केदारनाथ यात्रा में पुलिसकर्मी ने की पीआरडी जवान की हत्या : कांग्रेस ने घटना की उच्च स्तरीय जांच की मांग

Spread the love

 

देहरादूनए 10 जून (उहि)। केदारनाथ यात्रा के मुख्य पड़ाव सोनप्रयाग में पुलिस और प्रान्तीय रक्षा दल ;पीआरडीद्ध के दो जवानों के बीच मारपीट के बाद एक की मौत से यात्रा व्यवस्था में जूझे जिला प्रशासन का चैन उड़ा दिया है। इस घटना से राज्य सरकार की पेशानी में भी बल पड़ गयाए क्योंकि दोनों जवानों के बीच झगड़े का असली कारण दोनों का शराब के नेशे में धुत्त होना बताया जा रहा है। यद्यपि हत्यारोपी पुलिस कांस्टेबल के निलम्बन के बाद उसे गिरफ्तार कर लिया गया हैए फिर भी इस दुर्भाग्यपूर्ण घटना से केदारनाथ यात्रा में तैनात पीआरडी जवानों में भारी रोष है। स्थिति को संभालने के लिये गढ़वाल रेंज के डीआइजी करन सिंह नगन्याल ने मोर्चा संभाल लिया है।
प्राप्त जानकारी के अनुसार पुलिस ने हत्यारोपी दीपक चन्द सिरोही को गिरफ्तार कर लिया है। जनकारी के अनुसार बुधवार की रात्रि केदारनाथ यात्रा के मुख्य पड़ाव सोनप्रयाग में करीब साढ़े नौ बजे बैरक में तैनात पुलिस कांस्टेबल दीपक चंद सिराई और पीआरडी जवान शूरवीर लाल टम्टा निवासी कांडीए बाड़वए अगस्त्यमुनि विकासखंड के बीच किसी बता को लेकर कहासुनी के बाद मारपीट हो गई। दोनों शराब के नशे में थेए बताये गये हैं। इस बीच पुलिस कांस्टेबल ने पीआरडी जवान के सिर पर हेलमेट दे माराए जिससे उसके सिर पर गंभीर चोट लग गई और नाक एवं कान से खून बहने लगा। पीआरडी जवान को स्थानीय व्यक्तियों की मदद से प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गयाए जहां उसकी स्थिति गंभीर देखते हुए उसे ऋषिकेश एम्स रेफर कर दिया गया। एम्स में शूरवीर ने दम तोड़ दिया।
इस घटना के बाद दीपक को निलंबित करने के बाद गिरफ्तार कर लिया गया। मगर सवाल उठ रहा है कि यात्रा सीजन में अगर सुरक्षाकर्मी ही इस तरह शराब के नेशे में खून खराबा करने लगेंगे तो फिर यात्रियों की अप्रत्याशित भीड़ के बीच कानून व्यवस्था की स्थिति क्या होगी?
प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने रूद्रप्रयाग जनपद के सोनप्रयाग में पुलिस एवं पीण्आरण्डीण् जवानों के बीच हुई मारपीट की घटना के उपरान्त घायल पीण्आरण्डीण् जवान की मौत पर शोक प्रकट करते हुए उनके परिजनों के प्रति गहरी संवेदना व्यक्त की है।प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष करन माहरा ने कहा कि जनता विशेषकर चारधाम तीर्थ यात्रियों की सुरक्षा मे तैनात जवानों के मध्य हुई मारपीट की घटना गम्भीर अनुशासनहीनता का विषय है जिसका राज्य सरकार को संज्ञान लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि वर्तमान में उत्तराखण्ड में चारधारम यात्रा चल रही है तथा चारधाम यात्रा मार्ग पर तैनात सुरक्षा कर्मियों पर न केवल स्थानीय जनता अपितु चारधाम यात्रा पर आने वाले श्रद्धालुओं की सुरक्षा का भी जिम्मा है परन्तु इस प्रकार की घटनाओं से जनता का पुलिस विभाग से विश्वास समाप्त होगा। करन माहरा ने सोनप्रयाग में घटी इस घटना की उच्च स्तरीय जांच कराये जाने तथा भविष्य में ऐसी घटनायें घटित न हो इस हेतु सख्त कानून बनाये जाने की मांग की है। साथ ही करन माहरा ने घटना में मृतक पीण्आरण्डीण् जवान के परिजनों को उचित मुआबजा दिये जाने तथा घटना के लिए दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कडी कार्रवाई की भी मांग की है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!