The “Legends of Jyotirlingam” Natya will be performed on Friday Evening

Spread the love

DEHRADUN, 20 OCTOBER ( UH). The “Legends of Jyotirlingam” – a Natya on the mythological stories of the 12 Jyotirlingam of India will be performed at ‘Sanskriti Sahitya Kala Parishad Auditorium’, Haridwar Bypass Road at Dehradun on 21st October,  at 6.00 p.m. This mega Cultural Extravaganza is scheduled to be held at the site of all 12 Jyotirlingam across India.

Renowned Cultural icon Guru Kanaka Sudhakar has given the concept, choreography, and direction. This Nitya produced by SUNAINA amalgamates Indian Classical, Traditional, Martial, Folk, and Contemporary dance forms. Supported by Ministry of Culture, Govt. of India; music produced by Atrecord Studio-Chennai; partially funded by National Culture Fund, Govt. of India and has the endorsement of Atulya Bharat (Incredible India). The performers are specially selected from across the country with expertise in different dance forms. National Institute for the
Empowerment of Persons with Visual Disabilities (NIEPVD), DEPwD, Ministry of Social Justice & amp; Empowerment, is the Uttarakhand partner and organizer of the event at Dehradun.

“ज्योतिर्लिंगम की गाथाएं” (उत्तराखंड) – 21 अक्टूबर, 2022

 

भारत के 12 ज्योतिर्लिंगम की पौराणिक कथाओं पर आधारित ज्योतिर्लिंगम की गाथाएं” “Legends of Jyotirlingam” – एक नाट्य का प्रदर्शन ‘संस्कृति साहित्य कला परिषद सभागार’, हरिद्वार बाईपास रोड, देहरादून में 21 अक्टूबर, 2022 को सायं 6.00 बजे किया जाएगा।  यह मेगा सांस्कृतिक उत्सव पूरे भारत में सभी 12 ज्योतिर्लिंगम के स्थल पर आयोजित होने वाला है।  प्रसिद्ध सांस्कृतिक प्रतीक गुरु कनक सुधाकर ने इसकी अवधारणा, कोरोग्राफी और निर्देशन किया है।  सुनैना द्वारा निर्मित यह नृत्य भारतीय शास्त्रीय, पारंपरिक, लोक और समकालीक नृत्य रूपों को समाहित करता है।  संस्कृति मंत्रालय, सरकार द्वारा समर्थित ये कार्यक्रम  एट्रेकॉर्ड स्टूडियो-चेन्नई द्वारा संगीतबद्ध;  राष्ट्रीय संस्कृति फंड, भारत सरकार द्वारा आंशिक रूप से वित्त पोषित तथा अतुल्य भारत द्वारा अनु समर्थित है।  विभिन्न नृत्य रूपों में विशेषज्ञता के साथ कलाकारों को विशेष रूप से देश भर से चुना गया है।  राष्ट्रीय दृष्टि दिव्यांगजन सशक्तीकरण संस्थान, देहरादून (एनआईईपीवीडी), सामाजिक न्याय और अधिकारिता मंत्रालय, भारत सरकार उत्तराखंड में इस कार्यक्रम का भागीदार और आयोजक है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!