चार धाम यात्रियोें को मिलेगी 2025 से रेल सेवा : उत्तराखंड के 4 अन्य रेल लाइनों का सर्वे कार्य भी हुआ पूर्ण

Spread the love
Advocate and RTI activist Nadim Uddin

उत्तराखंड हिमालय के लिए उषा रावत 
देहरादून, 16 सितम्बर। उत्तराखंड में 2025 से चार धाम यात्रियों को रेल सेवा मिलना प्रारम्भ हो जायेगी। ऐसा ऋषिकेष-कर्णप्रयाग रेल परियोजना 31-12-2024 तक पूर्ण होने से होगा। इसके अतिरिक्त चार धाम यात्रियों को रेल सेवा उपलब्ध कराने के लिये चारधाम एफ0एल0एस0 कार्य के अन्तर्गत उत्तराखंड के पहाड़ों में 4 अन्य रेल लाइनों का सर्वे कार्य पूर्ण हो चुका है। यह जानकारी इन कार्यों की कार्यदायी संस्था रेल विकास निगम लि0 ने सूचना अधिकार के अन्तर्गत नदीम उद्दीन को उपलब्ध करायी है।

काशीपुर निवासी सूचना अधिकार कार्यकर्ता नदीम उद्दीन को मुख्य परियोजना प्रबन्धक कार्यालय ऋषिकेश के लोेक सूचना अधिकारी से मिली सूचना के अनुसार रेल विकास निगम लिमिटेड रेलवे की एक कार्यदायी संस्था है जो उत्तराखंड राज्य में 126 किमी ऋषिकेश-कर्णप्रयाग ब्रॉड गेेज रेल लाइन परियोजना का क्रियान्वयन कर रहा हैै। निर्माण कार्य प्रगति पर हैै। इसके अतिरिक्त चार धाम एफ0एल0एस0कार्य के अन्तर्गत (गंगोत्री-यमुनोत्री) 122 किमी. डोईवाला-उत्तरकाशी-बड़कोट, (केदारनाथ-बद्रीनाथ) कर्ण प्रयाग-साईकोट, सोन प्रयाग, 91 किमी0, साईकोर्ट-जोशीमठ 86 किमी. साईकोट से पीपल कोटी 21 किमी. अंतिम स्थान निर्धारण सर्वे कार्य पूर्ण किया गया हैै विस्तृत रिपोर्ट भारत सरकार को भेज दी गयी हैै।

रेल विकास निगम द्वारा उपलब्ध करायी गयी सूचना के अनुसार ऋषिकेश-कर्णप्रयाग नौ पैैकेज में विभाजित किया गया है। परियोजना पूर्ण होने की तिथि 31 दिसम्बर 2024 है। इस रेललाइन के प्रगति विवरण के अनुसार सूचना उपलब्ध कराने के तिथि तक कुल रेल लाइन की लम्बाई 125.172 किमी. में से 5.770 किमी. का कार्य पूर्ण हो चुका हैै। 07 एडिट्स में से भी सभी 07 तथा 10 शाफ्ट में से 01 शाफ्ट का कार्य पूर्ण हो चुका हैै। मुख्य सुरंगों की 104 किमी. लम्बाई में से 24 किमी. का कार्य पूरा हो चुका हैै जबकि इस्केप सुरंगों की कुल लम्बाई 97.7 किमी. में से 26 किमी. का कार्य तथा एडिट्स/शाफ्ट की सभी लम्बाई 4.5 किमी. कार्य, महत्वपूर्ण पुलों में 5 में से 01, सड़क पुलों में 6 में से 1, सड़क के ऊपर पुलों (आर.ओ.बी) का 02 में 01, रोड अंडर ब्रिज 01 में से 01 तथा एलएचएस. का 4 में से 01, छोटे पुलों मे 34 में से 15 तथा नये स्टेशनों में 12 में से 01 का काम पूरा हो चुका हैै।

नदीम ने इस सूचना प्रार्थनापत्र से काशीपुर से धामपुर, खटीमा-सितारगंज-किच्छा तथा टनकपुर से बागेश्वर रेल लाइन से सम्बंधित सूचनायें भी मांगी थीं। इन्हें रेलवे बोर्ड, भारत सरकार, नर्द दिल्ली से सम्बंधित है लिखित करते हुये नहीं उपलब्ध कराया गया है। ज्ञी नदीम ने बताया कि इस सम्बंध में उन्होने अपील करने के साथ -साथ रेलवे बोर्ड के लोक सूचना अधिकारी को प्रार्थनापत्र देकर पुनः सूचना मांगी है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!