नदी में डूबे चारों किशोरों के शवों का गमगीन माहौल में अंतिम संस्कार: समूची पिंडर घाटी में शोक की लहर

Spread the love

थराली/देवाल से हरेंद्र बिष्ट

विकासखंड मुख्यालय देवाल से लगे कलसिरी गांव के नीचे कैल नदी में 15 से 17 आयु वर्ग के 4 बच्चों की डूब जाने से दर्दनांक मौत के बाद चारों किशोर के शवों नदी से निकाल कर पीएचसी देवाल में पोस्टमार्टम किया गया। उसके बाद शवों को परिजनों को सौंप दिया गया है।

इस दर्दनांक हादसे के बाद पूरी पिंडर घाटी में शोक की लहर दौड़ी हुई हैं। कैल नदी में कलसिरी के पास कैल नदी में डूबे देवाल ब्लाक के धरागांव के प्रियांशु पुत्र रघुवीर बिष्ट16, ओडर गांव के धर्मेंद्र उर्फ गौरव सिंह पुत्र भरत सिंह 15 ,सोड़िग सरकोट के अंशुल पुत्र स्वर्गीय हरेंद्र सिंह बिष्ट17, एवं इच्छोली के आकृष्ट ऊर्फ अनिल मिश्रा पुत्र राकेश मिश्रा 16 के शवों को नदी से निकाल कर पीएचसी देवाल में शवों का पोस्टमार्टम किया गया।

उसके बाद शवों को परिजनों को सौंप दिया गया। सोडिंग के अंशुल एवं इच्छोली के आकृष्ट का पिंडर एवं कैल के संगम स्थल पर एवं धरा के प्रियांशु का नंदकेसरी में पिंडर नदी के तट पर अंतिम संस्कार कर दिया गया हैं। जबकि ओड़र के धर्मेंद्र के शव को उसके परिजन ओड़र गांव लेजाने की तैयारी कर रहे हैं।

इस दर्दनाक हादसे पर थराली के विधायक भूपाल राम टम्टा, पूर्व विधायक डॉ जीत राम,जिला पंचायत उपाध्यक्ष लक्ष्मण रावत, देवाल प्रमुख दर्शन दानू, थराली बार एसोसिएशन के अध्यक्ष एवं देवाल के पूर्व प्रमुख डीडी कुनियाल, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष आनंद सिंह रावत,

कैल प्रधान जीवन मिश्रा,देवाल के क्षेत्र पंचायत सदस्य प्रमोद मिश्रा, व्यापार संघ अध्यक्ष सुरेंद्र रावत, भाजपा मंडल अध्यक्ष शीतल गड़िया,महामंत्री उमेश मिश्रा, कांग्रेसी नेता महावीर बिष्ट, संदीप पटवाल,प्रताप राम, देवाल के पूर्व प्रधान चंद्रमोहन मिश्रा,यादव मिश्रा, पूर्व क्षेपंस रमेश गड़िया,प्रकाश गड़िया,खिलाप सिंह दानू, लोकपाल रावत आदि ने गहरा शोक व्यक्त किया।

इस घटना के संबंध में पूछे जाने पर थराली के उपजिलाधिकारी रविंद्र जुवांठा ने दुःख व्यक्त करते हुए घटना की गंभीरता से जांच कराने की बात कही।

——–
इध दिनों काफी कम बहाव वाली कैल नदी में करीब 15 मीटर लंबे 7 मीटर चौड़े एवं डेढ़ मीटर गहरे तालाब में चार किशोरों के डूब कर दर्दनांक मौत एक पहेली बनने लगी हैं। लोगों का मानना है कि कही इस घटना के पीछे कोई बेहद ख़तरनाक नशीले पदार्थ का सेवन हों सकता है।इस संबंध में थराली बार एसोसिएशन के अध्यक्ष डीडी कुनियाल ने पुलिस, प्रशासन से उच्च स्तरीय जांच की मांग की हैं।
——–
जब पुलिस प्रशासन दो घंटों से अधिक समय तक शवों को पानी से निकालने के लिए एसडीआरएफ एवं एनडीआरएफ के आने का इंतजार करने लगें तों ऐसे में बिना किसी कृत्रिम संसाधनों के ही कैल गांव के युवक दीपक मिश्रा एवं घेस गांव यशपाल सिंह बिष्ट ने नदी में उतर कर शवों को नदी से बहार निकाल इस दौरान पुलिस की ओर से कांस्टेबल दिगम्बर रावत एवं कुलदीप रावत घटना स्थल पर मुश्तेद रहें।
——
मुख्य चिकित्साधिकारी डॉ राजीव शर्मा के निर्देश पर देवाल के पीएचसी प्रभारी डॉ शहजाद अली के नेतृत्व में चिकित्सकों के एक दल ने पीएचसी कैम्पस में ही पोस्टमार्टम की कार्रवाई को संपादित किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!