इफ्फी में ओजू, मिजोगुची और कुरोसावा की धरती जापान की फिल्में दिखाई जाएंगी

Spread the love

100 वर्षों से अधिक के लंबे इतिहास वाले जापानी सिनेमा ने सभी कालखंडों में दुनिया भर के सिनेमा प्रेमियों का ध्यान आकर्षित किया है। भारतीय अंतर्राष्ट्रीय फिल्म महोत्सव या इफ्फी अतीत में सिने-प्रेमियों को ओजू, मिजोगुची और कुरोसावा की भूमि पर बनी फिल्मों का सौगात देती रही है । जापानी फिल्म ‘रिंग वांडरिंग’ ने पिछले साल 52वें इफ्फी में गोल्डन पीकॉक जीता था, यह फिल्म टोक्यो के युद्धग्रस्त अतीत की यादों को पुनर्जीवित करती है।

इस साल भी इफ्फी ‘लैंड ऑफ राइजिंग सन’ की तीन फिल्मों का प्रदर्शन कर रहा है, जिनका इंडियन प्रीमियर इस महोत्सव में ही हो रहा है।

मासाकी कुडो द्वारा निर्देशित ए फार शोर (टूई टोकोरो) इफ्फी-53 में इंडिया प्रीमियर होगा। 2022 में निर्मित फिल्म आओई की कहानी बताती है, जो हाई स्कूल से ड्रॉपआउट है, जापान के दक्षिणी द्वीप ओकिनावा में मसाया के साथ एक बच्चे को जन्म देती है। गुज़ारा करने के लिए, वह एक नाइट-क्लब परिचारिका के रूप में काम करना शुरू कर देती है क्योंकि मसाया की नौकरी चली जाती है और परिवार की ज़िम्मेदारियों को नहीं निभा पाता है। उनकी अपरिपक्वता और निर्भरता और सामाजिक पतन की ओर ले जाने वाले निरंतर झगड़ों की वजह से उनके संबंध बिगड़ने लगती है। यह जानने के लिए फिल्म देखें कि आओई अपने बेटे के लिए प्यार में समाधान खोजने के लिए क्या करती है।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/1Q5IA.jpg

निर्देशक के बारे में: फिल्म के निर्देशक कुडो की पहली फिल्म ‘आई एम क्रेजी’ को 2018 में बुकियॉन में नेटपैक अवार्ड मिला। उनकी अगली फिल्म अनप्रेसीडेंटेड का प्रीमियर 2021 में ताल्लिन ब्लैक नाइट्स फिल्म फेस्टिवल में हुआ और ‘ए फार शोर’ उनकी तीसरी फीचर फिल्म है।

यामासाकी जुइचिरो द्वारा निर्देशित यामाबुकी’ एक और जापानी फिल्म है जिसका इस साल इफ्फी में भारत में प्रीमियर होना है। 2022 की यह फिल्म एक किशोर लड़की यामाबुकी की कहानी बताती है, जो मौन विरोध करना शुरू करती है, जो सामुदायिक कार्रवाई में तब्दील हो जाती है, उसके पुलिसकर्मी पिता को बहुत निराशा होती है। इस ग्रामीण कस्बे की शांत सतह धीरे-धीरे उखड़ रही है जिससे निराशा और अकेलापन प्रकट होता है, जो एक बार आवाज देने के बाद लोगों को जोड़ना शुरू कर देता है। यह एक ऐसी जगह को खोजने की कहानी है जहां जीवन की बाधाओं ने आपको निराश कर दिया है।

निर्देशक के बारे में: फिल्म निर्देशक यामासाकी जुइचिरो ने विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान एक छात्र फिल्म समारोह का आयोजन किया था। ओकायामा के एक छोटे से पहाड़ी गांव में जाने से पहले उन्होंने कुछ लघु फिल्में बनाईं और सहायक निर्देशक के रूप में काम किया। ‘द साउंड ऑफ लाइट’ (2011) उनकी पहली फीचर फिल्म थी।

इसके अलावा, एनीमेशन प्रेमी की खुशी के लिए, कोजी यामामुरा की पहली फीचर फिल्म, जापानी एनीमे डोजेन्स ऑफ नॉर्थ (इकुता नो किता) को भी भारत में पहली बार महोत्सव में प्रदर्शित किया जाएगा। फिल्म का आधार कई चित्रों और टेक्स्ट की एक श्रृंखला है जिसे यामामुरा ने 2011 में विशाल पूर्वी जापान भूकंप के बाद बनाया था। यह फिल्म वास्तविक जीवन की घटनाओं के कारण होने वाली आधुनिक पीड़ा को एक पौराणिक और सार्वभौमिक आयाम में दर्शाती है और मानव अस्तित्व की त्रासदियों को आशा के साथ दिखाती है। उनकी साफ लेकिन गहरी हास्यपूर्ण विश्वदृष्टि को उनके एनिमेशन के माध्यम से प्रस्तुत किया गया है।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/3SDR3.jpg

यामामुरा का एनिमेशन पारंपरिक एनिमेशन पर केंद्रित है। उनकी दो सबसे प्रसिद्ध और प्रशंसित फिल्में ऑस्कर नामांकित ‘माउंट हेड’ और ‘ए कंट्री डॉक्टर’ हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!