टीएमयू हॉस्पिटल में कान की हुई बहुत जटिल सर्जरी

Spread the love

रेयर बीमारी डाइग्नोसिस सिग्मोइड साइनस थ्रोम्बोसिस का टीएमयू ईएनटी के विभागाध्यक्ष डॉ.  पी. चटर्जी और उनकी टीम ने किया चार घंटे ऑपरेशन, डॉ.  चटर्जी अब तक कर चुके हैं 1,000 से अधिक ऑपरेशन

 

मुरादाबाद, 25   जनवरी  ( भाटिया )।तीर्थंकर महावीर यूनिवर्सिटी के मेडिकल काॅलेज एंड रिसर्च सेंटर के ईएनटी विभाग के एचओडी डॉ.  पी. चटर्जी और उनकी टीम ने 10 साल के बच्चे अनिकेत का एक दुर्लभ ऑपरेशन किया है। यह ऑपरेशन चार घंटे चला। डॉ.  चटर्जी ने बताया, पेशेंट को डाइग्नोसिस सिग्मोइड साइनस थ्रोम्बोसिस नामक बीमारी थी। अमूमन यह बीमारी न के बराबर लोगों में ही होती है। यदि इसका समय रहते इलाज नहीं हुआ तो यह जानलेवा हो सकती है। डॉ.  चटर्जी कहते हैं, यूं तो मैं टीएमयू में सात साल से हूं, लेकिन अपने बीस सालों से अधिक के करियर में मैंने इस प्रकार का पहला ऑपरेशन किया है। वे अब तक 1,000 से अधिक ऑपरेशन कर चुके हैं। मुरादाबाद के रतनपुर कलां के पेशेंट अनिकेत के पिता पेशे से मजदूर हैं।

पेशेंट अनिकेत के पिता बबलू सिंह बताते हैं, अनिकेत को दो सालों से कानों के बहने और दर्द की शिकायत थी। बहुतेरे डॉक्टरों से इलाज कराया, लेकिन कहीं कोई लाभ नहीं हुआ। लगभग पन्द्रह दिन पहले अनिकेत के कान से पस बाहर आने लगा और आवाज भी कम आने लगी। साथ ही साथ आधे सिर में भी भयंकर दर्द होने लगा तो घरवाले बच्चे को इलाज के लिए तीर्थंकर महावीर हॉस्पिटल एंड रिसर्च सेंटर में आए। यहां आकर ईएनटी विभाग के एचओडी डॉ. पी चटर्जी ने पेशेंट की जांच की और सीटी स्कैन करने पर पता चला कि पेशेंट के कान में इन्फेक्शन बहुत बढ़ गया है। इन्फेक्शन फैलते-फैलते मस्तिष्क तक पहुंच चुका है। मेडिकल की बात करें तो इसे डाइग्नोसिस सिग्मोइड साइनस थ्रोम्बोसिस बीमारी कहा जाता है। यह एक बहुत ही रेयर बीमारी है। यदि इसका तुरंत इलाज न किया जाए तो जानलेवा हो सकती है। अतः ऐसे में डॉ.  चटर्जी ने तुरंत ऑपरेशन करने की सलाह दी। अनिकेत के घरवालों की सहमति के बाद डॉ.  चटर्जी और उनकी टीम ने ऑपरेशन किया। चूंकि यह एक दुर्लभ केस था, अतः इस जटिल ऑपरेशन में करीब चार घंटे का समय लगा। ऑपरेशन के बाद कान की संक्रमित हड्डी को बाहर निकाल दिया और मस्तिष्क में जमा हुए क्लोट और इन्फेक्शन को भी साफ कर दिया गया है। अंततः ऑपरेशन सफल हुआ है। एक दिन आईसीयू में रखने के बाद पेशेंट को जनरल वार्ड में शिफ्ट कर दिया है। अब पेशेंट की स्थिति सामान्य है। जल्द ही अस्पताल से उसकी छुट्टी कर दी जाएगी। डॉ.  चटर्जी की टीम में डॉ.  अक्षय जैन, डॉ.  आदित्य, डॉ.  रिया, डॉ.  प्रियंका, डॉ.  अनिल आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!