आम आदमी पार्टी का धामी सरकार पर जबरदस्त प्रहार, कहा अपनी नाकामियों को छिपाने के लिए कर रहे जनता को गुमराह

Spread the love

देहरादून, 30  अक्टूबर ।  आम आदमी पार्टी ने प्रदेश की धामी सरकार  पर जबरदस्त हमला बोलते हुए आरोप लगाया है कि उसने अंकिता हत्या कांड के लिए असली जिम्मेदार VIP को बचाने के लिए पहले आरोपी के रिसोर्ट पर बुलडोज़र चलाया और अब वहां आगजनी रहेसहे सबूत भी मिटवा दिए।   सरकार अपनी विफलताओं से प्रदेशवासियों का ध्यान हटाने के लिए कभी सामान नागरिक संहिता का तो कभी  गुलामी के प्रतीक नामों को बदलने का राग अपना रही है।  ग्रीष्म कालीन राजधानी में सत्र करते नहीं हैं और अब शीतकाल में सत्र करने का नाटक कर रहे हैं.

आम आदमी पार्टी के प्रदेश संयोजक जोत  सिंह बिष्ट और वरिष्ठ नेता  डॉ -आर. पी रतूड़ी ने आज पत्रकारों को सम्बोधित करते हुए कहा कि   जिसका डर था आखिर वही हो गया। अंकिता  हत्याकांड के घटना स्थल वनन्तरा रिसॉर्ट को पहले बुलडोजर से तोड़कर साक्ष्य छुपाने का षडयंत्र किया गया और आज वनन्तरा  रिसॉर्ट को आग के हवाले कर दिया गया ना रहेगा बास ना बजेगी बासुरी। अंकिता हत्याकांड के आरोपियों को बचने खासकर VIP को बचाने का काम आज पूरा हो गया।

आप नेताओं ने  आरोप  लगाया कि   उत्तराखंड की भाजपा सरकार अपनी गलतियों को छुपाने के लिए पिछले 6 महीने से लगातार लोगों को ध्यान भटकाने में ज्यादा समय बिता रही है।  जब जब अपनी गलतियों से सरकार की फजीहत हुई तब मुख्यमंत्री ने कभी समान नागरिक संहिता की बात कर के ध्यान भटकाने का प्रयास किया तो कभी नये जिलों के गठन की बात की और आजकल एक नया शिगूफा छोड़ा कि गुलामी के प्रतीक नामों को बदला जाएगा। सरकार की इस तरह की कवायद इस बात का प्रमाण है कि सरकार जन सरोकार के कामों को करने के बजाय लोगों का ध्यान भटकाने का काम कर के अपनी शाख बचने की नाकाम कोशिश कर रहे हैं।

आप नेताओं ने  आरोप  लगाया कि   गैरसैण को ग्रीष्मकालीन राजधानी घोषित करने के बाद गर्मियों में गैरसैंण में विधानसभा सत्र न करवाकर सर्दियों में शीतकालीन सत्र का नाटक  भी किया जा रहा है। जिला न्यायालय से लेकर उच्च न्यायालय नैनीताल तथा उच्चतम न्यायालय दिल्ली में अपने पैनल पर बड़ी संख्या में अधिवक्ताओं की तैनाती के बावजूद सरकार लगातार ज़िला न्यायालय में तथा हाईकोर्ट में अधिकांश मामलों में पिछड़ती दिख रही है, यह अत्यंत चिंताजनक है। राज्य के अंदर विगत कुछ समय में जिस तरह से कुछ बड़े घोटाले निकल कर आए जिन में से कई मामलों में सरकार ने त्वरित कार्यवाही दिखा कर अपनी पीठ थपथपाई, इन मामलों में सरकार किसी भी एक मामले में कोर्ट में टिक नहीं पाई है। जिसका परिणाम हैं कि जेल में बंद आरोपी एक एक कर जमानत पर रिहा हो रहे हैं।

