पर्वतारोहियों के 7 शव उत्तरकाशी पहुंचाए गए : अब तक कुल 26 शव बरामद हो चुके हैं

Spread the love

 

–उत्तराखंड हिमालय ब्यूरो —

देहरादून, 8 अक्टूबर । भारतीय वायु सेना, थल सेना व भारत तिब्बत सीमा पुलिस के साथ ही जम्मू कश्मीर स्थित सेना के Warfare स्कूल (HAWS) का सहयोग  से द्रोपदी का  डंडा में अवलांच की चपेट में आ कर जान गंवाने वाले पर्वतारोहियों में से 7 के शव आज उत्तरकाशी पहुंचाए गए।   कल 4 शव उत्तरकाशी पहुंचाए गए थे. अब तक कुल 26 शव बरामद हो चुके हैं।

4 अक्टूबर, 2022 को नेहरू पर्वतारोहण संस्थान, उत्तरकाशी द्वारा उत्तरकाशी जनपद के डोकरानी बामक हिमनद में संचालित एडवान्स पर्वतारोहण कोर्स के 29 प्रतिभागी द्रौपदी का डांडा-2 (5670 मी0) के आरोहण के समय हिम-स्खलन की चपेट में आ जाने के कारण समुद्र तल से लगभग 5200 मीटर ऊपर हिमनद में स्थित दरारों में फस गये थे।
घटना की जानकारी मिलते ही भारतीय वायु सेना, थल सेना व भारत तिब्बत सीमा पुलिस के साथ ही जम्मू कश्मीर स्थित सेना के Warfare स्कूल (HAWS) का सहयोग लिया गया तथा राज्य आपदा प्रतिवादन बल के खोज एवं बचाव दल को प्रभावित क्षेत्र में भेजा गया।

आज दिनांक 08 अक्टूबर, 2022 को बचाव दलों के द्वारा क्षेत्र में खोज एवं बचाव कार्य किया गया तथा 07 व्यक्तियों के शवों को उत्तरकाशी भेजा गया जहां उनकी पहचान निम्नवत् की गयी हैः-

1. श्री शुभम सांगरी (प्रशिक्षु), पुत्र श्री दीवान सिंह, नियर लालकोठी, कृष्णापुर, नैनीताल।
2. श्री सिद्धार्थ खंडूरी (प्रशिक्षु), पुत्र श्री हर्षवर्धन खंडूरी निवासी- 7/40, नेशविला रोड, देहरादून।
3. सुश्री दीपशिखा हजारिका (प्रशिक्षु), पुत्री श्री गोलाप हजारिका, निवासी- रूपनगर, गुवाहटी, असम।
4. श्री राहुल पंवार (प्रशिक्षु), पुत्र श्री शूरवीर सिंह पंवार, एन0आई0एम0, उत्तरकाशी।
5. श्री नितिश दहिया (प्रशिक्षु), पुत्र श्री राजबीर सिंह, माटिन्डू, सोनीपत,हरियाणा।
6. श्री रवि कुमार निर्मल (प्रशिक्षु), पुत्र श्री धीरेन्द्र निर्मल 17, यू.पी. बी.एन. एन.सी.सी. प्रयागराज (उ0प्र0)
7. श्री टीकलू जरवा (प्रशिक्षु), पुत्र श्री वालमबुक लिंगदोह, अपर लम्परिंग, नियर बुद्धिस्ट टेम्पल, शिलांग, मेघालय।

उपरोक्त व्यक्तियों में से 04 के शवों को अंतिम संस्कार हेतु उनके परिजनों को सौंपा जा चुका है। अन्य 03 व्यक्तियों के शवों को embalming हेतु सड़क मार्ग से देहरादून लाया जा रहा है जहॉ से असम व मेघालय निवासी व्यक्तियों क शवों को वायु मार्ग से तथा प्रयागराज निवासी व्यक्ति के शव को सड़क मार्ग से भेजा जायेगा।

आज दोपहर बाद मौसम खराब होने के कारण हेलीकॉप्टर प्रचालन बाधित हो गया था जिसके कारण शवों को जनपद मुख्यालय नहीं लाया जा सका। यद्यपि प्रभावित क्षेत्र में खोज एवं बचाव कार्य तथा शवों को बेस कैम्प लाने का कार्य किया जा रहा है।

वर्तमान तक उक्त घटना में प्रभावित व्यक्तियों का विवरण निम्नवत् हैः-

1. कुल व्यक्ति  – 61
2. सुरक्षित व्यक्ति  – 32
3. मृत व्यक्ति  – 26
4. लापता व्यक्ति              – 03
5. मृतक व्यक्ति जिनकी पहचान की गयी – 11

राज्य में घटित होने वाली आपदाओं में मृतक व्यक्तियों के शवों को उनके निवास स्थान तक भेजे जाने में होने वाले व्यय को राज्य आपदा मोचन निधि (SDRF ) से किये जाने के सम्बन्ध में शासन स्तर से शासनादेश किया गया है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!