अंकिता भंडारी हत्याकांड पर क्या कहा कांग्रेस की राष्ट्रीय प्रवक्ता सुप्रिया श्रीनेत ने, देखिये वीडियो और पढ़िए उनका बयान

Spread the love

*एआईसीसी कांग्रेस मुख्यालय नाई दिल्ली  में आयोजित एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में राष्ट्रीय प्रवक्ता एवं राष्ट्रीय कांग्रेस सोशल मीडिया विभाग अध्यक्षा सुप्रिया श्रीनेत ने भाजपा सरकार से प्रश्न किया:*

पहाड़ कि बेटी अंकिता भंडारी अपनी आंखों में कुछ सपने लेकर जीवन में कुछ हासिल करने की उम्मीद को लेकर और एक तरह से फंसा करने के लिए अपने घर से निकली थी मेहनत करके कुछ कर दिखाना चाहती थी

• लेकिन भाजपा के नेता के बद दिमाग लड़के सत्ता के नशे में चूर एक बददिमाग लड़के को लगा ऐसी बच्चियों से अपने होटल में देह व्यापार कर आना चाहिए और उसमें जब देह व्यापार करने से मना किया तो उस को मजबूर किया गया और जब वह नहीं माने तो उसे नहर में धकेल कर हत्या कर दी गई

•पिछले 5 दिन से अंकिता लापता थी कल वह लड़का अरेस्ट हुआ है उनकी तारीफ विनोद आज एक लड़का जो पूर्व मंत्री हैं

•उत्तराखंड की सरकार में उसका दूसरा बेटा अंकित आर्य राज्यमंत्री का दर्जा लेकर घूम रहा था ऐसा क्यों है जब भी है लड़की के शोषण या दुष्कर्म की घटना सामने आती है तो कहीं ना कहीं उस में भारतीय जनता पार्टी के नेता का नाम जरूर सामने आता है

•अंकिता के परिजन की आंखों में आंखें डाल कर बात करने की किसी भारतीय जनता पार्टी के परिजन की हिम्मत नहीं हो रही है यह कैसे दरिंदे इन्होंने भरे हुए हैं अरे यह कौन जानवर है जिनको लगता है कि एक लड़की की जान की कीमत नहीं होती

• यह कौन लोग हैं जिनको लगता है लड़की जब घर से नौकरी करने के लिए निकलती है उसको देह व्यापार की तरफ ढकेल देंगे

• इस रिसॉर्ट का नाम था रिजॉर्ट है और बहुत आक्रोश और जो जन आक्रोश दिखा उसके बाद भारतीय जनता पार्टी जागी और कुछ कार्यवाही हुई है लेकिन मेरा अपना मानना है कि यह सिलेक्टिव कार्यवाही है अगर कार्यवाही करनी है तो अपने तमाम एम एल एस अपने तमाममो एमपी को बर्खास्त करिए उसके बाद महिला सुरक्षा का बेटियों के हक का बेटियों के हूकुक् की बात करिएगा

• ऐसा क्यों है – जब भी कहीं कोई दुष्कर्म की घटना पाई जाती है , उसमें भाजपा के नेता का नाम सामने आ जाता है ।

–––——————————————————————

*उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी हत्याकांड पर श्रीमती प्रियंका गांधी  का वक्तव्य*

उत्तराखंड में अंकिता भंडारी के साथ घटी घटना दिल दहलाने वाली है। तमाम सपनों को लेकर लड़कियां अपने घरों से बाहर काम करने निकलती हैं, लेकिन उनके खिलाफ ऐसे जघन्य अपराध करने वाले अपराधी उनके हौसलों पर भी हमला करते हैं। मैं सोच सकती हूं कि इस लड़की के मां बाप पर क्या गुजर रही होगी।
नौकरी/काम करने वाली लड़कियों को सुरक्षा देना और नौकरी की जगहों को सुरक्षित बनाना सरकार की जिम्मेदारी है। सरकारों को महिलाओं की सुरक्षा को प्राथमिकता देनी ही होगी। त्वरित कार्रवाई और सख्त सजा व महिला सुरक्षा के उचित प्रावधानों से ही इस समस्या का हल निकलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!