डीआरडीओ डिफेंस एक्सपो 2022 में 430 रणनीतिक और सामरिक हथियार प्रणालियों, रक्षा उपकरणों और प्रौद्योगिकियों को प्रदर्शित करेगा

Spread the love

नयी दिल्ली, 14 अक्टूबर ( उ हि )। रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (डीआरडीओ) 18 से 22 अक्टूबर, 2022 तक गुजरात के गांधीनगर में आयोजित होने वाले डिफेंस एक्‍सपो 2022 में रणनीतिक और सामरिक हथियार प्रणालियों, रक्षा उपकरणों और प्रौद्योगिकियों सहित 430 उत्पादों की एक विस्तृत श्रृंखला प्रदर्शित करेगा। इस वर्ष डीआरडीओ की भागीदारी की प्रमुख थीम 3डी (डीआरडीओ, डिजाइन्‍ड एंड डेवलप्‍ड) इकोस्फीयर पर आधारित है, जो उद्योग जगत के साथ ही साथ शैक्षणिक समुदाय, दोनों के साथ इसके मजबूत संबंध रेखांकित करेगी।

इसके अलावा, यह उन्नत और नवोन्‍मेशी रक्षा उत्पादों और प्रौद्योगिकियों में उच्च स्तरीय स्वदेशीकरण का प्रतिनिधित्व करते हुए हाल के वर्षों में अपनी प्रयोगशालाओं के साथ ही साथ उद्योग जगत की साझेदारी में विकसित की गई प्रौद्योगिकियों के विकास की दिशा में हुई प्रगति को दर्शाएगा, जो रक्षा  आत्मनिर्भरता  में योगदान करती हैं।

डिफेंस एक्‍सपो 2022, रक्षा मंत्रालय का एक प्रमुख द्विवार्षिक कार्यक्रम है, जिसका आयोजन गांधीनगर, गुजरात में 18 से 22 अक्टूबर, 2022 तक किया जा रहा है। एशिया के इस सबसे बड़े रक्षा आयोजन के 12वें संस्करण की थीम ‘पाथ टू प्राइड’ है, जो ‘इंडिया एट 75’ और ‘आत्‍मनिर्भर भारत’ के साथ संबद्ध होते हुए उद्योग जगत के साथ-साथ नागरिकों को भी राष्ट्र निर्माण के कार्य में सम्मिलित होने और उसमें योगदान देने के लिए प्रोत्साहित करती है। इसका उद्देश्य ‘मेक इन इंडिया, मेक फॉर द वर्ल्ड’ के विचार को आगे बढ़ाना है। यह समग्र आयोजन स्वदेशी रूप से डिजाइन, विकसित, प्रोटोटाइप और उत्पादित थल, नौ, एयरो और आंतरिक सुरक्षा प्रणालियों और प्रौद्योगिकियों की श्रृंखला का प्रदर्शन करेगा।

इसके अलावा, डीआरडीओ उद्योग और शिक्षा जगत के साथ अपनी रणनीतिक साझेदारी को और अधिक व्‍यापक बनाने वाली कई पहलों का प्रदर्शन करेगा। इनमें प्रौद्योगिकी विकास कोष, डेयर टू ड्रीम, डीआईए- सेंटर ऑफ एक्सीलेंस तथा इसी तरह की अन्य योजनाएं शामिल हैं, जो देश की मौजूदा और नवोन्‍मेषी प्रौद्योगिकियों के लिए प्रौद्योगिकीय तत्परता के स्तरों को लगातार उन्नत करने हेतु शिक्षा, स्टार्ट-अप, एमएसएमई और बड़े उद्योगों की सहायता करती हैं। डीआरडीओ के नेतृत्व में इन सभी पहलों ने कई भारतीय उद्योगों विशेषकर सिस्टम, रडार, सोनार, मिसाइल, विमान, आदि क्षेत्रों से संबद्ध उद्योगों की परिचालन संबंधी तत्‍परता को बढ़ाया है। इनमें से कुछ को डिफेंस एक्सपो 2022 में डीआरडीओ पेविलियन में प्रदर्शित किया जाएगा।

डिफेंस एक्सपो 2022  के दौरान डीआरडीओ महात्मा मंदिर सम्मेलन और प्रदर्शनी केंद्र, हेलीपैड प्रदर्शनी केंद्र और साबरमती रिवर फ्रंट सहित तीन स्थानों में फैले प्रदर्शनी स्‍थलों पर अनेक स्‍टैटिक डिस्‍प्‍ले, लाइव प्रदर्शन, सेमिनार के साथ-साथ इमर्सिव एक्सपीरियंस ज़ोन प्रस्‍तुत करेगा।

