93 दिन से धरने पर बैठे हैं बुजुर्ग पेंशनर, उनको पूछने वाला भी कोई नहीं

Spread the love

भिकियासैंण, 25 नवंबर। तहसील मुख्यालय भिकियासैंण पर उत्तराखंड गवर्नमेंट पैशनर्स संगठन रामगंगा भिकियासैंण का धरना आज 93वे दिन में प्रवेश कर गया है। अभी तक सरकार का एक अदना कर्मचारी भी इस आंदोलन की सुध लेने नहीं पहुंचा।

तय कार्यक्रम के अनुसार आज चौखुटिया विकासखंड के पैशनर्स ने धरना दिया। धरना स्थल पर आन्दोलनकारियों ने जमकर सरकार विरोधी नारे लगाए और जन गीतों से वातावरण को गुंजायमान कर दिया। बैठक को सम्बोधित करते हुए पूर्व जिला विद्यालय निरीक्षक डी एस नेगी ने कहा कि, सीनियर सिटीजन का यह आंदोलन चौथे महीने में पहुंच चुका है परन्तु सरकार को बुजुर्गो के इस आंदोलन से कोई लेना-देना देना नही रह गया है आगामी विधानसभा चुनावों में सरकार को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा पैंशनर्स और कर्मचारियों में इस कटौती को लेकर बड़ा आक्रोश  है।

संगठन के अध्यक्ष तुला सिंह तड़ियाल ने अपने संबोधन में कहा कि, प्रदेश की धामी सरकार लोकतंत्र की हत्या कर रही है। पैंशनर्स का आन्दोलन चौथे महीने में प्रवेश कर गया है। बेरोजगार सड़कों पर हैं आंगनबाड़ी व आशा वर्कर लम्बे समय से आंदोलनरत हैं उधर उपनल कर्मचारी प्रदेश मुख्यालय में भूख हड़ताल कर रहे हैं। लेकिन सरकार अपने चुनावी गोटियां बिछाने में मसगूल है। उन्होंने आगे कहा हम सरकार के मंसूबों को पूरा नहीं होने देंगे माननीय उच्च न्यायालय से इस असवैधानिक कटौती को बन्द करा ही दम लेंगे और इसके बाद भाजपा हटाओ देश बचाओ नारे के तहत अपना धरना समाप्त कर चुनाव में जायेंगे । बैठक को सेवानिवृत्त जिला विद्यालय निरीक्षक डी एस नेगी, बिष्णुदत्त बवाडी, टीकाराम मठपाल, भूपेंद्र सिंह बंगारी, शंकर दत्त बवाड़ी, कमलनाथ गोस्वामी, दयालु राम, खीमानंद कबडाल, पीताम्बर दत्त पपनै,  रमेशचंद्र सिंह बिष्ट,  डॉ विश्वम्बर दत्त सती , गंगा दत्त जोशी, देबी दत्त लखचौरा, आनन्द प्रकाश लखचौरा, गंगा दत्त शर्मा, किसन सिंह मेहता, राम सिंह बिष्ट, मोहन सिंह नेगी, राम सिंह रावत, मदन सिंह नेगी, प्रताप सिंह नेगी, देब सिंह घुगत्याल, खीमानंद जोशी, कैलाश चन्द्र जोशी आदि लोगों ने सम्बोधित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!