विपश्यना ध्यान करने वालों में नींद की व्यवस्था स्थिर होती है : एक अध्ययन

Spread the love

शोधकर्ताओं ने पाया है कि ध्यान का अभ्यास करने वाले प्रकाश से गहरी नींद में तेजी से पारगमन करते हैं, और उनके इस पारगमन की अवधि जो ध्यान का अभ्यास नहीं करते हैं की तुलना में उम्र के साथ नहीं बढ़ती है और पहले वालों में गहरी नींद की अवधि सबसे लंबी होती है, जबकि यह अवधि बाद वालों के साथ उम्र बढ़ने के साथ ही यह कम हो जाती है। उन्होंने विपश्यना ध्यान अभ्यासियों के बीच नींद के संगठन का प्रदर्शन किया है।

नींद संबंधी विकारों में बार-बार नींद का पारगमन (उच्च गहरी नींद से हल्की नींद तक) देखा जाता है, और उम्र बढ़ने के साथ- साथ ये पारगमन भी बढ़ जाते हैं। परंपरागत रूप से, नींद संबंधी विकारों को दूर करने के उपाय के रूप में ध्यान की सिफारिश की गई है। हालांकि, ध्यान और नींद संबंधी विकारों के बीच संबंध पर वैज्ञानिक प्रमाणों की कमी थी।

राष्ट्रीय मानसिक स्वास्थ्य और स्नायु विज्ञान संस्थान (नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ मेंटल हेल्थ एंड न्यूरोसाइंसेज –एन आईएमएचएएनएस) के एक अध्ययन ने ध्यान और उचित नींद की  व्यवस्था के साथ-साथ नींद की स्थिरता के बीच संबंध स्थापित किया है।

विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग के सत्यम (एसएटीवाईआईएम) कार्यक्रम द्वारा समर्थित अध्ययन, जिसने नींद की व्यवस्था स्लीप वैरिएबल और इसलिए मैक्रो-स्लीप आर्किटेक्चर पर पर ध्यान के महत्व और नींद, ध्यान तथा कल्याण में प्रगति के बीच संबंध की जांच की है, ने विपश्यना ध्यान प्रथाओं द्वारा लाए गए विशिष्ट परिवर्तनों को प्रदर्शित किया। प्रो. बिंदू एम. कुट्टी के नेतृत्व में टीम ने सूक्ष्म-नींद वास्तुकला गतिकी माइक्रो स्लीप आर्किटेक्चर डायनेमिक्स) विशेष रूप से धुरी गतिकी (स्पिंडल डायनेमिक्स) और इलेक्ट्रोएन्सेफलोग्राम (ईईजी) गतिकी (डायनेमिक्स),  तीव्रता और निरंतरता, स्मृति समेकन आदि पर विपश्यना ध्यान की प्रभावकारिता की खोज की जो नींद के लिए आवश्यक थैलमोकोर्टिकल सिंक्रोनाइज़िंग तंत्र पर ध्यान की भूमिका निर्धारित करते हैं। यह अध्ययन न्यूरोमॉड्यूलेशन: टेक्नोलॉजी एट द न्यूरल इंटरफेस पत्रिका में प्रकाशित हुआ था।

नॉन-रैपिड आई मूवमेंट (एनआरईएम) और रैपिड आई मूवमेंट (आरईएम) स्लीप के दौरान मस्तिष्क द्वारा उत्पन्न कई घटना-संबंधी संभावित प्रतिक्रियाओं (ईआरपीएस) की पहचान की गई है और अध्ययन में नींद के विभिन्न चरणों के दौरान महत्वपूर्ण ईआरपीएस का प्रदर्शन किया गया है। ये ईआरपी प्रतिक्रियाएं नींद की स्थिरता के संभावित संकेतक हैं।

चित्र -1: एक ध्यानकर्ता  से विभिन्न नींद चरणों (रंग कोडितके लिए प्रतिनिधि औसत नींद ईआरपी

पारंपरिक स्लीप स्टडी (पॉलीसोम्नोग्राफी), स्लीप ईआरपी और टीएसीएस से जुड़े स्लीप प्रोटोकॉल का प्रस्ताव, परीक्षण और नियंत्रण विषयों और ध्यान करने वालों में नींद की स्थिरता का अनुमान लगाने के लिए मानकीकृत किया गया था। इसमें सूचकांक / उपाय शामिल हैं जो नींद के विखंडन (चरण पारगमन), नींद की शुरुआत (नींद विलंबता), नींद की निरंतरता, नींद की गहराई आदि को पकड़ते हैं। इस प्रोटोकॉल की मदद से, अध्ययन ने नींद की गुणवत्ता का मूल्यांकन करने के लिए नींद के चरण के पारगमन और नींद के चरणों की निरंतरता का मूल्यांकन किया।

यह काम ट्रांसक्रैनियल अल्टरनेटिंग करंट स्टिमुलेशन (टीएसीएस – एक उपकरण जो मस्तिष्क के कार्य को बढ़ावा देने के लिए विद्युत प्रवाह का उपयोग करता है) के अनुप्रयोग का एक व्यापक अवलोकन प्रदान करता है, जबकि सामान्य स्वस्थ व्यक्तियों और ध्यानकर्ताओं पर विभिन्न आवृत्तियों का उपयोग करके मस्तिष्क के दोलनों को उत्पन्न करने के बाद नींद को नियंत्रित करने के लिए सोते समय, और अंतर्जात पर टीएसीएस के प्रभाव का मूल्यांकन किया जाता है।

चित्र -2: चार टीएसीएस उत्तेजनाओं को तीन मिनट के अंतर उत्तेजना अंतराल और 30 सेकंड की अवधि के साथ अनुप्रयुक्त किया जाता है

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!