राजकीय प्राथमिक विद्यालय कोटड़ी में शिक्षक दिवस पर संगोष्ठी का आयोजन

Spread the love

-रिखणीखाल से प्रभुपाल रवत–

शिक्षक दिवस के शुभावसर पर प्रखण्ड रिखणीखाल क्षेत्र के राजकीय प्राथमिक विद्यालय कोटड़ी में वृहद् संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें विद्यालय प्रबंधन समिति के सदस्य, जनसरोकारों से जुड़े कार्यकर्ता, जनप्रतिनिधियों , बुजुर्गों तथा समस्त छात्र अभिभावकों की उपस्थिति सराहनीय रही।


संगोष्ठी में विद्यालय शिक्षक डॉ अम्बिका प्रसाद ध्यानी द्वारा विविध विषय संगोष्ठी में विचार विमर्श हेतु प्रस्तुत किये। जिनमें पुरातन परिवेश से लेकर वर्तमान तथा उसका सम्बन्ध भविष्य में क्या हो? ,बाल रुच्यानुसार शिक्षण अधिगम के साथ साथ घर पर भी गतिविधियों का साधारण कैसे हो?,भाविष्यिक संभावनाओं के साथ समय की चुनौतियों की मौन स्वीकृति, शिक्षा में नवाचार और गुणवत्ता, परिवेश पर आधारित शिक्षण, रचनात्मक क्रियाकलाप, छात्र अभिभावकों तथा शिक्षक के बीच शैक्षणिक समन्वय नव, संस्कृति सभ्यता और परम्पराओं पर आधारित लोकगाथाएं, कहानियां, लोकोक्ति- मुहावरे, जनश्रुतियां व उनकी शाब्दिक भावनात्मक जीवनशैली से सम्बद्धता, आदि विषयों पर चर्चा परिचर्चा हुई व उनकी निष्पत्तियां सबके सम्मुख चर्चा के उपरांत विविध सामूहिक वैचारिक सहभागिता से पटल पर उजागर की गई।


संगोष्ठी का शुभारंभ शिक्षक छात्र- छात्राओं व मुख्य अतिथियों द्वारा डॉ. सर्वपल्ली राधाकृष्णन की मूर्ति पर पुष्पांजलि अर्पित कर व मां सरस्वती की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलित कर किया। कक्षा चार व पांच के छात्रों द्वारा सरस्वती वन्दना दैणि ह्वे जैये मां सरस्वती तथा रवि रुद्र पितामह विष्णु नुतं,तव नौमि सरस्वति पादयुगं.. की प्रस्तुति से कीं।

संगोष्ठी में मुख्य अतिथि कीरत सिंह रावत ने जहां वैश्विक संकेतों के अनुसार जीवनशैली की अनुभूति बताई व सांस्कारिक शिक्षण पर भी निरन्तर ध्यानाकर्षित कराया। विद्यालय प्रबंधन समिति अध्यक्ष अनीता देवी, विशिष्ट अतिथि क्षेत्र पंचायत सदस्य कोटड़ी यशोदा देवी व ग्राम पंचायत प्रधान सविता देवी द्वारा नैतिक कर्तव्य निर्वाह व छात्रों के सर्वांगीण विकास में अहम योगदान हेतु शिक्षकों का आभार व्यक्त किया।

संगोष्ठी के आयोजक व मुख्य वक्ता शिक्षक डॉ .अम्बिका प्रसाद ध्यानी ने सभी से छात्र हित में सक्रिय सहयोग देने व भाविष्यिक चेष्टा के मध्येनजर सामंजस्य स्थापित करने का आह्वान किया तथा विद्यालय की उत्तरोत्तर प्रगति का श्रेय समस्त क्षेत्र वासियों को दिया।इस अवसर पर विद्यालय के प्रभारी प्रधानाध्यापक बिष्णु पाल सिंह नेगी को राज्य शैक्षिक पुरुष्कार हेतु राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा सम्मानित होने पर गौरवानुभूति के साथ हर्ष मनाया गया। विविध सामाजिक सरोकारों से सम्बद्ध क्षेत्र जनों का विद्यालय विकास में सहयोग हेतु आभार व्यक्त किया गया।इस अवसर पर छात्र छात्राओं द्वारा शिक्षक को पेन व उपहार भेंट भी किये गये।


संगोष्ठी में रेवत सिंह रावत,सतेंद्र पटवाल, प्रकाश रावत,लक्ष्मण सिंह गुसाईं, बीरेंद्र सिंह रावत, कल्याण सिंह रावत, हेमलता जखमोला, दिनेश कण्डारी, प्रकाश चन्द,दिलवर सिंह रावत,ऊषा देवी, रवींद्र रावत, शैलेन्द्र,भारत सिंह गुसाईं, बिनीता देवी, कल्पेश्वरी देवी,बीना देवी, यशपाल, सतीश सिंह,दर्शन सिंह, हरेंद्र सिंह,अंजू देवी,दीपा देवी, प्रियंका रावत,संजय गुसाईं, सजनी गुसाईं, अनिल सिंह,लता सिंह, धर्मेंद्र सिंह, कनुप्रिया रावत, धीरेन्द्र सिंह समेत कई वक्ताओं ने विचार व्यक्त किए।

जबकि पियानो पर हिमांशु जखमोला व ढोलक पर समीर ने संगत दी तो साथ में बच्चों ने सामूहिक कविता उलझन,मन करता है,मेरी मम्मी लयबद्ध तरीके से प्रस्तुत किये अक्षिता ने डॉ.सर्वपल्ली राधाकृष्णन और उनके कृतित्व पर प्रकाश डाला। बच्चों को मिष्ठान वितरण व जलपान कर शिक्षक दिवस को हर्षोल्लास से मनाया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!