उत्तराखंड में बन रहे रिजॉर्ट अपसंस्कृति के किले क्यों?

Spread the love
दिनेश शास्त्री
र्म कर्म के लिए दुनियाभर में प्रसिद्ध देवभूमि उत्तराखंड को रिजॉर्ट के नाम पर शर्मसार किया जा रहा है। आप तीर्थाटन की पारंपरिक व्यवस्था पर नजर डालें तो पाएंगे कि अनादिकाल से इस देवभूमि में देश – विदेश से लोग पुण्य अर्जित करने आते रहे हैं, किंतु बदलते दौर में तीर्थाटन पर आधुनिक पर्यटन हावी हो गया है। राजाजी नेशनल पार्क क्षेत्र में वनन्तरा रिजॉर्ट मालिक द्वारा उत्तराखंड की बेटी अंकिता भंडारी की हत्या के बाद यह बात विमर्श के केंद्र में आ गई है कि क्या वन प्रांतर या दूरस्थ क्षेत्रों में धड़ाधड़ बन रहे रिजॉर्ट आखिर किस उद्देश्य से स्थापित हो रहे हैं? दिल्ली हाईकोर्ट के वरिष्ठ अधिवक्ता एडवोकेट विवेकानंद सेमवाल चिंता जताते हुए कहते हैं कि देवभूमि में घृणित कार्य के अड्डे के रूप में ये रिजॉर्ट उभर रहे हैं और यह इस धरती के अनुकूल नहीं है। वे कहते हैं कि गरीब घर की एक बेटी अपने परिवार को आर्थिक संबल देने के उद्देश्य से रिजॉर्ट में नौकरी करती है तो उसे अवांछित कार्य के लिए विवश किया जाता है। श्री सेमवाल जोर देकर कहते हैं कि राज्य सरकार को राजस्व अर्जित करने की खातिर देवभूमि की सात्विकता को नजरंदाज नहीं करना चाहिए।
पको याद होगा, 2018 तक उत्तराखंड में गिनती के रिजॉर्ट थे, तो वे नियम कायदों से नियंत्रित भी किए जाते थे, किंतु 2018 में हुई इन्वेस्टर समिट के बाद प्रदेश के तमाम सुरम्य क्षेत्रों में जमीनों की जिस द्रुत गति से खरीद फरोख्त हुई और हर जगह रिजॉर्ट ही रिजॉर्ट नजर आने लगे। जल्दी से जल्दी मुनाफा कमाने और निवेश की गई रकम की प्रतिपूर्ति के लिए सारे वैध अवैध धंधे का पर्याय ये रिजॉर्ट बन गए।
त्तराखंड परिवर्तन पार्टी ने भी इस बात को खास तौर पर रेखांकित किया है। उपपा के पी.सी. तिवारी कहते हैं कि देवभूमि में बड़ी संख्या में खुले रिसोर्ट में धड़ल्ले से रेव पार्टी कल्चर, वेश्यावृति का चलन दुर्भाग्यपूर्ण है। इसकी रोकथाम बेहद जरूरी है।वे कहते हैं कि देवभूमि की बेटी ने अंकिता ने इसका प्रतिरोध किया तो उसे जान देकर उसकी कीमत चुकानी पड़ी। उसे अत्यंत बेरहमी से खामोश कर दिया गया। ऐसे ही आये दिन स्पा सेंटर में छापेमारी की ख़बरें आम हो गयी हैं, जहाँ खुलेआम सेक्स स्कैंडल चल रहे हैं जबकि सरकार इस घृणित प्रवृति से आंखें मूंदे हुए है। श्री तिवारी के मुताबिक पिछले 7- 8 साल से प्रदेश में इतने सारे रिसोर्ट और होटल हमारी जमीनों पर खुल गए हैं, उनकी सघन जांच होनी चाहिए। सरकार अब कुछ हरकत में आई है किंतु बीते सात आठ साल में प्रदेश का बहुत बड़ा नुकसान हो चुका है।
इस बीच खबर आ रही है कि भाजपा के नेता के इसी रिजॉर्ट से अतीत में भी प्रियंका नाम की एक युवती गायब हो गई थी, कौन जानता है कि उसके साथ भी कुछ इसी तरह का हुआ होगा। रिजॉर्ट मालिकों ने तब उस पर चोरी का आरोप लगाया था। इस बार इसी रिजॉर्ट मालिक के बेटे ने खुद धूर्तता के साथ अंकिता की गुमशुदगी की रिपोर्ट लिखाई थी। सरकार ने अब एसआईटी जांच के आदेश दिए तो हैं किंतु प्रियंका के गायब होने की घटना का शायद ही खुलासा हो पाए क्योंकि जो रसूख आरोपियों का है, उसे देखते हुए बहुत ज्यादा उम्मीद करना बेमानी ही होगा।
शुक्रवार को देर रात नाक बचाने के लिए इस रिजॉर्ट पर बुलडोजर चला दिया गया, लेकिन लोग तो खास कर नौकरियों की बंदरबांट में ठगे गए युवा पूछ रहे हैं कि धामी सरकार के बुलडोजर को हाकम सिंह के रिजॉर्ट का रास्ता क्यों नहीं मिल रहा है? नियम कायदे तो वहां भी ताक पर रखे गए हैं। सत्ता के मिजाज को देखते हुए यही अंदाजा लग रहा है कि ज्यादा से ज्यादा मोरी का रिजॉर्ट कुछ दिन के लिए सील कर दिया जायेगा और जैसे ही लोग भूलने लगेंगे, हाकम को वापस चाबी सौंप दी जाएगी। हालांकि इस बीच सरोवर नगरी नैनीताल से कुछेक रिजॉर्ट को सील किया है। सवाल पूछा जा सकता है कि क्या यह कदम पर्याप्त है?
जानकार लोग बताते हैं कि ज्यादातर रिजॉर्ट ने सीवेज डिस्पोजल का मुक्कमल इंतजाम तक नहीं किया है जबकि सबने प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड से एनओसी ले रखी है, यानी यह बोर्ड भी मौके पर जाने की जरूरत नहीं समझता। केवल फीस लेकर सर्टिफिकेट जारी कर देता है।
निष्कर्ष यह कि सरकार की नजर राजस्व अर्जित करने पर टिकी है और उत्तराखंड की संस्कृति तार – तार हो रही है। उत्तराखंड के दशक की क्या यही बानगी है? सवाल तो अपनी जगह पर कायम है। रिजॉर्ट शुकून के लिए होते हैं, उन्हें अय्याशी का अड्डा बनने की छूट तो नहीं दी जा सकती और न ही यह पर्यटन का स्वस्थ रूप ही है।