डीआरडीओ का पेविलियन हेलीपैड प्रदर्शनी केंद्र के हॉल नं 10 में होगा। इसे 376 उत्पादों को प्रदर्शित करने के लिए इमर्सिव ज़ोन और एक्सपीरियंस ज़ोन सहित विभिन्न वर्गों के 17 डिस्प्ले ज़ोन में विभाजित किया जाएगा। इन 17 ज़ोन में इंजन और प्रणोदन, एयरोस्पेस और एयरोनॉटिक्स (यूएवी, लड़ाकू विमान, सर्विलांस विमान आदि), सेंसर, उपकरण और उन्नत इलेक्ट्रॉनिक्स, नौसेना के हथियार और प्रणालियां (ईडब्ल्यू सिस्टम और सेंसर), बख्तरबंद वाहन और लैंड सिस्‍टम्‍स, आयुध , बंदूकें और गोला बारूद, सामग्री, मिसाइल (क्रूज, एमबीआरएल, एएएम, एटीजीएम और एमआरएसएएम), ब्रह्मोस, आर एंड डी में साझेदार उद्योग (17 पार्टनर -3 स्टार्ट-अप और 14 एमएसएमई), सैनिक सहायता और दोहरे उपयोग वाली तकनीकें (सैनिक सहायता, एलएस उत्पाद, अग्नि सुरक्षा, अग्निशमन, ईंधन और ऊर्जा, खाद्य उत्पाद आदि), एक्सपीरियंस ज़ोन (सिम्युलेटर, वर्चुअल रिएलिटी और ऑडियो-विजुअल), सॉफ्टवेयर एआई एंड साइबर,  एकेडेमिक ज़ोन, एकेडेमिक आउटरीच, इंडस्‍ट्री आउटरीच और पब्लिक इंटरफ़ेस शामिल हैं।

इस वर्ष, एक्सपीरियंस ज़ोन- क्लोज्ड रूम इमर्सिव सिनेमैटिक एक्सपीरियंस के माध्‍यम से थल सेना, नौसेना और वायुसेना-आधारित प्रणालियों के लिए विकसित कई तकनीकों को प्रदर्शित किया जाएगा। पहले में, अन्य संवर्धित और वर्चुअल रिएलिटी नौसेना, थल और वायु उत्पाद सिमुलेटर सहित  उन्नत लड़ाकू विमान (एएमसीए) सिम्युलेटर का अनुभव प्रदान करने के लिए भी उपलब्ध कराया जाएगा। 30 से अधिक रक्षा उत्पादों का 3डी अनुभव प्रदान करने वाला एक होलोग्राफिक डेक हॉल में मौजूद होगा, जो हथियार डिजाइन की पेचीदगियों की जानकारी प्रदान करेगा।

हेलीपैड प्रदर्शनी केंद्र में आउटडोर डिस्‍प्‍ले के लिए 1200 वर्गमीटर के विशाल क्षेत्र में 18 आउटडोर स्‍टैटिक प्रदर्शक(वास्तविक उत्पाद) भी प्रदर्शित किए जाएंगे। इनमें बॉर्डर सर्विलांस सिस्टम (बीओएसएस), लेजर फेंस सिस्टम (एलएफएस), आईआरडीई झांकी, ब्रह्मोस एयर वर्जन मिसाइल, ब्रह्मोस के लिए मोबाइल ऑटोनॉमस लॉन्चर (एमएएल), सीबीआरएन वाटर प्यूरीफिकेशन सिस्टम, कम्पोजिट हल के साथ इन्फैंट्री कॉम्बैट व्हीकल (सीआईसीवी), एडवांस्ड कम्पोजिट मॉड्यूलर ब्रिज सिस्टम (एसीएमबीएस), 155mmX52 केल एडवांस्ड टोड आर्टिलरी गन सिस्टम (एटीएजीएस), सीबीआरएन वाटर प्यूरीफिकेशन सिस्टम, सीबीआरएन रेकी वेहिकल्स, 70 टी टैंक ट्रांसपोर्टर, व्हील्ड आर्मर्ड प्लेटफॉर्म (डब्‍ल्‍यूएचएपी), प्रहार मिसाइल, रुद्रम III मिसाइल, क्विक रिएक्शन सरफेस टू एयर मिसाइल (क्‍यूआरएसएएम), मध्यम दूरी की सतह से हवा में मार करने वाली मिसाइल (एमआरएसएएम), माउंटेड गन सिस्टम (एमएसजी), अनमेन्‍ड  ग्राउंड मोबाइल प्लेटफॉर्म (यूजीएमपी)शामिल हैं। ।