आप नेताओं ने कहा कि   विधानसभा भर्ती घोटाले का प्रकरण उजागर होने पर अपनी शाख बचाने के लिए आनन फानन में मुख्यमंत्री  ने विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखा। विधानसभा अध्यक्ष ने बिना देर किए एक कमेटी गठित कर 30 दिन में जांच करने के आदेश दिए। कमेटी ने बिना देर किए अगले दिन से जांच शुरू करके निर्धारित समय से 10 दिन पहले अपनी जांच पूरी करके रिपोर्ट विधानसभा अध्यक्ष को सौंप दी। विधानसभा अध्यक्ष  ने भी रिपोर्ट के कानूनी पहलू का अध्ययन किए कराए बिना 228 कर्मचारियों के निष्कासन की संस्तुति का पत्र मुख्यमंत्री  को भेजा और मुख्यमंत्री  ने भी 24 घंटे से पहले उस पर स्वीकृति की मोहर लगा दी और सभी 228 लोगों को नौकरी से बर्खास्त कर दिया। लेकिन जिन लोगों ने इन 228 लोगों को नौकरी में भर्ती किया था उनके खिलाफ कुछ भी कार्यवाही करने पर सरकार ने चुप्पी साध ली। इस घटना के दो पहलू हैं जिसमें नौकरी देने वाले लोग को माफ, नौकरी पाने वाले साफ। हिंदुस्तान के इतिहास में यह एकमात्र घटना है जिसमें जांच के आदेश, जांच और कार्यवाही मात्र 25 दिन में पूरी हो गई। फौज भी इतनी तेज ड्रिल नहीं कर सकती हैं।

आप नेताओं ने कहा कि   विधानसभा भर्ती घोटाले की इस अति त्वरित  जांच और दंड के आदेश से उत्तराखंड की जनता अत्यंत उत्साहित थी। जनता का उत्साह और सरकार के काम की सराहना के बीच आम आदमी पार्टी लगातार सवाल कर रही थी की घोटालों के मुख्य आरोपियों को जांच प्रक्रिया में शामिल किया जाए। लेकिन अभी तक बड़े लोगों के खिलाफ कोई कार्यवाही ना करना सरकार की कार्यप्रणाली पर बड़ा सवाल खड़ा करता है।

महत्वपूर्ण बात यह है कि क्या सरकार में बैठे लोग नहीं जानते थे कि बिना किसी नोटिस के 228 लोगों की सीधी बर्खास्तगी करने पर न्यायालय उनको पहली पेशी में ही राहत दे देगा। मुख्यमंत्री और विधानसभा अध्यक्ष जी ने इस विषय में कानूनी राय क्यों नहीं ली अगर ली तो फिर जानकर और जिम्मेदार लोगों ने क्यों सही राय नहीं दी। यही वजह है कि निकाले गए सभी 228 लोगों को हाइकोर्ट से राहत मिली और सरकार को इन्हें फिर से वापस लेना पड़ा। यह सरकार की बड़ी विफलता हैं। घोटाले के आरोपी मंत्री को अभयदान देकर मंत्री पद पर बनाये रखना इसका प्रमाण है।

