मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने  चम्पावत उप चुनाव में ऐतिहासिक जीत पर उत्तराखण्ड की जनता विशेष रूप से चम्पावत की जनता का आभार व्यक्त किया है।धामी ने यह उप चुनाव 55  हज़ार से अधिक मतों से जीता है जो की राज्य में अब तक के उपचुनावों का एक रिकॉर्ड है।  जबकि उनकी कांग्रेस की प्रतद्वंद्वी मात्र 3233  मत ही हासिल कर सकी।

बीजेपी उम्मीदवार सीएम पुष्कर सिंह धामी ने 54 हजार 121 वोटों से जीत दर्ज की.उपचुनाव के लिए 13वें राउंड तक हुई काउंटिंग में  कांग्रेस प्रत्याशी निर्मला गहतोडी को-3147, बीजेपी प्रत्याशी पुष्कर धामी को 57268, सपा प्रत्याशी मनोज कुमार को 409 , निर्दलीय प्रत्याशी हिमांशु गरकोटी को 399 और नोटा के हिस्से में 372 मत आए


मुख्यमंत्री ने कहा कि “मैं उत्तराखंड की महान जनता का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं। ये उसी जनता की जीत है जिसने मुझ जैसे सामान्य कार्यकर्ता को अपने सर माथे पर बिठाया है। ये आपके भरोसे की जीत है। ये जीत मुझे उत्तराखंड की जनता की सेवा में प्राणपण से जुटे रहने का आदेश दे रही है।

यह राज्य के इतिहास में न केवल भाजपा बल्कि किसी भी दल के लिए अब तक की सबसे बड़ी जीत रही। वहीं, कांग्रेस के खाते में बस 11 सीटें ही आईं। लचर संगठन और नेतृत्व क्षमता के अभाव का दंश कांग्रेस को 2022 के चुनाव में भी झेलना पड़ा। सत्ता में वापसी के दावे करने वाली पार्टी मात्र 19 सीटों पर ही सिमट गई। अब चम्पावत उपचुनाव ने तो सबसे बुरा दौर दिखाया है। अब तक के हुए सभी पांचों उपचुनावों को देखें तो यह परिणाम कांग्रेस को नए सिरे से चिंतन को मजबूर कर रही है।

इस मौके पर मैं अपने यशस्वी प्रधानमंत्री का हृदय से आभार व्यक्त करता हूं जिनके सतत मार्गदर्शन ने मुझे इस लायक बनाया कि आज मैं उत्तराखंड की जनता के स्नेह और आशीर्वाद का पात्र हूं। प्रधानमंत्री मोदी की सेवा, साधना और तपस्या हम सभी के लिए आदर्श का एक मानक बन चुकी है। ये एक ऐसा मानक है जिसकी ओर बढ़ते हुए हम खुद को निखारते जाते हैं, जन सेवा की राह में स्वयं को मांजते जाते हैं।


चंपावत विधानसभा का ये उपचुनाव केवल जीत हार की लड़ाई नहीं थी। इस उपचुनाव की ओट में उत्तराखंड को सजाने, संवारने और प्रगति का स्वर्णिम अध्याय रचने के स्वप्न भी छिपे हुए थे। ये 55025 वोटों की ऐतिहासिक जीत इन्हीं सपनो को पूरा करने के संकल्प की प्रतिध्वनि है। हमने प्रधानमंत्री मोदी के आशीर्वाद से उत्तराखंड की जनता के जीवन को सुखमय बनाने का यज्ञ शुरू किया है। ये जीत इस यज्ञ की पूर्णता की दिशा में एक अभूतपूर्व कदम साबित होगी।


मैं अपने चंपावत के लोगों को भी यकीन दिलाता हूं कि उनकी हर पुकार, हर आग्रह, हर आदेश पर मैं स्वयं सेवा में हाज़िर रहूंगा। मैं इस प्रदेश का मुख्यमंत्री हूं। मेरे जीवन का मकसद ही इस प्रदेश की सेवा है। पर एक जनप्रतिनिधि होने के नाते चंपावत के प्रति मेरे कुछ विशिष्ट उत्तरदायित्व भी हैं। मैं पूरे मनोयोग और समर्पण से उन उत्तरदायित्वों की सिद्धि की कोशिश करूंगा।

चंपावत की जनता ने विरोधियों के जिस छ्द्म जाल को अपनी दूरदर्शी आंखों से भेदकर मुझे ये जीत दिलाई है, उनके प्रति मेरे हृदय में सदैव के लिए विशेष आभार है। एक बार फिर से उत्तराखंड की इस महान जनता को मेरा सादर प्रणाम और अभिवादन।“

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!