डीआरडीओ साबरमती रिवर फ्रंट पर लाइव डेमो के साथ-साथ उपकरणों का स्टेटिक डिस्प्ले भी प्रस्‍तुत करेगा। डीआरडीओ उपकरणों के 5 लाइव डेमो प्रदर्शित किए जाएंगे, इनमें- इलेक्ट्रो ऑप्टिक सिस्टम (ईओएस) के साथ पोर्टेबल डाइवर डिटेक्शन सोनार (पीडीडीएस), इमेजिंग सोनार ‘सीएचआईटीआर’, स्वायत्त सर्वेक्षण वाहन – अंतर्देशीय, स्वायत्त सर्वेक्षण वाहन – तटीय (एएसवी-कोस्‍टल) और वेपन माउंटेड सरफेस व्हीकल शामिल होंगे। वहीं डीआरडीओ उपकरणों के 6 स्‍टैटिक डिस्प्ले में एआईआर इंडिपेंडेंट प्रोपल्शन सिस्टम, वर्चुअल रियलिटी बेस्‍ड काउंटर मेशर डिप्‍लोएमेंट सिम्युलेटर, टीएएल टॉरपीडो, पोर्टेबल डाइवर डिटेक्शन सोनार, वेट एंड यूनिट, आईएन-डी 4 रडार के लिए काउंटर ड्रोन सिस्टम, सॉफ्ट किल सिस्टम और हार्ड किल और पैसिव आईआरएसएस डिवाइस शामिल होंगे।

आखिरकार, हेलीपैड प्रदर्शनी केंद्र में इंडिया पेवेलियन सार्वजनिक और निजी क्षेत्रों के साथ-साथ डीआरडीओ  की संयुक्त शक्ति प्रदर्शित करेगा। डीआरडीओ अपने 22 उत्पादों का स्टैटिक डिस्प्ले करेगा। ये हाई-वेल्‍यू उत्पाद वास्तविक उत्पादों के रूप में प्रदर्शित किए जाएंगे और इनमें अन्‍य के अलावा- वैभव- एंटी टैंक पॉइंट अटैक मुनिशन, विशाल- एंटी टैंक बार माइन, प्रचंड- एंटी टैंक, 9 x 19 एमएम मशीन पिस्टल- एएसएमआई, माइन फील्ड मार्किंग इक्विप्‍मेंट एमके II, लाइट टैंक, दक्ष डिफ्यूज़र, एमबीटी अर्जुन एमके -1 ए, लाइट मशीन गन, प्रलय, क्यूआरएसएएम, कार्बाइन- 5.56x 45 एमएम, एआईपी सिस्टम- एयर इंडिपेंडेंट प्रपल्शन, तपस, अस्‍त्र एमके- I, एलसीए एमके 2 शामिल होंगे।

डीआरडीओ द्वारा 20 अक्टूबर 2022 को महात्मा मंदिर कन्वेंशन सेंटर में पूर्वाह्न सत्र में रक्षा अनुसंधान एवं विकास में आत्मनिर्भर भारत: सहक्रियात्मक दृष्टिकोण‘ विषय पर एक संगोष्ठी आयोजित की जाएगी। इसकी अध्यक्षता माननीय रक्षामंत्री करेंगे। माननीय रक्षामंत्री द्वारा डेयर टू ड्रीम 3 के विजेताओं को सम्मानित किया जाएगा। माननीय रक्षामंत्री की उपस्थिति में डीआरडीओ नए डीआईए-सीओई की स्थापना के लिए छह आईआईटी और भारतियर विश्वविद्यालय के साथ एमओयू करेगा। माननीय रक्षामंत्री द्वारा डेयर टू ड्रीम 4 प्रतियोगिता भी घोषित की जाएगी। माननीय रक्षामंत्री कुछ मोनोग्राफ और नीतियां जारी करेंगे।

प्रदर्शनी के दौरान, प्रतिभागी और उपस्थित लोग प्रमुख कार्यक्रमों, संगोष्ठियों और चर्चाओं की श्रृंखला के साक्षी बनेंगे। इस दौरान एक ऐसे ही कार्यक्रम – बंधन – का आयोजन किया जाएगा। इस कार्यक्रम को डीआरडीओ द्वारा विकसित प्रौद्योगिकियों के लाइसेंस उद्योगों को सौंपने के लिए डिज़ाइन किया गया है। डिफेंसएक्‍सपो 2022 में बंधन कार्यक्रम के दौरान 12 उद्योगों के लिए 15 एलएटीओटी और 10 तकनीके सौंपी जाएंगी।

यह प्रदर्शनी भारत-अफ्रीका रक्षा संवाद (आईएडीडी) के दूसरे संस्करण की भी मेजबानी करेगी, जिसमें 53 अफ्रीकी देशों को आमंत्रित किया गया है। इसके अलावा लगभग 40 देशों की भागीदारी के साथ इंडियन ओशन रीजन प्लस (आईओआर+) सम्मेलन भी आयोजित किया जाएगा। डिफेंस एक्सपो 2022 में आयोजित होने वाली संगोष्ठियों में गहन बातचीत और विचार विमर्श होंगे जिनमें सरकार, उद्योग, उद्योग संघों, राज्यों, शिक्षाविदों, थिंक-टैंक आदि के प्रख्यात पैनलिस्ट इस क्षेत्र के विकास के लिए महत्वपूर्ण शिक्षा / निष्कर्ष / कार्रवाई बिंदु प्रदान करेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!