उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में सैकड़ों मार्ग अवरुद्ध होने से जनजीवन अस्तव्यस्त

Spread the love

देहरादून 06 जुलाई (उहि ) । उत्तराखंड के पहाड़ी क्षेत्रों में हो रही मूसलाधार वर्षा से सैकड़ों मार्ग अवरुद्ध हो गए हैं , जिस  कारण जनजीवन अस्तव्यस्त हो गया है।  लोक निर्माण विभाग द्वारा कई मार्ग ततकाल खोल दिए जाने के बावजूद प्रदेश में अब भी 91  मार्ग बंद हैं।  ऋषिकेश बद्रीनाथ मार्ग श्रीनगर से आगे सिरोबगड़ में बंद है, जिसे बुधवार सायं  तक खोलने का प्रयास हो रहा  है।  सड़कें  तत्काल खोलने के लिए जहाँ -तहाँ 396 जेसीबी मशीनें तैनात की गयी हैं।

उत्तराखण्ड राज्य आपदा प्रबन्धन प्राधिकरण, आपातकालीन परिचालन केंद्र के लोक निर्माण विभाग द्वारा बताया गया कि मानसून काल में संचालित मार्गों के बंद होने की स्थिति में खोलने हेतु विभिन्न मार्गों पर कुल 396 मशीनों (जे.सी.बी., पोकलेन, रोबोट आदि) की तैनाती की गई है। प्रदेश में 06 जुलाई 2022 के 3.00 बजे सायं की रिपोर्ट के अनुसार कुल-155 मार्ग बंद थे जिसमें से 64 मार्गों को खोल दिया गया है। कुल 91 मार्ग खोलने हेतु अवशेष है। जिसमें से 01 राष्ट्रीय राजमार्ग (एन0एच0-07 (पुराना-58) कलियासौड़ से खाँकरा के स्थान सीरोंबगड़) बंद है एवं संबंधित अभियन्ता द्वारा अवगत कराया गया है कि उक्त राष्ट्रीय राजमार्ग को खोले जाने की सम्भावित तिथि आज सायं 7ः00 बजे तक है। उक्त के अतिरिक्त 03 राज्य मार्ग बंद हैं।

6 जुलाई 2022 की सुबह उत्तरकाशी-टिहरी-घनसाली-मयाली -तिलवाड़ा राज्य मोटर मार्ग सं0 15 के किमी 137 में भारी मलवा आने के कारण 21 मीटर स्पान स्टील गार्डर सेतु क्षतिग्रस्त हो गया है। मार्ग पर पुनः यातायात सुचारू करने हेतु सम्बन्धित अधिशासी अभियन्ता द्वारा अवगत कराया गया है कि उक्त स्थान पर 30 मी0 स्पान बैली ब्रिज का निर्माण किये जाने की आवश्यकता होगी, जिसमें लगभग 25 दिन का समय लगने की सम्भावना है। इसके लिये यातायात को वैकल्पिक मार्ग से डाईवर्ट किये जाने हेतु सम्बन्धितों को निर्देशित किया गया है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!