आपदा/दुर्घटना

सिलक्यारा  अपडेट : ऑग़र मशीन व्यवधान के बाद फिर घुसी लक्ष्य की ओर : मंजिल अब थोड़ी दूर

सिलक्यारा, 24 नवंबर। सुरंग में ड्रीलिंग के दौरान आगे लोहे के गर्डर आने के कारण  ऑगर  धातु के टुकड़े फसने से रेस्क्यू ऑपरेशन में फिर व्यवधान आ गया है और सुरंग में फंसे श्रमिकों को बहार निकलने के अभियान में रुकावट तो आयी लेकिन रेस्क्यू मे लगे एक्सपर्ट ने मशीन की पुनः मरम्मत कर तथा जाबाजों ने जान जोखिम में डाल कर ऑगर मशीन के लिए रास्ता खोल दिया है। अमेरिकन ऑग़र मशीन ने काम शुरू कर दिया है।

 

सिलक्यारा टनल रेस्क्यू ऑपरेशन के संबंध में शुक्रवार को अस्थाईमीडिया सेंटर, सिलक्यारा में प्रेस ब्रीफिंग के  दौरान अपर सचिव (सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार) एवं एम.डी (एनएचआईडीसीएल ) महमूद अहमद ने बताया कि ऑगर मशीन से 45 मीटर के बाद ड्रिलिंग शुरू करते हुए कुल 1.8 तक ड्रिलिंग पूरी कर ली गई थी। इस प्रकार कुल 46.8 से आगे की ड्रिलिंग के बाद धातु के टुकड़े मशीन में फसने से ड्रिलिंग रोक दी गई थी। तत्पश्चात श्रमिकों द्वारा पाइप के मुहाने पर फंसे धातु के टुकड़ों को पाइप के अंदर रेंगकर काट दिया गया है। गत दिवस पुनः ऑगर मशीन स्थापित कर ड्रिलिंग शुरु करते हुए 1.2 मीटर अतिरिक्त ड्रिलिंग की गई थी। इस प्रकार कुल 48 मीटर तक ड्रिलिंग की थी।

अपर सचिव (सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार) एवं एम.डी (एनएचआईडीसीएल ) महमूद अहमद ने बताया कि पाइप के आख़िरी सिरे पर फंसे धातु के टुकड़ों से पाइप क्षतिग्रस्त हुआ है। जिसके बाद क्षतिग्रस्त 1.2 मीटर पाइप को काटकर बाहर निकाला गया।

अपर सचिव (सड़क परिवहन राजमार्ग मंत्रालय, भारत सरकार) एवं एम.डी (एनएचआईडीसीएल ) महमूद अहमद ने बताया कि अब तक कुल 46.8 मीटर पाइप को पुश किया गया है। आगे की ड्रिलिंग पूरी सावधानी के साथ शुरू की जायेगी।

इस दौरान सचिव, उत्तराखंड शासन डॉ. नीरज खैरवाल, महानिदेशक सूचना बंशीधर तिवारी मौजूद रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!