नैनीताल जिले के धानाचूली क्षेत्र में 5 रिजॉर्ट सील

देहरादून, 24   सितम्बर (सू.ब्यूरो)।  मुख्यमंत्री धामी के निर्देश पर नैनीताल जिले के धानाचूली क्षेत्र में 5 रिजॉर्ट को सील किया गया है। जिला प्रशासन द्वारा शनिवार को विभिन्न होमस्टे एवं रिज़ॉर्ट की जाँच की गई, तय मानकों में खामियां पाए जाने पर जिलाधिकारी के निर्देशों पर एक ही दिन में 5 रिज़ॉर्ट को सील किया गया है।
गौरतलब है कि पौड़ी के लक्ष्मण झूला में हुई घटना के बाद मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने शुक्रवार देर शाम सभी जिलाधिकारियों को तमाम होटल और रिज़ॉर्ट की स्क्रूटनी करने के निर्देश दिए थे। मुख्यमंत्री ने स्पष्ट शब्दों में यह ये निर्देश दिए थे कि यदि किसी भी होमस्टे रिजॉर्ट में किसी प्रकार के खामी पाई जाती है तो उस पर तत्काल कार्रवाई की जाए। मुख्यमंत्री के निर्देशों के बाद प्रदेश के अन्य जनपदों में भी कार्यवाही जारी है।
ताज़ा मामले में ऋषिकेश लक्ष्मण झूला में अंकिता हत्याकांड के आरोपी रिज़ॉर्ट मालिक की गिरफ्तारी के बाद मुख्यमंत्री के निर्देश पर रिजॉर्ट को ध्वस्तीकरण की कार्रवाई कर दी गई। मुख्यमंत्री या यह संदेश है कि गलत करने वाले की जगह सिर्फ़ जेल में है। (सूचना विभाग की विग्यप्ति )

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!