आप नेताओं ने कहा कि    UKSSSC भर्ती घोटाले में गिरफ्तार किए गए 42 लोगों में से लचर पैरवी व कमजोर साक्ष्यों के आधार पर 19 लोग जमानत पर छूट गए हैं।  जब STF उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग के परीक्षा भर्ती घोटाले में जांच के दौरान आरोपियों को गिरफ्तार कर रही थी, तब राज्य की भाजपा सरकार इन गिरफ्तारियों को अपनी बड़ी उपलब्धि के रूप में प्रचारित कर रही थी। सरकार अपनी और STF की पीठ थपथपा रही थी। जनता भी खुश हो रही थी। सरकार अगर आरोपियों को दंडित करने की मंशा से काम करती तो फिर इस मामले के कानूनी पक्ष को जान समझकर मामले कोर्ट में दाखिल करती। सरकार और जांच दल के द्वारा अपना काम सही तरीके से नहीं किया गया। इसका परिणाम है कि हर पेशी में आरोपी लगातार जमानत पा कर रिहा हो रहे हैं। इस प्रकार इतने बड़े घोटालों के दोषियों का जनमत पर रिहा होना सरकार की विफलता है, या फिर सरकार जान-बूझकर इन छुटमैया आरोपियों को बचा रही है, ताकि इन को संरक्षण देने वाले सफेदपोश लोगों को बचाया जा सके। उत्तराखंड अधीनस्थ सेवा चयन आयोग की पहले अध्यक्ष आरबीएस रावत की गिरफ्तारी और दूसरे अध्यक्ष जिन्होंने कहा कि उन पर बड़े लोगों का दबाव था कि परीक्षा भर्ती घोटाले की जांच ना हो इतनी बड़ी बात कहने वाले व्यक्ति से अब तक एसटीएफ ने जांच करने की जरूरत नहीं समझी। यही अपने आप में एक प्रमाण है कि परीक्षा भर्ती घोटाले में भी सरकार अपनी पार्टी के किसी बड़े सफेदपोश को बचा रही है। सरकार की यह दूसरी बड़ी विफलता हैं।

आप नेताओं ने  आरोप  लगाया कि जिस तरह से विधानसभा भर्ती घोटाले तथा UKSSSC भर्ती घोटाले में सत्तापक्ष के सफेदपोश लोगों को सरकार बचा रही है उसी तरह सरकार पूरी मुस्तैदी से अंकिता भंडारी हत्याकांड में भी लीपापोती कर रही है। इसी का परिणाम है कि 40 दिन से अधिक बीत जाने के बाद तथा  मुख्य आरोपी पुलकित के 3 दिन पुलिस रिमांड में रहने के बाद भी जांच टीम उस VIP जिस को खुश करने से मना करने पर अंकिता की हत्या की गई उस VIP के नाम का खुलासा नहीं कर रही है। कौन है वह VIP जिसको भाजपा सरकार और जांच दल बचाने में लगा है?

हत्या के आरोपी 3 लोगों की गिरफ्तारी के बाद पसरा सन्नाटा कतई संतोषजनक नहीं है। अंकिता की हत्या का कारण वह VIP है जिस को खुश करने का अंकिता पर दबाव था। अंकिता अगर मान जाती तो अंकिता की जान तो बच जाती लेकिन उत्तराखंड की बेटियों की अस्मिता पर ऐसे अवैध रिसोर्ट संचालक हमेशा चोट करते रहते। अंकिता ने अनैतिकता का विरोध किया और अपने प्राण गवाए। यह उत्तराखंड के बेटियों की अस्मिता की रक्षा के लिए अंकिता का बलिदान है। अंकिता का बलिदान बेकार ना जाए यह हर उत्तराखंडी का नैतिक दायित्व है।

आम आदमी पार्टी अपनी तरफ से लगातार प्रयास करेगी। न्यायलय में निशुल्क पैरवई के साथ सरकार पर सही दिशा  में जांच करने के लिए दबाव, जारी रखेगी।

हम उत्तराखंड की भाजपा सरकार से मांग करते हैं कि

  1. अंकिता हत्याकांड के सभी बड़े व छोटे दोषियों, जिनमे वह VIP भी शामिल है जो अभी तक पर्दे के पीछे है सभी को फांसी की सजा मिले।
  2. UKSSSC भर्ती घोटाले में संलिप्त सभी दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा मिले।
  3. विधानसभा भर्ती घोटालों में गलत तरीके से नौकरी देने व गलत तरीके से नौकरी पाने वाले सभी दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करते हुए सजा दिलाई जाए।

समय से सरकार को चेताना हमारा काम है जिसको हम लगातार कर रहे हैं और करते रहेंगे। सरकार अगर कोताही बरतेगी तो आंदोलन का रास्ता अख्तियार किया जायेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!