वर्ष 2021 के दौरान केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय की प्रमुख पहलें

Spread the love

साबरमती आश्रम से आजादी का अमृत महोत्सव शुरू हुआ:

प्रधानमंत्री, श्री नरेन्द्र मोदी ने देश की आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में एक मेगा उत्सव, आजादी का अमृत महोत्सव का शुभारंभ किया। अमृत महोत्सव 12 मार्च को साबरमती आश्रम, अहमदाबाद, गुजरात से शुरू किया गया। उन्होंने इस अवसर पर दांडी ‘पदयात्रा’ को भी झंडी दिखाकर रवाना किया।

इस अवसर पर प्रधान मंत्री ने India@75 की वेबसाइट का शुभारंभ किया। उन्होंने विलुप्त होने के कगार पर कारीगरों/शिल्पकारों के कौशल और कला को संरक्षित करने के लिए साबरमती आश्रम संरक्षण और स्मारक ट्रस्ट के साथ साझेदारी में संस्कृति मंत्रालय के आत्मानिर्भर इनक्यूबेटर‘ कार्यक्रम का भी शुभारंभ किया। ‘वोकल फॉर लोकल’ को बढ़ावा देने के लिए प्रधानमंत्री द्वारा एक अनूठा चरखा अभियान भी शुरू किया गया।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image001O2RJ.jpg

उपराष्ट्रपति, श्री एम. वेंकैया नायडु ने 6 अप्रैल, 2021 को राष्ट्रीय नमक सत्याग्रह स्मारक, दांडी, गुजरात के पास आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में 25-दिवसीय दांडी पदयात्रा के रंगा-रंग समापन समारोह में भाग लिया।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0021QR3.png

 

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के स्मृति पर 23 जनवरी, 2021 को कोलकाता से पराक्रम दिवस के रूप में मनाने की घोषणा हुई।

वर्ष 2021 के शुरुआती प्रमुख कार्यक्रमों में से एक में प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने 23 जनवरी, 2021 को कोलकाता में नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के उत्सव का शुभारंभ किया। उन्होंने कोलकाता में विक्टोरिया मेमोरियल में ‘पराक्रम दिवस’ समारोह के उद्घाटन समारोह की अध्यक्षता की।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती के उपलक्ष्य में प्रधानमंत्री ने निर्भिक सुभाष‘ (अदम्य सुभाष‘) – ‘एक मल्टीमीडिया प्रदर्शनी – एक स्थायी प्रदर्शनी, नेताजी पर एक 3डी प्रोजेक्शन मैपिंग शो, ‘लेटर्स ऑफ नेताजी’ पुस्तक का अनावरण, सिक्के का विमोचन और नेताजी सुभाष चंद्र बोस की स्मृति में डाक टिकट जारी किया। इस स्मृति कार्यक्रम के कुछ अन्य मुख्य आकर्षण भी थे।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/Gallery/PhotoGallery/2021/Jan/H2021012495055.JPG

गुजरात के सूरत में हरिपुरा में आयोजित एक विशेष कार्यक्रम सहित इस दिन को याद करने के लिए कई अन्य कार्यक्रम भी आयोजित किए गए। संस्कृति मंत्रालय के एनजीएमए द्वारा एक प्रदर्शनी का आयोजन किया गया, जिसमें हरिपुरा में कांग्रेस सत्र के लिए नंद लाल बोस द्वारा बनाए गए प्रसिद्ध हरिपुरा पैनल शामिल थे, जहां नेताजी को अध्यक्ष बनाया गया था।

संस्कृति मंत्रालय के तहत दक्षिण-मध्य क्षेत्र सांस्कृतिक केंद्र, नागपुर ने नेताजी सुभाष चंद्र बोस की 125वीं जयंती वर्ष के उपलक्ष्य में एक भारत श्रेष्ठ भारत (ईबीएसबी) के तहत एक विशेष सांस्कृतिक कार्यक्रम का आयोजन किया। उत्सव के हिस्से के रूप में, नागपुर स्थित सामाजिक संगठन, प्रयास द्वारा “बोस” नामक एक नाटक और विभिन्न देशभक्ति गीत और नृत्य कार्यक्रमों का प्रदर्शन किया गया। इसी तरह, उड़िया कलाकारों ने भी उत्सव के दौरान लोक गीतों और नृत्यों का प्रदर्शन किया। ईबीएसबी के तहत ओडिशा महाराष्ट्र का युग्मित राज्य है।

राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव: राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव, 2015 से चलाया जा रहा संस्कृति मंत्रालय का प्रमुख कार्यक्रम है। सात क्षेत्रीय संस्कृति केंद्रों की सक्रिय भागीदारी के साथ आयोजित यह त्योहार सभागारों और दीर्घाओं तक सीमित रहने के बजाय भारत की जीवंत संस्कृति को जन-जन तक ले जाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभा रहा है। यह एक राज्य के लोक और जनजातीय कला, नृत्य, संगीत, व्यंजन और संस्कृति को दूसरे राज्यों में प्रदर्शित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है, जो यह “एक भारत श्रेष्ठ भारत” के इच्छित लक्ष्य को मजबूत करता है। साथ ही कलाकारों और कारीगरों को एक प्रभावी मंच प्रदान करने और उनकी आजीविका को समर्थन करता है। राष्ट्रीय संस्कृति महोत्सव का ग्यारहवां संस्करण 14 से 28 फरवरी, 2021 के बीच पश्चिम बंगाल में कूचबिहार (14 से 16 फरवरी, 2021), दार्जिलिंग (22 से 24 फरवरी, 2021) और मुर्शिदाबाद (27 से 28 फरवरी, 2021) में आयोजित किया गया।)

उदयपुर विज्ञान केंद्र का उद्घाटन उदयपुरत्रिपुरा में किया गया।

यह विज्ञान की संस्कृति को बढ़ावा देने की योजना के तहत संस्कृति मंत्रालय के एनसीएसएम द्वारा विकसित 22वां विज्ञान केंद्र है।

प्रधानमंत्री को मिले उपहारों और स्मृति चिन्हों की नीलामी 17 सितंबर से 7 अक्टूबर 2021 तक की गई:

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image004DBNI.jpg https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image005GG3S.jpg

 

यह प्रधानमंत्री द्वारा प्राप्त उपहारों और स्मृति चिन्हों की नीलामी का तीसरा संस्करण था। स्मृति चिन्हों में पदक जीतने वाले ओलंपियन और पैरालिंपियन के स्पोर्ट्स गियर और उपकरण, अयोध्या राम मंदिर का प्रतिरूप, चारधाम, रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर, मॉडल, मूर्तियां, पेंटिंग, अंगवस्त्र शामिल हैं। ई-नीलामी से होने वाली आय नमामि गंगे मिशन में जाती है जिसका उद्देश्य गंगा के संरक्षण और कायाकल्प करना है। ई-नीलामी के लिए लगाए गए 1348 स्मृति चिन्ह में से टोक्यो ओलंपिक के स्वर्ण पदक विजेता नीरज चोपड़ा के भाले पर सबसे ज्यादा 1.5 करोड़ रुपये की बोली लगी।

लाल बहादुर शास्त्री राष्ट्रीय प्रशासन अकादमी, मसूरी में आयोजित दो दिवसीय भौगोलिक संकेत (जीआई) महोत्सव में प्रशिक्षु अधिकारियों के लिए विशेष कार्यक्रम: एलबीएसएनएए के प्रशिक्षु अधिकारियों के लिए यह विशेष कार्यक्रम कारीगरों, डिजाइन और जीआई उत्पादों की दुनिया में एक संक्षिप्त विवरण के लिए था। सत्रों में जीआई के कानूनी निहितार्थ, जीआई शिल्प के साथ कलात्मक और डिजाइन सहयोग और कानूनी, शैक्षणिक और डिजाइन दिग्गजों की भागीदारी देखी गई।

बुद्ध पूर्णिमा पर वेसाक ग्लोबल सेलिब्रेशन का आयोजन किया गया जिसे 26 मई 2021 को प्रधानमंत्री द्वारा वर्चुअली संबोधित किया गया था। वर्चुअल प्रार्थना कार्यक्रम में दुनिया भर के बौद्ध संघों के प्रमुखों ने भाग लिया। बुद्ध पूर्णिमा समारोह दुनिया भर में कोविड-19 महामारी के प्रभाव के कारण एक आभासी मण्डली के माध्यम से आयोजित किया गया था। इस वर्ष का बुद्ध पूर्णिमा वैश्विक शांति और कोविड-19 महामारी से राहत के लिए समर्पित था।

अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध परिसंघ के साथ साझेदारी में संस्कृति मंत्रालय ने भी 24 जुलाई, 2021 को दिन भर के कार्यक्रमों के माध्यम से आषाढ़ पूर्णिमा धम्म चक्र दिवस मनाया।

कुशीनगर में महापरिनिर्वाण मंदिर में अभिधम्म दिवस महापरिनिर्वाण मंदिर, कुशीनगर के परिसर में एक भव्य समारोह आयोजित किया गया था, जहां श्रीलंका से पवित्र बुद्ध अवशेष के प्रदर्शन के साथ प्रधान मंत्री द्वारा तीन दिवसीय बौद्ध मण्डली का उद्घाटन किया गया। एएसआई द्वारा खुदाई की गई बौद्ध महिमा की एक प्रदर्शनी भी साइड-लाइन पर आयोजित की गई थी जहां वडानगर सहित उत्खनन स्थलों से बौद्ध पुरावशेष प्रदर्शित किए गए थे। इस 110 सदस्यीय उच्च स्तरीय श्रीलंकाई प्रतिनिधिमंडल के अलावा, इस कार्यक्रम में बड़ी संख्या में प्रमुख राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय बौद्ध संघ, राजदूत, केंद्र और राज्य के अधिकारी आदि शामिल थे।

2019 और 2020 के लिए गांधी शांति पुरस्कार : वर्ष 2019 के लिए गांधी शांति पुरस्कार ओमान के स्वर्गीय सुल्तान काबूस बिन सईद अल सैद को और 2020 के लिए गांधी शांति पुरस्कार बंगबंधु स्वर्गीय शेख मुजीबुर रहमान को प्रदान किया गया। 2020 के लिए गांधी शांति पुरस्कार भारत के प्रधान मंत्री द्वारा 26 मार्च 2021 को ढाका में स्वर्गीय बंगबंधु शेख मुजीबुर रहमान (मरणोपरांत) को प्रदान किया गया।

आजादी का अमृत महोत्सव पर प्रधानमंत्री की अध्यक्षता में राष्ट्रीय समिति की दो बैठकें आयोजित की गई : राष्ट्रीय समिति की पहली बैठक के शुभारंभ के क्रम में 8 मार्च, 2021 को फ्लैगशिप कार्यक्रम आयोजित की गई और दूसरी बैठक 22 दिसंबर 2021 को आयोजित की गई। पहली बैठक में, प्रधान मंत्री ने उन 5 स्तंभों पर प्रकाश डाला, जो 75 वर्ष के उत्सव के लिए तय किए गए हैं। ये हैं स्वतंत्रता संग्राम, 75 पर विचार, 75 पर उपलब्धियां, 75 पर कार्य और 75 पर संकल्प। इन सभी में 130 करोड़ भारतीयों के विचारों और भावनाओं का समावेश होना चाहिए और जनभागीदारी के साथ कार्यक्रम आयोजित किया जाना चाहिए।

दूसरी बैठक में, प्रधानमंत्री ने अपना दृष्टिकोण प्रस्तुत किया कि भारत को कोविड के बाद विश्व व्यवस्था में कैसे नेतृत्व करना चाहिए। उन्होंने इस बात पर भी जोर दिया कि जब हम आजादी का अमृत महोत्सव मनाते हैं, तो हमें 2047 के लिए अपने लिए नए लक्ष्य निर्धारित करने के लिए एक केंद्रित दृष्टिकोण के साथ आगे बढ़ना चाहिए। प्रधानमंत्री ने आह्वान किया, आजादी का अमृत महोत्सव युवाओं में कर्तव्य की भावना का बीज बाने वाला होना चाहिए।

अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस पर उत्सव : केंद्रीय संस्कृति मंत्रालय ने 21 जून, 2021 को ‘योग एक भारतीय विरासत’ अभियान के तहत ‘अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस’ मनाया। सांस्कृतिक प्रदर्शन के साथ देश भर के 75 विरासत स्मारकों पर सामान्य योग प्रोटोकॉल (सीवाईपी) का प्रदर्शनी आयोजित की गई। इस आयोजन का जश्न मनाने के लिए, राष्ट्रीय विज्ञान संग्रहालय परिषद (एनसीएसएम) ने अपनी विभिन्न इकाइयों में विभिन्न ऑनलाइन कार्यक्रम/गतिविधियों का भी आयोजन किया।

