Front Pageआपदा/दुर्घटना

भारत में पिछले साल 1.68 लाख लोग सड़क दुर्घटनाओं में मरे : मोबाइल फोन भी सड़क हादसों का कारण प्रमुख

As per the available reports, road accidents occur due to multiple causes such as speeding, use of mobile phones, drunken driving/consumption of alcohol and drug, driving on the wrong side/ lane indiscipline, jumping red light, non-use of safety devices such as helmets and seat belts, vehicular condition, weather condition, road condition, fault of driver/cyclist/ pedestrian, etc. The report titled ‘Road accidents in India -2022’ reported an 11.9% year-on-year alarming rise in accidents and a 9.4% increase in fatalities. There was a 15.3% surge in the number of people getting injured in 2022 against the previous year.

 

By Usha Rawat

देहरादून, 8 दिसंबर ।भारत में  सड़क दुर्घटनाओं की संख्या निरंतर बढ़ती जा रही है जिनमे मौतों की संख्या भी बढ़ रही है। पिछले ही साल देश में 4,61,312 सड़क दुर्घटनाएं  हुईं जिनमे 1,68,491 लोग मारे गए। तेज गति से गाड़ी चलाना और मोबाइल फोन का उपयोग भी सड़क हादसों के कारण हैं।

 

यह जानकारी केंद्रीय सड़क परिवहन एवं राजमार्ग मंत्री श्री नितिन गडकरी ने लोकसभा में एक लिखित उत्तर में दी। उन्होंने बताया कि  वर्ष 2020  में 3,72,181, वर्ष 2021 में  4,12,432  और वर्ष 2022   में  4,61,312 सड़क दुर्घटनाएं  हुईं। इन दुर्घटनाओं में वर्ष 2020  में 1,38,383,  वर्ष 2021  में  1,53,972 और वर्ष 2022  में 1,68,491  लोग सड़क दुर्घटनाओं में मारे  गए।  उपलब्ध रिपोर्ट के अनुसार, देश में 31 मार्च 2019 तक लगभग 63,31,791 किलोमीटर का सड़क नेटवर्क है, जो दुनिया में दूसरा सबसे बड़ा सड़क नेटवर्क है। यह मंत्रालय मुख्य रूप से राष्ट्रीय राजमार्गों के विकास और रखरखाव के लिए जिम्मेदार है। देश में राष्ट्रीय राजमार्ग नेटवर्क मार्च, 2014 में लगभग 91,287 किमी था जो बढ़कर वर्तमान में लगभग 1,46,145 किमी हो गया है।

 

उन्होंने बताया कि उपलब्ध रिपोर्टों के अनुसार, सड़क दुर्घटनाएँ कई कारणों से होती हैं जैसे तेज गति से गाड़ी चलाना, मोबाइल फोन का उपयोग, नशे में गाड़ी चलाना/शराब और नशीली दवाओं का सेवन, गलत साइड/लेन पर अनुशासनहीनता से गाड़ी चलाना, लाल बत्ती तोड़ना, हेलमेट और सीट बेल्ट जैसे सुरक्षा उपकरणों का उपयोग न करना, वाहन की स्थिति, मौसम की स्थिति, सड़क की स्थिति, चालक/साइकिल चालक/पैदल यात्री की गलती आदि।

राष्ट्रीय राजमार्गों पर सुरक्षा सहित सड़क सुरक्षा के लिए मोटर वाहन (संशोधन) अधिनियम, 2019 के तहत किए गए कुछ प्रमुख प्रावधान इस प्रकार हैं:-

  1. यातायात नियमों के उल्लंघन पर जुर्माना बढ़ाया गया।
  2. तेज गति से गाड़ी चलाने, खतरनाक ढंग से गाड़ी चलाने, नशे में गाड़ी चलाने, असुरक्षित वाहनों का उपयोग करने, हेलमेट न पहनने आदि के मामले में लाइसेंस जब्त करना और निलंबित करना।
  3. लाइसेंस के निलंबन की स्थिति में उपचारात्मक उपाय के रूप में ड्राइवर रिफ्रेशिंग प्रशिक्षण पाठ्यक्रम।
  4. फिटनेस प्रमाणन के लिए स्वचालित परीक्षण।
  5. सड़क सुरक्षा और यातायात प्रबंधन पर सलाह देने के लिए राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा बोर्ड का गठन।
  6. सड़क सुरक्षा की इलेक्ट्रॉनिक निगरानी और प्रवर्तन।
  7. खराबी की स्थिति में मोटर वाहनों को वापस लेना।
  8. राष्ट्रीय राजमार्गों पर यातायात चिह्न लगाने और हटाने के लिए सड़क स्वामित्व एजेंसियों को शक्ति।
  9. मोटरसाइकिल पर चार वर्ष से अधिक उम्र के व्यक्ति के लिए सुरक्षात्मक हेडगियर पहनना।
  10. लागू सुरक्षा मानकों के अनुसार सड़क के डिजाइन, निर्माण या रखरखाव में शामिल प्राधिकारी, ठेकेदार, सलाहकार या रियायतग्राही की जवाबदेही।

