टीएमयू के स्टुडेंट्स को मोटिवेट कर गए आईएएस यक्ष चौधरी

Spread the love

 

सिविल परीक्षा एक बड़ा इम्तिहान है, ऐसे में युवाओं के पास होना चाहिए बी प्लान भी

  • ख़ास बातें :-
  • युवाओं के लिए कोई भी तय लक्ष्य कतई मुश्किल नहीं: वीसी प्रो. रघुवीर सिंह
  • रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा बोले, करियर को लेकर हमेशा संजीदा रहें युवा
  • प्रो. एमपी सिंह ने वेलकम किया तो प्रो. हरबंश दीक्षित ने कहा, धन्यवाद
  • मोटिवेशन सत्र के दौरान टीएमयू के छात्र-छात्राओं ने किए सवाल भी ।

प्रो0 श्याम सुंदर भाटिया

2021 में आईएएस ऑल इंडिया रैंकिंग में छठवाँ स्थान पाने वाले आईएएस श्री यक्ष चौधरी ने छात्र-छात्राओं का उत्साहवर्धन करते हुए कहा, आपको उसी क्षेत्र में अपना करियर बनाना चाहिए, जिसमें आपकी गहरी रुचि हो। दीगर युवाओं को देखकर कभी अपने करियर का चुनाव नहीं करना चाहिए। आप जो भी कार्य करें, उसमें केंद्रित-लक्ष्य, समर्पण, प्रतिबद्धता का प्रदर्शन करना चाहिए। तय लक्ष्य में यदि लगन होगी तो आप निश्चित ही सफलता प्राप्त कर सकते हैं।

श्री यक्ष चौधरी ने सचेत किया, करियर के शुरूआती चरण में आपको अनेक तरह के उतार-चढ़ाव देखने को मिलेंगे, किन्तु आप अपनी कड़ी मेहनत से असफलता को मात दे सकते हैं। वह तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के ऑडिटोरियम में आयोजित अपने सम्मान समारोह और मोटिवेशन सत्र में बोल रहे थे। इससे मौके पर श्री यक्ष चौधरी का बुके देकर गर्मजोशी से स्वागत किया गया। इससे पूर्व माँ सरस्वती के समक्ष दीप प्रज्जवलित करके कार्यक्रम का शंखनाद हुआ।

ऑडिटोरियम में श्री यक्ष चौधरी के संग-संग टीएमयू के वीसी प्रो. रघुवीर सिंह, रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा, डीन छात्र कल्याण प्रो. एम पी सिंह, डीन कॉलेज ऑफ़ लॉ प्रो. हरबंश दीक्षित आदि की उल्लेखनीय उपस्थिति रही। सम्मान के तौर पर मोटिवेटर श्री यक्ष चौधरी को वीसी प्रो. रघुवीर सिंह ने तुलसी का पौधा भेंट किया। मोटिवेशन सत्र के दौरान बड़ी संख्या में एजुकेशन कॉलेज, इंजीनियरिंग कॉलेज और लॉ कॉलेज के छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। सत्र के दौरान सवाल-जवाब का भी दौर चला। संचालन एजुकेशन की फैकल्टी डॉ. नम्रता जैन ने किया।

छात्र-छात्राओं को सम्बोधित करते हुए तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के कुलपति प्रो. रघुवीर सिंह ने कहा, सफलता पाने के लिए कोई सीधा पैमाना नहीं होता है। सत्य यह है, आप जो भी लक्ष्य प्राप्त करना चाहते हैं, वह कतई मुश्किल नहीं है। हरेक के जीवन में कोई न कोई समस्या आती-जाती रहती है, लेकिन ऐसा नहीं है कि उनसे लड़ा ना जा सके या उनसे पार ना पाया जा सके। सफलता एक स्ट्रेट लाइन की मानिंद नहीं है। सफलता एक पीक की तरह है, जिसमें उतार-चढ़ाव रहते हैं। रजिस्ट्रार डॉ. आदित्य शर्मा बोले, करियर को लेकर युवा हमेशा संजीदा रहें। यह बड़े गर्व की बात है कि हमारे ग्रामीण या आसपास के इलाके के युवा आईएएस सरीखे बनने के ड्रीम न केवल देख रहे हैं, बल्कि उन्हें मूर्त रूप भी दे रहे हैं। डीन प्रो. एमपी सिंह ने आईएएस श्री यक्ष चौधरी का वेलकम किया तो अंत में डीन कॉलेज ऑफ़ लॉ डॉ. हरबंश दीक्षित ने सभी का आभार व्यक्त किया। उल्लेखनीय है, आईएएस श्री यक्ष चौधरी अमरोहा के नया गांव के बाशिंदे हैं। मोटिवेशन सत्र के दौरान छात्र-छात्राओं ने श्री यक्ष चौधरी से सवाल पूछकर अपनी जिज्ञासा शांत की। उन्होंने सवाल किया, बीटेक पासआउट होने के बाद आपने सोशलॉजी को क्यों चुना ? सिविल परीक्षा की तैयारी के लिए जीवन में कौन-सा वक़्त चुना जाए ? खुद को इस परीक्षा के लिए कैसे पहचानें ? मोटिवेशन होने का क्या तरीका है ? श्री चौधरी ने सभी सवालों का तर्कसंगत जवाब देते हुए सलाह दी, सिविल परीक्षा एक बड़ा इम्तिहान है। ऐसे में युवाओं के पास करियर के लिए बी प्लान भी होना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!