संस्कृति मंत्रालय ने स्वतंत्रता दिवस 2021 पर आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए एक अनूठा कार्यक्रम शुरू किया : पूरी दुनिया में भारतीयों के बीच गर्व और एकता पैदा करने के लिए इस वर्ष स्वतंत्रता दिवस मनाने के लिए संस्कृति मंत्रालय द्वारा राष्ट्रगान से जुड़ी एक अनूठी पहल शुरू की गई। इसमें लोगों को राष्ट्रगान गाने और वेबसाइट www.RASHTRAGAAN.IN पर वीडियो अपलोड करने के लिए आमंत्रित किया गया था। भारत और दुनिया भर के 1.5 करोड़ से अधिक भारतीयों ने अपने वीडियो रिकॉर्ड और अपलोड किए। राष्ट्रीय गान का संकलन 15 अगस्त, 2021 को लाल किले में समारोह के दौरान लाइव दिखाया गया।

अमृतसर में जलियांवाला बाग स्मारक का पुनर्निर्मित परिसर राष्ट्र को समर्पित : प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने अमृतसर में जलियांवाला बाग स्मारक के पुनर्निर्मित परिसर को वीडियो कांफ्रेंसिंग के माध्यम से राष्ट्र को समर्पित किया। कार्यक्रम के दौरान उन्होंने स्मारक में संग्रहालय गैलरी का भी उद्घाटन किया। इस कार्यक्रम में परिसर के उन्नयन के लिए सरकार द्वारा की गई कई विकास कार्यों को प्रदर्शित किया गया।

राष्ट्र ने 23 मार्च, 2021 को शहीदी दिवस पर शहीद भगत सिंहराजगुरु और सुखदेव को श्रद्धांजलि दी: संस्कृति मंत्रालय ने ‘शहीदी दिवस’ पर कई स्थानों पर विभिन्न कार्यक्रमों का आयोजन किया क्योंकि एक कृतज्ञ राष्ट्र ने शहीद भगत सिंह, राजगुरु और सुखदेव के असाधारण साहस और शहादत को गर्व से याद किया। शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु के सम्मान में संगीत नाटक अकादमी द्वारा शहीद ए आजम सरदार भगत सिंह संग्रहालय खटकर कलां, (शहीद भगत सिंह का गांव) में एक संयुक्त श्रद्धांजलि सभा का आयोजन किया गया। शहीद सुखदेव को उनके पैतृक घर मोहल्ला नौघरा में भी श्रद्धांजलि अर्पित की गई, जबकि इसी तरह का एक समारोह पुणे के राजगुरु वाडा, राजगुरु नगर में शहीद राजगुरु के पैतृक घर में आयोजित किया गया था।

नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा आजाद हिंद सरकार के गठन की वर्षगांठ मनाई गईसमूचे भारत और दक्षिणपूर्व एशिया में कार्यक्रम हुए: अमृत महोत्सव समारोह के हिस्से के रूप में, नेताजी सुभाष चंद्र बोस द्वारा आजाद हिंद सरकार के गठन की वर्षगांठ के उपलक्ष्य में भारत और दक्षिण पूर्व एशिया में 21 अक्टूबर तक कार्यक्रमों का आयोजन किए गए। सरकारी दृष्टिकोण को जीवंत करते हुए, संस्कृति मंत्रालय ने भारत और सिंगापुर में विभिन्न मंत्रालयों, राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों की भागीदारी के साथ एक एकीकृत कार्यक्रम कैलेंडर का नेतृत्व किया। ये कार्यक्रम क्षेत्रों और भौगोलिक क्षेत्रों में किए गए। स्मृति कार्यक्रमों में आईएनए के दिग्गजों, स्कूली छात्रों, स्थानीय समुदायों और अन्य लोगों ने जनभागीदारी के विचार को मूर्त रूप दिया।

आजादी का अमृत महोत्सव मनाने की अनूठी पहल में केंद्रीय संस्कृति मंत्री श्री जीके रेड्डी ने अमृत महोत्सव पॉडकास्ट लॉन्च किया। पहली श्रृंखलाजरा याद करो कुर्बानीभारतीय राष्ट्रीय सेना पर आधारित एक एपिसोड के साथ लाइव हुई।

