सुरक्षा

गोला-बारूद के परिवहन, आरोहण और उतरने की सुविधा वाला बार्ज एलएसएएम 16भारतीय नौसेना को सौंपा गया

नयी दिल्ली, 7  सितम्बर।  भारत सरकार की “आत्मनिर्भर भारत” पहल के अनुरूप, नौसेना के जहाजों के लिए गोला-बारूद के परिवहन, आरोहण और उतरने की सुविधा प्रदान करने वाले ग्यारह गोला-बारूद बार्जों के निर्माण और वितरण के लिए एमएसएमई, मेसर्स सूर्यदीप्त प्रोजेक्ट्स प्राइवेट लिमिटेड, ठाणे के साथ अनुबंध संपन्न हुआ। श्रृंखला का दूसरा बार्ज एलएसएएम 16 (यार्ड 126) 06 सितंबर, 23 को सीएमडीई एमवी राज कृष्णा, सीओवाई (एमबीआई) की उपस्थिति में भारतीय नौसेना को सौंप दिया गया है। बार्ज को 30 वर्ष के सेवा जीवन चक्र के साथ भारतीय शिपिंग रजिस्टर (आईआरएस) के वर्गीकरण नियमों के तहत बनाया गया है। स्वदेशी निर्माताओं से प्राप्त सभी प्रमुख और सहायक उपकरणों/प्रणालियों के साथ, बार्ज को रक्षा मंत्रालय की “मेक इन इंडिया” पहल का गौरव प्राप्त है।

एसीटीसीएम बार्ज के शामिल होने से जेटी और बाहरी बंदरगाह दोनों पर भारतीय नौसेना के जहाजों के लिए सामान/गोला-बारूद के परिवहन, आरोहण और उतरने की सुविधा प्रदान करके नौसेना की परिचालन प्रतिबद्धताओं को प्रोत्साहन मिलेगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!