मोटर वाहन (संशोधन) अधिनियम, 2019 की धारा 215बी में सड़क सुरक्षा और यातायात प्रबंधन से संबंधित सभी पहलुओं पर केंद्र सरकार या राज्य सरकार को सलाह देने के लिए राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा बोर्ड के गठन का प्रावधान है, लेकिन यह इन्हीं तक सीमित नहीं है,

i. मोटर वाहनों और सुरक्षा उपकरणों के डिजाइन, वजन, निर्माण, विनिर्माण प्रक्रिया, संचालन और रखरखाव के मानक;

ii. मोटर वाहनों का पंजीकरण और लाइसेंसिंग;

iii. सड़क सुरक्षा, सड़क अवसंरचना और यातायात नियंत्रण के लिए मानकों का निर्माण;

iv. सड़क परिवहन इकोसिस्‍टम के सुरक्षित और टिकाऊ उपयोग की सुविधा;

v. नई वाहन प्रौद्योगिकी को बढ़ावा देना;

vi. असुरक्षित सड़क उपयोगकर्ताओं की सुरक्षा;

vii. ड्राइवरों और अन्य सड़क उपयोगकर्ताओं को शिक्षित और संवेदनशील बनाने के लिए कार्यक्रम; और

viii. ऐसे अन्य कार्य जो समय-समय पर केंद्र सरकार द्वारा निर्धारित किए जा सकते हैं।

इसके अनुसार, मंत्रालय ने 3 सितंबर, 2021 को नियमों के साथ राष्ट्रीय सड़क सुरक्षा बोर्ड के गठन को अधिसूचित किया है।

अनुलग्नक – I

 

राज्य/केंद्र शासित प्रदेश के अनुसार सड़क दुर्घटनाओं की कुल संख्या:-

 

क्र.सं.

राज्य/केंद्र शासित प्रदेश 2020 2021 2022
1 आंध्र प्रदेश 19509 21556 21249
2 अरुणाचल प्रदेश 134 283 227
3 असम 6595 7411 7023
4 बिहार 8639 9553 10801
5 छत्तीसगढ 11656 12375 13279
6 गोवा 2375 2849 3011
7 गुजरात 13398 15186 15751
8 हरियाणा 9431 9933 10429
9 हिमाचल प्रदेश 2239 2404 2597
10 झारखंड 4405 4728 5175
11 कर्नाटक 34178 34647 39762
12 केरल 27877 33296 43910
13 मध्य प्रदेश 45266 48877 54432
14 महाराष्ट्र 24971 29477 33383
15 मणिपुर 432 366 508
16 मेघालय 214 245 246
17 मिजोरम 53 69 133
18 नागालैंड 500 746 489
19 ओडिशा 9817 10983 11663
20 पंजाब 5203 5871 6138
21 राजस्थान 19114 20951 23614
22 सिक्किम 138 155 211
23 तमिल नाडु 49844 55682 64105
24 तेलंगाना 19172 21315 21619
25 त्रिपुरा 466 479 575
26 उत्तराखंड 1041 1405 1674
27 उत्तर प्रदेश 34243 37729 41746
28 पश्चिम बंगाल 10863 11937 13686
29 अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह 141 115 141
30 चंडीगढ़ 159 208 237
31 दादरा एवं नगर हवेली 100 140 196
32 दमन एवं दीव $ $ $
33 दिल्ली 4178 4720 5652
34 जम्मू एवं कश्मीर 4860 5452 6092
35 लदाख NA 236 374
36 लक्षद्वीप 1 4 3
37 पुदुचेरी 969 1049 1181
कुल 372181 412432 461312

 

अनुलग्नक – II

राज्य/केंद्र शासित प्रदेश के अनुसार, सड़क दुर्घटना में होने वाली मौतों की कुल संख्या-

 

क्र.सं.

राज्य/केंद्र शासित प्रदेश 2020 2021 2022
1 आंध्र प्रदेश 7039 8186 8293
2 अरुणाचल प्रदेश 73 157 148
3 असम 2629 3036 2994
4 बिहार 6699 7660 8898
5 छत्तीसगढ 4606 5371 5834
6 गोवा 223 226 271
7 गुजरात 6170 7452 7618
8 हरियाणा 4507 4706 4915
9 हिमाचल प्रदेश 893 1052 1032
10 झारखंड 3044 3513 3898
11 कर्नाटक 9760 10038 11702
12 केरल 2979 3429 4317
13 मध्य प्रदेश 11141 12057 13427
14 महाराष्ट्र 11569 13528 15224
15 मणिपुर 127 110 127
16 मेघालय 144 187 162
17 मिजोरम 42 56 113
18 नागालैंड 53 55 73
19 ओडिशा 4738 5081 5467
20 पंजाब 3898 4589 4756
21 राजस्थान 9250 10043 11104
22 सिक्किम 47 56 92
23 तमिल नाडु 14527 15384 17884
24 तेलंगाना 6882 7557 7559
25 त्रिपुरा 192 194 241
26 उत्तराखंड 674 820 1042
27 उत्तर प्रदेश 19149 21227 22595
28 पश्चिम बंगाल 5128 5800 6002
29 अंडमान एवं निकोबार द्वीप समूह 14 20 19
30 चंडीगढ़ 53 96 83
31 दादरा एवं नगर हवेली 64 76 90
32 दमन एवं दीव $ $ $
33 दिल्ली 1196 1239 1461
34 जम्मू एवं कश्मीर 728 774 805
35 लदाख NA 56 62
36 लक्षद्वीप 0 1 2
37 पुदुचेरी 145 140 181
कुल 138383 153972 168491

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!