संस्कृति मंत्रालय ने आजादी का अमृत महोत्सव मनाने के लिए तीन अनूठी प्रतियोगिताएं शुरू की है : संस्कृति मंत्रालय देशभक्ति गीत लेखन, लोरी लेखन और रंगोली बनाने के लिए तहसील/तालुका स्तर से लेकर राष्ट्रीय स्तर तक #UnityInCreativity के रूप में एक राष्ट्रव्यापी प्रतियोगिता आयोजित कर रहा है। इस पहल का उद्देश्य आपसी भागीदारी को प्रोत्साहित करना है ताकि वास्तविक ‘जन भागीदारी’ सुनिश्चित की जा सके।

यूनेस्को विश्व धरोहर सूची में स्थान : (i) काकतीय रुद्रेश्वर (रामप्पा) मंदिर, तेलंगाना (2021) और (ii) धोलावीरा: भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण (एएसआई) के संरक्षण में एक हड़प्पा शहर (2021) को फ़ूज़ौ, चीन में आयोजित यूनेस्को की 44वीं विस्तारित वर्चुअल बैठक में विश्व विरासत सूची में शामिल किया गया। इस तरह भारत में विश्व धरोहर संपत्तियों की संख्या 38 से 40 हो गई।

Image

 

रामप्पा मंदिर

नवंबर, 2021 से 7 नवंबर 2021 तक राष्ट्रीय संग्रहालयनई दिल्ली द्वारा “गंतव्य पूर्वोत्तर भारत” का उत्सव : प्रगतिशील भारत के 75 साल और अपनी लोगों की संस्कृति और उपलब्धियों की महिमा के उपलक्ष्य में #AzadiKaAmritMahotsav के समारोह के हिस्से के रूप में, राष्ट्रीय संग्रहालय, नई दिल्ली ने डोनर और एनईसी मंत्रालय की पहल #गंतव्यउत्तरपूर्वभारत शीर्षक के तहत पूर्वोत्तर भारत की समृद्ध विरासत का जश्न मनाया। एनएम ने उत्तर-पूर्वी राज्यों की विविध कलात्मक परंपराओं और समुदायों को उजागर करने के लिए पूर्वोत्तर लाइफस्टाइल गैलरी के सांस्कृतिक कलाकारों, ऑनलाइन व्याख्यान और पर्यटन की एक सप्ताह की लंबी श्रृंखला का आयोजन किया।

 

प्रधानमंत्री ने 5 नवंबर, 2021 को केदारनाथ में विभिन्न विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी और राष्ट्र को समर्पित किया। इस मौके पर देशभर के चार धाम समेत ज्योतिर्लिंग और ज्योतिषपीठ में कार्यक्रम आयोजित किए गए।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image00731HH.jpg https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0083L7O.png

 

प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने केदारनाथ में विभिन्न विकास परियोजनाओं की आधारशिला रखी और उन्हें राष्ट्र को समर्पित किया। उन्होंने आदि शंकराचार्य समाधि का उद्घाटन किया और आदि शंकराचार्य की प्रतिमा का अनावरण किया। प्रधानमंत्री ने केदारनाथ मंदिर में भी पूजा-अर्चना की। 12 ज्योतिर्लिंगों और 4 धामों में पूजा-अर्चना की गई। 11 ज्योतिर्लिंग, 4 ज्योतिषपीठ और चार धाम (बद्रीनाथ, द्वारका, पुरी और रामेश्वरम) में भी एक साथ कार्यक्रम आयोजित किए गए। कार्यक्रमों में सुबह की आरती और उसके बाद वैदिक मंत्रोच्चार शामिल थे। संस्कृति मंत्रालय ने ज्योतिर्लिंगों/ज्योतिषपीठ के परिसर में या आसपास के स्थल पर सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन किया। संस्कृति मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी ने केरल के कलाडी में कार्यक्रम का नेतृत्व किया, जो आदि शंकराचार्य का जन्मस्थान है।

संस्कृति मंत्रालय श्री जीकिशन रेड्डी ने कई केंद्रीय और राज्य मंत्रियों की उपस्थिति में औपचारिक रूप से उत्तर प्रदेश सरकार को देवी अन्नपूर्णा की मूर्ति सौंपी।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image009LSZI.jpg https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image010MASX.jpg

 

कनाडा से प्राप्त 18वीं शताब्दी की देवी अन्नपूर्णा की मूर्ति को 11 नवंबर, 2021 को उत्तर प्रदेश सरकार को सौंप दिया गया और 15 नवंबर, 2021 को उत्तर प्रदेश के वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में उसके सही स्थान पर स्थापित कर दिया गया।

