आशा पारेख को दादा साहेब फाल्के पुरस्कार, 2020 से सम्मानित किया जाएगा

Spread the love

Ministry of Information and Broadcasting has today announced that the Dadasaheb Phalke Award for the year 2020 will be accorded to legendary actress Ms. Asha Parekh. The award will be presented at the National Film Award ceremony in New Delhi. Announcing the decision Union Minister Shri Anurag Thakur said “I am honored to announce that the Dadasaheb Phalke Selection Jury has decided to recognize & award Ms. Asha Parekh Ji for her exemplary lifetime contribution to Indian Cinema.” The Minister also announced that the 68th National Film Awards will be held on 30th September 2022 and will be presided over by the President of India Smt Droupadi Murmu.

  • 68वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह का आयोजन 30 सितंबर को होगा
  • राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु इस पुरस्कार समारोह की अध्यक्षता करेंगी

नयी दिल्ली, 24  सितम्बर । सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने आज घोषणा की है कि वर्ष 2020 के लिए दादा साहेब फाल्के पुरस्कार दिग्गज अभिनेत्री आशा पारेख को दिया जाएगा। ये पुरस्कार नई दिल्ली में आयोजित राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह में प्रदान किया जाएगा।

इस निर्णय की घोषणा करते हुए केंद्रीय मंत्री श्री अनुराग ठाकुर ने कहा, “मुझे ये घोषणा करते हुए बहुत खुशी हो रही है कि दादा साहेब फाल्के पुरस्कार की जूरी ने भारतीय सिनेमा में आशा पारेख जी के जीवन भर के अनुकरणीय योगदान को मान्यता देने और उन्हें पुरस्कृत करने का निर्णय लिया है।” मंत्री महोदय ने ये भी घोषणा की कि 68वें राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार समारोह का आयोजन 30 सितंबर, 2022 को होगा और इस समारोह की अध्यक्षता भारत की राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मु करेंगी।

सुश्री आशा पारेख एक प्रसिद्ध फिल्म अभिनेत्री, निर्देशक, निर्माता और एक कुशल भारतीय शास्त्रीय नृत्यांगना हैं। एक बाल कलाकार के रूप में अपना करियर शुरू करते हुए उन्होंने फिल्म ‘दिल दे के देखो’ में मुख्य नायिका के तौर पर अपनी शुरुआत की और 95 से ज्यादा फिल्मों में अभिनय किया। उन्होंने कटी पतंग, तीसरी मंजिल, लव इन टोक्यो, आया सावन झूम के, आन मिलो सजना, मेरा गांव मेरा देश जैसी मशहूर फिल्मों में अभिनय किया है।

सुश्री पारेख पद्मश्री से सम्मानित हैं जो उन्हें 1992 में दिया गया था। उन्होंने 1998-2001 तक केंद्रीय फिल्म प्रमाणन बोर्ड के प्रमुख के रूप में भी काम किया है।

श्री अनुराग ठाकुर ने ये भी घोषणा की कि सुश्री पारेख को पुरस्कार देने का निर्णय पांच सदस्यों की जूरी द्वारा लिया गया था। 52वें दादा साहेब फाल्के पुरस्कार के चयन के लिए इस जूरी में फिल्म उद्योग के ये पांच सदस्य शामिल थे:

  1. सुश्री आशा भोसले
  2. सुश्री हेमा मालिनी
  3. सुश्री पूनम ढिल्लों
  4. श्री टी. एस. नागभरण
  5. श्री उदित नारायण

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!