कॉर्पोरेट जगत में इंनोवेटिव थिंकिंग अनिवार्य: प्रो. वीना त्रिपाठी

Spread the love

 

टीएमयू सीआरसी के निदेशक श्री विनीत नेहरा बोले, गेस्ट लेक्चर की सीरीज में यह दूसरा व्याख्यान, कल होगा कैंपस में थर्ड गेस्ट लेक्चर

 खास बातें :-

  • स्टुडेंट्स के ग्रुप बनाकर आत्मविश्वास की जगाई अलख
  • थीम थी- क्रिएटिव कॉन्फिडेंस: मूव फ्रॉम कांसेप्ट टू कोड
  • एमबीए, बीबीए के 200 से अधिक स्टुडेंट्स ने लिया हिस्सा
  • लेक्चर के अंत में प्रो. त्रिपाठी से स्टुडेंट्स ने सवाल भी पूछे

मुरादाबाद, 16 सितम्बर (उ हि)। सीनियर कॉर्पोरेट ट्रेनर एवं डिज़ाइन थिंकिंग एक्सपर्ट डॉ. वीना त्रिपाठी बोलीं, क्रिएटिव थिंकिंग समय की दरकार है। युवा इसे आत्मसात करें, ताकि वैश्विक बाज़ार के मुताबिक़ हम नए उत्पाद तैयार कर सकें। हकीकत यह है, युवाओं को मौजूदा वक़्त से पांच साल आगे की सोच विकसित करनी होगी।

क्रिएटिव कॉन्फिडेंस: मूव फ्रॉम कांसेप्ट टू कोड थीम पर प्रो. त्रिपाठी ने बोलते हुए कहा, डिज़ाइन थिंकिंग का उपयोग हम दैनिक जीवन में बहुत सारी चीजों को अपडेट करने में कर सकते हैं। यदि आप में डर घर कर गया है, तो क्रिएटिव थिंकिंग सरीखे औज़ार से आप उसे दूर भगा सकते हैं। आपकी सोच में भय सबसे बड़ा रोड़ा है। उन्होंने तमाम उदाहरण देते हुए कहा, कॉर्पोरेट जगत में इंनोवेटिव थिंकिंग अनिवार्य है। जापान की बुलेट ट्रेन का उदाहरण देते हुए समझाया, जापानी सरकार ने बुलेट ट्रेन को अप्रूवल नहीं दिया, क्योंकि जब बुलेट ट्रेन गुफाओं से गुजरेगी तो अत्याधिक शोर के कारण वहां के पशु और पक्षियों के जीवन में व्यवधान उत्पन्न होने का अंदेशा था। बुलेट ट्रैन के प्रोजेक्ट हेड ने प्रबल संतुति की, बुलेट ट्रेन का डिज़ाइन चिड़िया की चोंच के मानिंद दिया जाए, जिससे बुलेट ट्रेन हवा को चीरते हुए बिना आवाज किए तेजी से निकल जाए।

टीएमयू सीआरसी के निदेशक श्री विनीत नेहरा ने बताया, गेस्ट लेक्चर की सीरीज में यह दूसरा व्याख्यान है, जबकि कल 17 सितम्बर को यूनिवर्सिटी कैंपस में थर्ड गेस्ट लेक्चर होगा। इसमें कॉग्निटरेक्स कंसल्टेंट्स प्राइवेट लिमिटेड के सीईओ श्री मानस रंजन राउत, अक्सेलरेटिंग करियर इन फार्मा एंड लाइफसाइंस विद चेंजिंग मार्किट डायनामिक्स: पोस्ट कोविड इम्पैक्ट पर व्याख्यान देंगे। असिस्टेंट डायरेक्टर- सीआरसी श्री सिद्धार्थ सिंह ने बताया, यूनिवर्सिटी में नामचीन अतिथियों के व्याख्यान की कार्ययोजना बना दी गई है। ये हस्तियां जल्दी-जल्दी हमारे स्टुडेंट्स से रूबरू होंगी। सीआरसी की ओर से आयोजित इस अतिथि व्याख्यान में शिरकत करने आईं डॉ. वीना त्रिपाठी का सीआरसी के असिस्टेंट डायरेक्टर श्री आकाश भटनागर ने बुके देकर गर्मजोशी से स्वागत किया। संचालन फैकल्टी श्री विवेक बिड़ला ने किया। इस गेस्ट लेक्चर में एमबीए, बीबीए औऱ बीकॉम के 200 से अधिक स्टुडेंट्स ने भाग लिया। डेढ़ घंटे चले इस गेस्ट लेक्चर में स्टुडेंट्स ने अतिथि से सवाल भी किए। उदाहरण के तौर पर डर को कैसे दूर भगाएं? इंटरव्यू औऱ जीडी के वक़्त क्रिएटिव थिंकिंग का इस्तेमाल कैसे किया जाए? नए प्रोडक्ट को बनाते वक़्त क्रिएटिव थिंकिंग कैसे मददगार होगी? प्रो. त्रिपाठी ने कहा, सजगता के चलते ही किसी भी उत्पाद में हजार बदलाव संभव हैं।

 

व्याख्यान के बाद प्रो. त्रिपाठी ने सात-सात स्टुडेंट्स के तीन ग्रुप बनाकर हम होंगे कामयाब गीत के माध्यम से स्टुडेंट्स में आत्मविश्वास की अलख जगाई। प्रो. त्रिपाठी बोलीं, नकारात्मकता औऱ सकारात्मकता आपके बोलने के अंदाज़ से परिलक्षित होती है। नकारात्मकता पराजय की प्रतीक है, जबकि सकारात्मकता विजयश्री की प्रतीक है, इसीलिए स्टुडेंट्स हो हमेशा आत्मविश्वास से लबरेज रहना चाहिए। विज़ुलाइज़ेशन को परिभाषित करते हुए प्रो. त्रिपाठी बोलीं, विज़ुलाइज़ेशन में बड़ी ताकत है। यह हमें हमेशा आगे बढ़ने को प्रेरित करती है। पीपीटी के जरिए प्रो. त्रिपाठी ने बॉडी लैंग्वेज की भी बारीकियां समझायीं। बोलीं, सफलता में बॉडी लैंग्वेज की भी एक बड़ी भूमिका है। बॉडी लैंग्वेज आपकी निगेटिविटी औऱ पॉजिटिविटी को साफ़-साफ़ दर्शाती है। टिमिट के सभागार में गेस्ट लेक्चर की दूसरी सीरीज़ में टिमिट के निदेशक प्रो. विपिन जैन के अलावा फैकल्टीज भी मौजूद रहीं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.

error: Content is protected !!