एएसआई द्वारा पुरावशेषों की पुनर्प्राप्ति: एएसआई का पुरावशेष अनुभाग लगातार विदेशों से पुरावशेषों की प्रभावी पुनर्प्राप्ति में लगा हुआ है। सीजीआई, न्यूयॉर्क से प्राप्त संचार के अनुसार, सितंबर, 2021 के महीने में, एएसआई के विशेषज्ञों की एक टीम 258 कला वस्तुओं की जांच करने के लिए यूएसए गई थी। इस पूरे लॉट में से 94 वस्तुओं की पहचान पुरातनता और कला खजाने अधिनियम, 1972 के अनुसार ” प्राचीन कालीन वस्तु ” के रूप में की गई थी। 2019 में, एएसआई की एक टीम ने 63 वस्तुओं को प्राचीन कालीन वस्तु के रूप में सत्यापित किया था और अब कुल 157 प्राचीन कालीन वस्तु पुनर्प्राप्ति के लिए तैयार हैं।

संस्कृति मंत्रालय ने आजादी का अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में एक अखिल भारतीय नृत्य प्रतियोगिता ‘वंदे भारतमनृत्य उत्सव‘ को आयोजित किया।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image011FL7B.jpg https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image012IT8H.jpg

 

इस प्रतियोगिता का उद्देश्य उन नर्तकियों का चयन करना था जो इंडिया गेट के राजपथ पर 2022 की गणतंत्र दिवस परेड में सांस्कृतिक कार्यक्रम के दौरान अपनी प्रस्तुति देंगे। वंदे भारतम फाइनल प्रतियोगिता 19 दिसंबर 2021 को नई दिल्ली में आयोजित की गई थी। फाइनल राउंड में कुल 36 टीमों ने जीत हासिल की जो गणतंत्र दिवस परेड 2022 में भाग लेंगी।

संस्कृति मंत्रालय ने आजादी का अमृत महोत्सव मोबाइल ऐप लॉन्च किया संस्कृति और विदेश राज्य मंत्री, श्रीमती मीनाक्षी लेखी ने आजादी का अमृत महोत्सव मोबाइल ऐप लॉन्च किया, ताकि भारत की आजादी की 75वीं वर्षगांठ के समारोहों से संबंधित सभी सूचनाओं तक आसानी से पहुंच बनाई जा सके। एंड्रॉइड और आईओएस में उपलब्ध ऐप में एकेएएम बैनर के तहत होने वाली सभी गतिविधियों और घटनाओं का विवरण है। इस एप को किसी की उम्र का व्यक्ति डाउनलोड कर सकता है। ऐप को डाउनलोड करने पर कोई शुल्क का भुगतान नहीं करना होगा।

काशी की क्लासिक विरासत और संस्कृति का जश्न मनाने के लिए 16 से 18 नवंबर तक वाराणसी में तीन दिवसीय उत्सव ‘काशी उत्सव‘ का आयोजन किया गया। यह आयोजन विशेष रूप से गोस्वामी तुलसीदास, संत कबीर, संत रैदास, भारतेंदु हरिश्चंद्र, मुंशी प्रेमचंद और श्री जयशंकर प्रसाद, जो सदियों पुराने दिग्गज पर केंद्रित था। यह उत्सव ‘काशी के हस्ताक्षर’ विषयों पर आधारित था; ‘कबीर, रैदास की बानी और निर्गुण काशी’ और ‘कविता और कहानी- काशी की जुबानी’।

कला कुंभ कलाकार कार्यशालाएं नेशनल गैलरी ऑफ मॉडर्न आर्ट, नई दिल्ली ने रक्षा मंत्रालय के सहयोग से गणतंत्र दिवस समारोह 2022 के एक अभिन्न अंग के रूप में, भारत के स्वतंत्रता आंदोलन के वीर जीवन और संघर्षों का प्रतिनिधित्व करने वाले स्क्रॉल पेंटिंग के लिए कला कुंभकलाकार कार्यशालाओं का आयोजन किया है। पहली कार्यशाला का आयोजन 10 से 17 दिसंबर, 2021 तक भुवनेश्वर में भारत के स्वतंत्रता संग्राम की विरासत और पचहत्तर मीटर के पांच स्क्रॉल पर हमारे राष्ट्रीय गौरव को रचनात्मक रूप से प्रदर्शित करने के लिए किया गया। इसी तरह की कार्यशालाएं देश के अन्य हिस्सों में भी आयोजित की जा रही हैं।

1857 में प्रथम स्वतंत्रता संग्राम के उपलक्ष्य में आयोजित अमृत महोत्सव श्रृंखला के भाग के रूप में लखनऊ में भारत का सबसे बड़ा ड्रोन शो आयोजित किया गया।

 

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image013OQBH.jpg

 

भारत के सबसे बड़े ड्रोन शो का आयोजन 20 दिसंबर, 2021 को लखनऊ में 1857 स्वतंत्रता संग्राम के अमृत महोत्सव श्रृंखला के भाग के रूप में किया गया था। इस शो में 500 से अधिक ड्रोन ने भाग लिया था।

प्रधानमंत्री ने श्री अरबिंदो की 150वीं जयंती मनाने के लिए उच्च स्तरीय समिति की पहली बैठक की अध्यक्षता की : समिति में विभिन्न क्षेत्रों से 53 सदस्य शामिल हैं। प्रधानमंत्री ने सुझाव दिया कि देश भर के 150 विश्वविद्यालयों को श्री अरबिंदो के जीवन और दर्शन के विभिन्न पहलुओं पर लिखने और 150 शोध पत्र इस अवसर पर प्रकाशित होना चाहिए।

भारतीय राष्ट्रीय अभिलेखागार (एनएआई) ने पुनर्सुधार प्रभाग, गृह मंत्रालय, नई दिल्ली के 2,076 अभिलेखों और गृह मंत्रालय के पुनर्वास प्रभाग के एआईएमएस पैकेज में की गई 1498 फाइलों की प्रविष्टियों का मूल्यांकन किया है।

एकेएएम के तहत प्रदर्शनियां

अमृत महोत्सव के हिस्से के रूप में आयोजित कुछ महत्वपूर्ण प्रदर्शनियां इस प्रकार हैं:

भारत छोड़ो आंदोलन‘ की 79वीं वर्षगांठ के अवसर पर प्रदर्शनी

संस्कृति मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी ने 8 अगस्त, 2021 को नई दिल्ली में भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार में ‘भारत छोड़ो आंदोलन’ की 79वीं वर्षगांठ के अवसर पर एक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया।

https://static.pib.gov.in/WriteReadData/userfiles/image/image0140UGW.jpg

 

संस्कृति मंत्री श्री जी. किशन रेड्डी ने एक प्रदर्शनी ‘कथा क्रांतिवीरों की’, क्रांतिकारियों की एक प्रदर्शनी का उद्घाटन किया, जिसमें अल्लूरी सीतारामराजू पर एक समर्पित पेंटिंग की प्रदर्शनी और नई दिल्ली में आजादी के 75 साल पूरे होने के उपलक्ष्य में मनाए जा रहे ‘आजादी का अमृत महोत्सव’ के हिस्से के रूप में ललित कला गैलरी, रवींद्र भवन में शहीदी दिवस, चंपारण सत्याग्रह और जलियांवाला बाग के चित्रों को प्रदर्शीत किया गया।

ललित कला अकादमी द्वारा सप्ताह भर चलने वाली प्रदर्शनी ‘भारत माता एवं भारत के नायक’ का उद्घाटन संस्कृति राज्य मंत्री श्रीमती मीनाक्षी लेखी द्वारा किया गया। प्रदर्शनी में प्रख्यात कलाकार श्री पवन वर्मा “शाहीन” के चित्रों को दर्शाया गया है। प्रदर्शनी में रवींद्रनाथ टैगोर, सरदार वल्लभभाई पटेल, एपीजे अब्दुल कलाम और प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जैसे दिग्गजों के छायाचित्र दिखाए गए।

8 मार्च 2021 को अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर, आजादी का अमृत महोत्सव पर सालारजंग संग्रहालय ने एक पेंटिंग प्रदर्शनी और स्वतंत्रता के 75वें वर्ष पर एक विशेष फोटो प्रदर्शनी का भी आयोजन किया गया।

संस्कृति राज्य मंत्री, श्री अर्जुन राम मेघवाल ने इंदिरा गांधी राष्ट्रीय कला केंद्र (आईजीएनसीए), नई दिल्ली में “आजादी का अमृत महोत्सव” के हिस्से के रूप में अमर शहीद ‘चंद्रशेखर आजाद’ के जीवन पर केंद्रित प्रदर्शनी “आजाद की शौर्य गाथा” का उद्घाटन किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!